Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

Bihar Board Class 12 Geography प्राथमिक क्रियाएँ Textbook Questions and Answers

(क) नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर चुनिए:

प्रश्न 1.
निम्न में से कौन-सी रोपण फसल नहीं है?
(क) कॉफी
(ख) गन्ना
(ग) गेहूँ
(घ) रबड़
उत्तर:
(ग) गेहूँ

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 2.
निम्न देशों में से किस देश में सहकारी कृषि का सफल परीक्षण किया गया है?
(क) रूस
(ख) डेनमार्क
(ग) भारत
(घ) नीदरलैंड
उत्तर:
(ख) डेनमार्क

प्रश्न 3.
फूलों की कृषि कहलाती है
(क) ट्रक फार्मिग
(ख) कारखाना कृषि
(ग) मिश्रित कृषि
(घ) पुष्पोत्पादन
उत्तर:
(घ) पुष्पोत्पादन

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 4.
निम्न में से कौन-सी कृषि के प्रकार का विकास यूरोपीय औपनिवेशिक समूहों द्वारा किया गया?
(क) कोलखोज
(ख) अंगूरोत्पादन
(ग) मिश्रित कृषि
(घ) रोपण कृषि
उत्तर:
(घ) रोपण कृषि

प्रश्न 5.
निम्न प्रदेशों में से किसमें विस्तृत वाणिज्य अनाज कृषि नहीं की जाती है?
(क) अमेरिका एवं कनाडा के प्रेयरी क्षेत्र
(ख) अर्जेंटाइना के पंपास क्षेत्र
(ग) यूरोपीय स्टैपीज क्षेत्र
(घ) अमेजन बेसिन
उत्तर:
(घ) अमेजन बेसिन

प्रश्न 6.
निम्न में से किस प्रकार की कृषि में खड़े रसदार फलों की कृषि की जाती है?
(क) बाजारीय सब्जी कृषि
(ख) भूमध्यसागरीय कृषि
(ग) रोपण कृषि
(घ) सहकारी कृषि
उत्तर:
(ख) भूमध्यसागरीय कृषि

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 7.
निम्न कृषि के प्रकारों में से कौन-सा प्रकार कर्तन-दहन कृषि का प्रकार है?
(क) विस्तृत जीवन निर्वाह कृषि
(ख) आदिकालीन निर्वाहक कृषि
(ग) विस्तृत वाणिज्य अनाज कृषि
(घ) मिश्रित कृषि
उत्तर:
(ख) आदिकालीन निर्वाहक कृषि

प्रश्न 8.
निम्न में से कौन-सी एकल कृषि नहीं है?
(क) डेरी कृषि
(ख) मिश्रित कृषि
(ग) रोपण कृषि
(घ) वाणिज्य अनाज कृषि
उत्तर:
(क) डेरी कृषि

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए

प्रश्न 1.
स्थानांतरी कृषि का भविष्य अच्छा नहीं है। विवेचना कीजिए।
उत्तर:
इस प्रकार की कृषि में बोए गए खेत बहुत छोटे होते हैं एवं खेती भी पुराने औजार जैसे लकड़ी, कुदाली एवं फावड़े द्वारा की जाती है। कुछ समय पश्चात् मिट्टी का उपजाऊपन समाप्त हो जाता है। तब कृषक नए क्षेत्र में वन जलाकर कृषि के लिए भूमि तैयार करता है। इस प्रकार की कृषि की सबसे बड़ी समस्या भूमि की उर्वरता कम होती जाती है।

प्रश्न 2.
बाजारीय सब्जी कृषि नगरीय क्षेत्रों के समीप ही क्यों की जाती है?
उत्तर:
क्योंकि इस प्रकार की कृषि में अधिक मुद्रा मिलने वाली फसलें जैसे सब्जियाँ, फल एवं पुष्प लगाए जाते हैं, जिनकी माँग नगरीय क्षेत्रों में होती है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 3.
विस्तृत पैमाने पर डेरी कृषि का विकास यातायात के साधनों एवं प्रशीतकों के विकास के बाद ही क्यों संभव हो सका है?
उत्तर:
क्योंकि विकसित यातायात के साधन, प्रशीतकों का उपयोग, पास्तेरीकरण की सुविधा के कारण विभिन्न डेरी उत्पादों को अधिक समय तक रखा जा सकता है।

(ग) निम्न प्रश्नों का 150 शब्दों में उत्तर दीजिए।

प्रश्न 1.
चलवासी पशुचारण और वाणिज्य पशुधन पालन में अंतर कीजिए।
उत्तर:
चलवासी पशुचारण एक प्राचीन जीवन-निर्वाह व्यवसाय रहा है। जिसमें पशुचारक अपने भोजन, वस्त्र, शरण, औजार एवं यातायात के लिए पशुओं पर ही निर्भर रहता था। वे अपने पालतू पशुओं के साथ पानी एवं चरागाह की उपलब्धता एवं गुणवत्ता के अनुसार एक ही स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानातरित होते रहते थे। चलवासी पशुचारण क्षेत्रों में कई प्रकार के पशु पाले जाते हैं। उष्णकटिबंधीय अफ्रीका में गाय-बैल प्रमुख पशु हैं, जबकि सहारा एवं एशिया के मरुस्थलों में भेड़ बकरी एवं ऊँट पाला जाता है। तिब्बत एवं एंडीज के पर्वतीय भागों में यॉक व लामा एवं आर्कटिक और उप उत्तरी ध्रुवीय क्षेत्रों में रेडियर पाला जाता है।

चलवासी पशुचारण की अपेक्षाकृत वाणिज्य पशुधन पालन अधिक व्यवस्थित एवं पूँजी प्रधान है। वाणिज्य पशुधन पालन पश्चिम से प्रभावित है एवं फार्म भी स्थायी होते हैं। यह फार्म विशाल क्षेत्र पर फैले होते हैं एवं संपूर्ण क्षेत्र को छोटी-छोटी इकाइयों में विभाजित कर दिया जाता है। चराई को नियंत्रित करने के लिए इन्हें बाड़ लगाकर एक दूसरे से अलग कर दिया जाता है।

जब चराई के कारण एक छोटे क्षेत्र की घास समाप्त हो जाती है तब पशुओं को दूसरे छोटे क्षेत्र में ले जाया जाता है। वाणिज्य पशुधन पालन में पशुओं की संख्या भी चरागाह की वहन क्षमता के अनुसार रखी जाती है। यह एक विशिष्ट गतिविधि है, जिसमें केवल एक ही प्रकार के पशु पाले जाते हैं। प्रमुख पशुओं में भेड़, बकरी, गाय-बैल एवं घोड़े हैं। इनसे माँस, खालें तथा ऊन वैज्ञानिक ढंग से प्राप्त कर विश्व के बाजारों में निर्यात किया जाता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 2.
रोपण कृषि की मुख्य विशेषताएँ बतलाइए एवं भिन्न-भिन्न देशों में उगाई जाने वाली कुछ प्रमुख रोपण फसलों के नाम बतलाइए।
उत्तर:
इस कृषि की प्रमुख विशेषता यह है कि इसमें कृषि क्षेत्र का आकार बहुत विस्तृत होता है। इसमें अधिक पूँजी निवेश, उच्च प्रबंध एवं तकनीकी आधार एवं वैज्ञानिक विधियों का प्रयोग किया जाता है। यह एक फसली कृषि है जिसमें किसी एक फसल के उत्पादन पर ही सकेंद्रण किया जाता है। श्रमिक सस्ते मिल जाते हैं एवं यातायात विकसित होता है जिसके द्वारा बागान एवं बाजार सुचारू रूप से जुड़ रहते हैं।

पश्चिमी अफ्रीका में कॉफी एवं कोकोआ, भारत एवं श्रीलंका में चाय, मलेशिया में रबड़ एवं पश्चिमी द्वीप समूह में गन्ना और केले की रोपण फसल उगाई जाती है। फिलीपाइंस में नारियल व गन्ने, इंडोनेशिया में गन्ना तथा ब्राजील में कॉफी आदि की रोपण फसल उगाई जाती है।

Bihar Board Class 12 Geography प्राथमिक क्रियाएँ Additional Important Questions and Answers

अति लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
स्थानान्तरी कृषि किसे कहते हैं?
उत्तर:
कृषि के सबसे आदिम स्वरूप को स्थानान्तरी कृषि कहते हैं।

प्रश्न 2.
रोपण कृषि का मुख्य उद्देश्य क्या था?
उत्तर:
रोपण कृषि का मुख्य उद्देश्य निर्यात अथवा व्यापार द्वारा धन अर्जित करना था।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 3.
कृषि उत्पादन में किस कारण वृद्धि हुई?
उत्तर:
कृषि उत्पादन में वृद्धि पौधों के विसरण तथा कृषि के औद्योगिकरण से हुई है।

प्रश्न 4. कौन से कारक फसल विशेष के लिए सामान्य सीमायें निर्धारित करते हैं?
उत्तर:
जलवायु, मिट्टी तथा उच्चावच ऐसे कारक हैं जो मिलकर फसल विशेष के लिए सामान्य सीमायें निर्धारित करते हैं।

प्रश्न 5.
विकासशील देशों में कितने प्रतिशत लोगों का व्यवसाय कृषि है?
उत्तर:
लगभग 65 प्रतिशत से अधिक लोगों का व्यवसाय कृषि है।

प्रश्न 6.
सर्वप्रथम मनुष्य ने कब खेती करना प्रारंभ किया था?
उत्तर:
लगभग 12 हजार वर्ष पहले।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 7.
दक्षिण-पश्चिम एशिया तथा पूर्वी भूमध्यसागरीय प्रदेश किस कारण महत्त्वपूर्ण हैं?
उत्तर:
गेंहू, जौ, तिल, मटर, अंजीर, जैतून, खजूर, लहसुन, बादाम, गाय, बैल, भेड़ और बकरियों आदि के लिए।

प्रश्न 8.
वाणिज्य डेरी कृषि के तीन प्रमुख क्षेत्र कौन-कौन से हैं?
उत्तर:

  1. उत्तरी पश्चिमी यूरोप
  2. कनाडा एवं
  3. न्यूजीलैंड, दक्षिणी पूर्वी आस्ट्रेलिया एवं तस्मानिया।

प्रश्न 9.
डेरी कृषि का कार्य नगरीय एवं औद्योगिक केन्द्रों के पास क्यों किया जाता है?
उत्तर:
क्योंकि ये क्षेत्र ताजा दूध एवं अन्य डेरी उत्पाद के अच्छे बाजार होते हैं वर्तमान समय में विकसित यातायात के साधन, प्रशीतकों का उपयोग, पास्तेरीकरण की सुविधा के कारण विभिन्न डेरी उत्पादों को अधिक समय तक रखा जा सकता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 10.
मिश्रित कृषि क्या है?
उत्तर:
इस प्रकार की कृषि में खेतों का आकार मध्यम होता है। इसमें बोई जाने वाली फसलें गेहूँ, नौ, राई, जई, मक्का , चारे की फसल एवं कंद-मूल प्रमुख हैं।

प्रश्न 11.
रोपण कृषि में बोई जाने वाली फसलें कौन-कौन सी हैं?
उत्तर:
चाय, कॉफी, कोको, रबड़, कपास, गन्ना, केले एवं अन्नानास आदि।

प्रश्न 12.
तापमान की आवश्यकता के आधार पर फसलों को कितने भागों में विभाजित किया जा सकता है ?
उत्तर:

  1. उष्ण कटिबंध के उच्च तापमान में उगने वाली फसलें।
  2. उप-उष्ण एवं शीतोष्ण क्षेत्रों के निम्न तापमान वाली दशाओं में उगने वाली फसलें।

प्रश्न 13.
1 किग्रा, चावल उत्पन्न करने के लिए कितनी मात्रा में जल की आवश्यकता होती है।
उत्तर:
10,000 किग्रा. पानी आवश्यक होता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 14.
संसार की खाद्य आपूर्ति में कौन-कौन सी फसलों का प्रभुत्व है?
उत्तर:
गेहूँ, चावल, मक्का, आलू तथा कसावा हैं।

प्रश्न 15.
भोजन संग्रह विश्व के किन भागों में किया जाता है?
उत्तर:

  1. उच्च अक्षांश के क्षेत्र जिसमें उत्तरी कनाडा, उत्तरी यूरेशिया एवं दक्षिणी चिली आते हैं।
  2. निम्न अक्षांश के क्षेत्र जिसमें अमेजन बेसिन, उष्ण कटिबंधीय अफ्रीका, आस्ट्रेलिया एवं दक्षिणी पूर्वी एशिया का आंतरिक प्रदेश आता है।

प्रश्न 16.
निर्वाह कृषि क्या है?
उत्तर:
इस प्रकार की कृषि में कृषि क्षेत्र में रहने वाले स्थानीय उत्पादों का संपूर्ण अथवा लगभग का उपयोग करते हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
फसल के उत्पादन पर तापमान का क्या प्रभाव पड़ता है?
उत्तर:
तापमान फसलों के वितरण को प्रभावित करने वाला एक महत्त्वपूर्ण नियंत्रक है, क्योंकि उपयुक्त तापमान की दशायें बीजों के अंकुरण तथा पौधों की सफलतापूर्वक वृद्धि हेतु आवश्यक होता है। तापमान की आवश्यकता के आधार पर फसलों के दो वर्गों में विभाजित किया जा सकता है –

  1. उष्ण कटिबंध के उच्च तापमान वाली फसलें।
  2. उप-उष्ण एवं शीतोष्ण क्षेत्रों के निम्न तापमान वाली फसलें।

उष्ण कटिबंधीय फसलें-जो उच्च तापमान की दशाओं में विसरित होने वाली फसलें (31°C से 37°C तक)। ये फसलें, शून्य तापमान से नीचे तथा पाला पड़ने पर नष्ट हो सकती हैं। उनमें से कुछ शीत से इतनी अधिक प्रभावित होती हैं कि वे 10°C से कम तापमान पर ही नष्ट हो जायेगी।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 2.
वर्षा फसलों की वृद्धि को किस प्रकार प्रभावित करती है?
उत्तर:
वर्षा से मिट्टी को नमी प्राप्त होती है जो फसलों की वृद्धि के लिए आवश्यक होती है। प्रत्येक पौधे की एक जड़-प्रणाली होती है जो एक बड़े सतह क्षेत्र पर फैलती है तथा नीचे की मिट्टी से जल सोखती रहती है। फसलों के लिए जल की आवश्यकता में अंतर पाया जाता है। एक किलो गेहूँ को उत्पन्न करने के लिए लगभग 1500 किग्रा. जल की आवश्यकता होती है जबकि इतनी ही मात्रा में चावल के उत्पादन में 10,000 किग्रा पानी की आवश्यकता होती है।

समुचित जल की मात्रा के अभाव में पौधों को पैदा नहीं किया जा सकता है। जल आपूर्ति की मात्रा में वृद्धि के अनुपात में फसलों के उत्पादन में भी वृद्धि होगी। इसके विपरीत, यदि पौधों को आवश्यकता से अधिक जल की आपूर्ति होती है, तो फसल के उत्पादन में कमी होगी। प्रत्येक फसल के लिए जल की एक निश्चित मात्रा की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए खर तथा चाय हेतु 150 सेमी. वार्षिक वर्षा चाहिए। दूसरी ओर 25 से 100 सेमी. वार्षिक वर्षा वाले प्रदेशों में गेहूँ उत्पन्न किया जा सकता है। पृथ्वी तल सतह का 50 प्रतिशत से अधिक भू-भाग, 25 से 100 सेमी. वार्षिक वर्षा प्राप्त करते हैं। इसलिए गेहूँ सबसे अधिक क्षेत्र पर पैदा की जाने वाली फसल है।

प्रश्न 3.
कुछ विशेष रूप से महत्त्वपूर्ण स्थानों का वर्णन करो।
उत्तर:
पृथ्वी पर पौधों एवं पशुओं को पालतू बनाने की प्रक्रिया कई स्थानों पर सम्पन्न हुई, फिर भी कुछ स्थान महत्त्वपूर्ण हैं –

  1. दक्षिण: पश्चिम एशिया तथा पूर्वी भूमध्यसागरीय प्रदेश-जौ, तिल, गेहूँ, मटर, अंजीर, जैतून, खजूर, लहसुन, बादाम, गाय, बैल, भेड़ और बकरियों के लिए महत्त्वपूर्ण हैं।
  2. दक्षिण: पूर्वी एशिया-आम, वनस्पति, संस्कृति, अर्था खालू, साबूदाना और केला जैसे उगे हुए पौधों को काटना एवं उनका रोपण करना, सुअर, मुर्गी बत्तख आदि के लिए महत्त्वपूर्ण है।
  3. चीन: चावल, ज्वार, बाजरा, सोयाबिन, चाय, प्याज, पालक तथा शहतूत, सुअर, मुर्गियाँ तथा बत्तख आदि के लिए महत्त्वपूर्ण हैं।
  4. भारत: चावल, चना, बैंगन, मिर्च, नींबू, जूट और नील आदि गाय, बैल, भैंसे, मुर्गियों के लिए महत्त्वपूर्ण हैं।
  5. अफ्रीका: रतालू, तैलताड़, कहवा, सोरधम।
  6. उत्तर व दक्षिण अमेरिका: मक्का तथा सेम मध्य अमेरिका में, कसावा और कोको अमेजन बेसिन में तथा एंडीज में आलू और लाभ।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 4.
स्थानान्तरी कृषि किसे कहते हैं? यह किस भाग में पाई जाती है?
उत्तर:
कृषि के प्रारंभ चलवासी पशुचारसा के स्थान पर से अपेक्षाकृत स्थायी जीवन की शुरूआत हुई कृषि के सबसे आदिम स्वरूप को स्थानान्तरी कृषि कहते हैं। इस प्रकार की कृषि अभी संसार के कुछ भागों में प्रचलित है। यह मुख्यत: उष्ण कटिबंधीय वनों में अपनाई जाती है। इस प्रकार की कृषि में वनों को साफ करने के लिए वृक्षों को काटकर उन्हें जला दिया जाता है। इन खेतों में पहले से तैयार की गई फसलों को रोपते हैं। कुछ वर्षों तक फसलों का उत्पादन करने के पश्चात् इनकी मिट्टी अनुपजाऊ हो जाती है। तब इन खेतों को परती छोड़ दिया जाता है तथा नये स्थानों की सफाई की जाती है। स्थानान्तरी कृषि की प्रकृति प्रवासी होती है। इसने लोगों को एक स्थान पर अधिक समय तक स्थायी रूप से रहने के लिए प्रेरित किया।

प्रश्न 5.
स्थायी कृषि प्रणाली का संसार में कैसे विस्तार हुआ?
उत्तर:
धीरे-धीरे अनुकूल जलवायु एवं उपजाऊ मिट्टी वाले क्षेत्रों में धीरे-धीरे स्थायी खेतों तथा गाँवों में स्थायी कृषि प्रणाली का उदय हुआ। उपजाऊ नदी घाटियों जैसे दगला-फरात, नील, सिंधु, हांगहो, तथा चेंग-जिआंग में लगभग 6 हजार वर्ष पूर्व स्थायी कृषि के आधार पर महान सभ्यताओं का निर्माण हुआ। धीरे-धीरे इस स्थायी कृषि प्रणाली का संसार के अधिकांश भागों में विस्तार हुआ।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 6.
पौधों के विसरण तथा कृषि के औद्योगिकरण का कृषि पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
पौधों के विसरण तथा कृषि के औद्योगिकरण से कृषि उत्पादन अत्यधिक बढ़ा। इसके फलस्वरूप कृषि में श्रमिकों की माँग कम होने से बड़ी संख्या में श्रमिकों ने दूसरी आर्थिक क्रियाओं को अपनाया, क्योंकि कम लोगों के साथ मशीनों द्वारा अधिक उत्पादन किया जाना संभव हुआ। इस प्रकार संसार के औद्योगिक देशों द्वारा आर्थिक विकास के संकेत के रूप में जनसंख्या के क्रम से प्राथमिक कार्यों से द्वितीयक तथा तृतीयक कार्यों की ओर स्पष्ट स्थानांतरण देखा गया। यद्यपि विकासशील देशों में जन रोजगार संरचना में प्राथमिक से सीधे तृतीयक क्षेत्र में बदला।

प्रश्न 7.
‘उत्पादन दक्षता’ किस प्रकार प्राप्त की जा सकती है?
उत्तर:
‘उत्पादन दक्षता’ दो प्रकार से प्राप्त की जाती है –
1. उन्नत निवेश जैसे बीज उर्वरक तथा फफूंदीनाशी का प्रयोग जिससे अधिक उपज प्रोत्साहित हो, एवं

2. विशिष्टीकृत मशीनरी (के प्रयोग से) उत्पादन में तीव्रता आती है तथा फसल बोने, सिंचाई करने तथा तैयार फसल कटाई एवम् उसके पश्चात् के कृषि कार्यों में लगने वाले श्रमिकों की संख्या में कमी होती है। संयुक्त राज्य में कृषि का उत्पादन दो गुणा हो गया है, जबकि यहाँ कृषि करने वालों की संख्या में तीन गुना से अधिक की कमी हुई है। श्रमिकों की संख्या में कमी यह दर्शाती है कि फार्म, खेत तथा पशु समूह बड़े होते चले जा रहे हैं। इससे, इस प्रकार श्रमिक तथा उत्पादन लागत में अधिक बचत होती है।

प्रश्न 8.
खनन कार्य को प्रभावित करने वाले कारक कौन-कौन से हैं?
उत्तर:

  1. भौतिक कारक-खनिज निक्षेपों के आकार, श्रेणी एवं उपस्थिति की अवस्था को सम्मिलित करते हैं।
  2. आर्थिक कारक-जिसमें खनिज की माँग, विद्यमान तकनीकी ज्ञान एवं उसका उपयोग, अवसंरचना के विकास के लिए उपलब्ध पूँजी एवं यातायात व श्रम पर होने वाला व्यय आता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 9.
पोषक तत्त्व कितने प्रकार के हैं? पोषक तत्त्वों का तीव्र पुनर्स्थापन किस प्रकार किया जाता है?
उत्तर:
प्रमुख पोषक तत्त्व छः प्रकार के हैं। नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाशियम, कैल्सियम, मैग्नीशियम तथा सल्फर। इसके अतिरिक्त लोहा तथा अल्पमात्रा में बोरॉन व आयोडीन जैसे तत्त्वों की भी पौधों का अल्पमात्रा में आवश्यकता पड़ती है। विभिन्न प्रकार की मिट्टी में पोषण-क्षमता अत्यधिक भिन्न होती है।

उष्ण कटिबंधीय प्रदेशों में उच्च वर्षा के कारण पोषक तत्त्व सरलतापूर्वक घुलकर बह जाते हैं। शीतोष्ण प्रदेशों में मिट्टी में पोषक तत्त्वों की मात्रा अधिक होती हैं। पौधों तथा पशु-जैविकों के विघटन से मिट्टी में पोषक तत्त्वों का प्राकृतिक पुनर्स्थापन होता रहता है। लेकिन यह धीमी प्रक्रिया है। पोषक तत्त्वों की तीव्र पुनर्स्थापना के लिए मिट्टी में रसायनिक उर्वरकों मुख्यत: नाइट्रोजन, फास्फोरस तथा पोटाशियम को मिलाया जाता है।

प्रश्न 10.
फसलों का वर्गीकरण किस आधार पर किया जाता है?
उत्तर:
फसलों को उनके विभिन्न उपयोगों के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है, जैसे-खाद्यान्न, दलहन, तिलहन, रेशेदार और पेय। फसलों के विभाजन की दूसरी विधि इन्हें खाद्य फसलों तथा अखाद्य फसलों के वर्गों में रखना है।

खाद्य फसलें:
संसार की जनसंख्या के लिये भोजन की प्राप्ति मुख्यतः पौधों द्वारा ही होती है। इन फसलों की तीन विशेषताएँ हैं – प्रति इकाई भूमि पर अधिक उत्पादन, उच्च भोजन मूल्य और संग्रह की योग्यता। संसार की खाद्य आपूर्ति में पाँच फसलों का ही महत्त्व है-गेहूँ, चावल, मक्का, आलू तथा कसावा। इसके अतिरिक्त गन्ना, चुकन्दर, कहवा, जौं, राई, तिलहन, दलहन भी खाद्य फसलें हैं। अखाद्य फसलें-रेशेदार फसलें जैसे कपास तथा जूट, रबड़ एवं तम्बाकू महत्त्वपूर्ण अखाद्य फसलें हैं।

प्रश्न 11.
कृषि भूमि की अधिकतम सीमा का निर्धारण तथा भू-उपयोग का वर्णन करें।
उत्तर:
संसार में कृषि के अंतर्गत कुछ सीमित क्षेत्र ही पाया जाता है। जलवायु, दाल, मिट्टी तथा कीड़े मकोड़े अपेक्षाकृत कुल भू-उपयोग के कम प्रतिशत कृषि क्षेत्र को सीमित करते हैं। इसके अधिक बड़े क्षेत्र को चारागाह तथा वनों के रूप में उपयोग होता है।

सारणी: विश्वस्तर पर भू-उपयोग परिवर्तन-क्षेत्रफल दस लाख हेक्टेयर में।
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 1
वर्तमान में, विश्व कुल क्षेत्रफल का 32 प्रतिशत वनों के अंतर्गत 26 प्रतिशत चारागाह, एक प्रतिशत स्थायी फसलें, 10 खेती योग्य तथा 26 प्रतिशत अन्य उपयोगों के अंतर्गत पाया जाता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 12.
सामूहिक कृषि पर टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
सभी कृषक अपने संसाधन जैसे भूमि, पशुधन एवं श्रम को मिलाकर कृषि कार्य करते हैं। ये अपनी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए भूमि का छोटा-सा भाग अपने अधिकार में भी रखते हैं। सरकार उत्पादन का वार्षिक लक्ष्य निर्धारित करती है एवं उत्पादन को सरकारी ही निर्धारित मूल्य पर खरीदती है। लक्ष्य से अधिक उत्पन्न होने वाला भाग सभी सदस्यों को वितरित कर दिया जाता है या बाजार में बेच दिया जाता है। उत्पादन एवं भाड़े पर ली गई मशीनों पर कृषकों को कर चुकाना पड़ता है। सभी सदस्यों को उनके द्वारा किए गए कार्य की प्रकृति के आधार पर भुगतान किया जाता है। असाधारण कार्य करने वाले सदस्य को नकद या माल के रूप में पुरस्कृत किया जाता है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
स्थानान्तरी कृषि तथा स्थानबद्ध कृषि में अंतर स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
स्थानान्तरी कृषि तथा स्थानबद्ध कृषि में अंतर-कृषि के प्रारंभ से चलवासी पशुचारण के स्थान पर अपेक्षाकृत स्थायी जीवन की शुरूआत हुई। कृषि के इस सबसे आदिम स्वरूप को स्थानान्तरी कृषि कहते हैं, जो अभी भी संसार के कुछ भागों में प्रचलित है। यह मुख्यतः उष्ण कटिबंधीय वनों में अपनायी जाती है। इस प्रकार की कृषि में वनों को साफ करने के लिए वृक्षों को काटकर उन्हें जला दिया जाता है। इन खेतों में पहले से तैयार की गयी फसलों को रोपते हैं। कुछ वर्षों तक फसलों का उत्पादन करने के पश्चात् इनकी मिट्टी अनुपजाऊ हो सकती है।

तब इन खेतों को परती छोड़ दिया जाता है तथा वन में नए स्थानों की सफाई की जाती है। ऐसी खेती को संसार के विभिन्न भागों में भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है। जैसे उत्तरी-पूर्वी भारत में झूमिंग, फिलिपीन्स में चैंजिन, ब्राजील में रोका तथा जायरे में मसोलें कहते हैं। यद्यपि स्थानांतरी कृषि की प्रकृति प्रवासी होती है, इसने लोगों को एक स्थान पर अधिक समय तक स्थायी रूप से रहने के लिए प्रेरित किया। तत्पश्चात् धीरे-धीरे अनुकूल जलवायु एवं उपजाऊ मिट्टी वाले क्षेत्रों में धीरे-धीरे स्थायी खेतों तथा गाँवों में स्थायी कृषि प्रणाली का उदय हुआ। उपजाऊ नदी घाटियों जैसे दगला-फरात, नील, सिंधु हांगहो तथा चेंग जिआंग में लगभग 6 हजार वर्ष पूर्व स्थायी कृषि के आधार पर महान सभ्यताओं का निर्माण हुआ। धीरे-धीरे इस स्थायी कृषि प्रणाली का संसार के अधिकांश भागों में विस्तार हुआ।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 2.
जीविकोपार्जी अथवा जीविका कृषि का संक्षेप में वर्णन करें।
उत्तर:
इस कृषि में कृषक अपनी तथा अपने परिवार के सदस्यों की उदरपूर्ति के लिए फसलें उगाता है। कृषक अपने उपयोग के लिए वे सभी फसलें पैदा करता है जिनकी उसे आवश्यकता होती है। अतः इस कृषि में फसलों का विशिष्टीकरण नहीं होता। इनमें धान्य, दलहन, तिलहन तथा सन सभी का समावेश होता है। विश्व में जीविकोपार्जी कृषि के दो रूप पाए जाते हैं:
(क) आदिम जीविकोपार्जी कृषि जो स्थानान्तरी कृषि के समरूप है।
(ख) गहन जीविकोपार्जी कृषि जो पूर्वी तथा मानसून एशिया में प्रचलित है। चावल सबसे महत्त्वपूर्ण फसल है। कम वर्षा वाले क्षेत्रों में गेहूँ, जौं, मक्का, ज्वार, बाजरा, सोयाबीन, दालें तथा तिलहन बोये जाते हैं। यह कृषि भारत, चीन, उत्तरी कोरिया तथा मयनमार में की जाती है। इस कृषि के महत्त्वपूर्ण लक्षण निम्नलिखित हैं –

  1. जोत बहुत छोटे आकार की होती है।
  2. कृषि भूमि पर जनसंख्या के अधिक दाब के कारण भूमि का गहनतम उपयोग होता है।
  3. कृषि की गहनता इतनी अधिक है कि वर्ष में दो, तीन तथा कहीं-कहीं चार फसलें भी ली जाती हैं।
  4. मशीनीकरण के अभाव तथा जनसंख्या के कारण मानवीय श्रम का बड़े पैमाने पर उपयोग होता है।
  5. कृषि के उपकरण बड़े साधारण तथा परम्परागत होते हैं परंतु पिछले कुछ वर्षों से जापान, चीन तथा उत्तरी कोरिया में मशीनों का प्रयोग भी होने लगा है।
  6. अधिक जनसंख्या के कारण मुख्यतः खाद्य फसलें ही उगाई जाती हैं और चारे की फसलों तथा पशुओं को विशेष स्थान नहीं मिलता।
  7. गहन कृषि के कारण मिट्टी की उर्वरता समाप्त हो जाती है। मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बनाए रखने के लिए हरी खाद, गोबर, कम्पोस्ट तथा रसायनिक उर्वरकों का प्रयोग किया जाता है। जापान में प्रति हेक्टेयर रसायनिक उर्वरक सबसे अधिक डाले जाते हैं।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 3.
विस्तृत कृषि किसे कहते हैं? विस्तार से बताएँ।
उत्तर:
विस्तृत कृषि एक मशीनीकृत कृषि है जिसमें खेतों का आकार बड़ा, मानवीय श्रम कम, प्रति हेक्टेयर उपज कम और प्रति व्यक्ति तथा कुल उपज अधिक होती है। यह कृषि मुख्यतः शीतोष्ण कटिबंधीय कम जनसंख्या वाले प्रदेशों में की जाती है। इन प्रदेशों में पहले चलवासी चरवाहे पशुचारण का कार्य करते थे और बाद में यहाँ स्थायी कृषि होने लगी। इन प्रदेशों में वार्षिक वर्षा 30 से 60 सेमी. होती है। जिस वर्ष वर्षा कम होती है उस वर्ष फसल को हानि पहुँचती है।

यह कृषि उन्नीसवीं शताब्दी के आरंभ में शुरू हुई। इस कृषि का विकास कृषि यंत्रों तथा महाद्वीपीय रेलमार्गों के विकसित हो जाने से हुआ है। विस्तृत कृषि मुख्यत: रूस तथा यूक्रेन के स्टेपीज (Steppes), कनाडा तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रेयरीज (Prairies), अर्जेण्टीना के पम्पास (Pampas of Argentina), तथा आस्ट्रेलिया के डाउन्स (Downs of Australia) में की जाती है।

विस्तृत कृषि के मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं –

  1. खेत बहुत ही बड़े आकार के होते हैं। इनका क्षेत्रफल प्राय: 240 से 1600 हेक्टेयर तक होता है।
  2. बस्तियाँ बहुत छोटी तथा एक दूसरे से दूर स्थित होती है।
  3. खेत तैयार करने से फसल काटने तक का सारा काम मशीनों द्वारा किया जाता है। ट्रैक्टर, ड्रिल, कम्बाइन, हार्वेस्टर, थ्रेसर और विनोअर मुख्य कृषि यंत्र हैं।
  4. मुख्य फसल गेहूँ है। अन्य फसलें हैं-जौं, जई, राई, फ्लैक्स तथा तिलहन।
  5. खाद्यान्नों को सुरक्षित रखने के लिए बड़े-बड़े गोदाम बनाए जाते हैं जिन्हें साइलो या एलीवर्टस कहते हैं।
  6. यांत्रिक कृषि होने के कारण श्रमिकों की संख्या कम होती है।
  7. प्रति हेक्टेयर उपज कम तथा प्रति-व्यक्ति उपज अधिक होती है।

जनसंख्या में निरंतर वृद्धि के कारण विस्तृत कृषि का क्षेत्र घटता जा रहा है। पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्यूनस आयर्स, आस्ट्रेलिया के तटीय भागों तथा यूक्रेन जैसे घनी जनसंख्या वाले क्षेत्रों से लोग विस्तृत कृषि के क्षेत्रों में आकर बसने लगे हैं। जिससे कृषि का क्षेत्र कम होता जा रहा है। इस प्रकार 19 वीं शताब्दी में शुरू हुई यह कृषि अब बहुत ही सीमित क्षेत्रों में की जाती है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 4.
चाय तथा कहवा की खेती तथा उनके वितरण प्रतिरूप को प्रभावित करने वाली भौगोलिक दशाओं का विश्लेषण कीजिए।
उत्तर:
1. चाय-चाय एक अत्यधिक प्रचलित पेय है जो एक सदाबहार झाड़ी की कोमल पत्तियों से तैयार की जाती है। इसके लिए गर्म तथा आर्द्र जलवायु की आवश्यकता पड़ती है लेकिन इसकी जड़ों में वर्षा का पानी एकत्रित नहीं होना चाहिए। इस प्रकार यह 27° दक्षिणी अक्षांश से 43° उत्तरी अक्षाशों के मध्य पहाड़ी ढलानों पर ही 125 सेमी. से 750 सेंटीमीटर वर्षा पाने वाले क्षेत्रों में उगायी जाती है। चाय के पौधों के लिए उपजाऊ मिट्टी जिसमें ह्यूमस की मात्रा अधिक हो, आवश्यक है।

चाय एक बागानी फसल है। जिसे बड़े चाय-बागानों में उगाया जाता है। चाय की झाड़ी को 40 से 50 सेंटीमीटर से अधिक नहीं बढ़ने दिया जाता है। चाय की झाड़ी की आयु 40 से 50 वर्ष है। मृदा की उर्वरता बनाये रखने के लिए नाइट्रोजन युक्त उर्वरक डालने की उपलब्धता एक आवश्यक कारक होता है। विश्व में चाय के मुख्य उत्पादक देश-भारत, चीन, श्रीलंका, बांग्लादेश, जापान, इंडोनेशिया, अर्जेण्टाइना और कीनिया हैं।

2. कहवा-कहवा भी एक रोपण फसल है जो उष्णकटिबंध के उच्च भागों में समुद्र से 500 से 1500 मीटर की ऊँचाई तक पैदा होता है। कहवा की झाड़ी को पाला बहुत हानि पहुँचाता है। इसीलिए इसे छायादार पेड़ों के नीचे उगाया जाता है। इसके पौधे के लिए उच्च आर्द्रता की आवश्यकता होती है। लगभग 160 सेमी. से 250 सेंटीमीटर वर्षा वाले क्षेत्रों में गहरी, संरघ्र तथा ह्यूमस मुक्त आर्द्रता धारण करने की क्षमता वाली मिट्टी में कहवा को भलीभाँति उगाया जाता है।
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 2

चित्र: भारत-चाय तथा कहवा
ब्राजील कोलम्बिया, बेनेजुएला, गुवाटेमाला, हैटरी, जमैका, इथोपिया तथा इंडोनेशिया इसके मुख्य उत्पादक देश हैं। भारत में कहवा केवल कर्नाटक प्रदेश में ही उगाया जाता है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 5.
चलवासी पशुपालन तथा व्यापारिक पशुपालन में अंतर बताइए। उत्तर-चलवासी पशुपालन तथा व्यापारिक पशुपालन में अंतर बताइए।
उत्तर:
चलवासी पशुपालन तथा व्यापारिक पशुपालन में अंतर –
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 3

चित्र: विश्व के मुख्य पशुचारण क्षेत्र।

संसार के ऊष्ण तथा उपोष्ण घास के मैदानों के पशुपालन तथा पशुचारण आज भी परम्परागत चलवासी पशुचारण अथवा व्यापारिक पशुचारण के रूप में प्रचलित हैं। चलवासी पशुपालन पशुओं पर आधारित जीवन निर्वाह करने की क्रिया है। चूंकि ये लोग स्थायी जीवन नहीं जीते अतः इन्हें चलवासी कहा जाता है। प्रत्येक चलवासी समुदाय एक सुस्पष्ट सीमा क्षेत्र में विचरण करता है। इनके द्वारा अधिग्रहीत क्षेत्र में चारागाह की उपलब्धता तथा जल की आपूर्ति में मौसम के अनुसार परिवर्तनों की पूर्ण जानकारी होती है। ये पशु पूर्णतः प्राकृतिक वनस्पति पर ही निर्भर होते हैं।

लम्बी तथा मुलायम घास वाले क्षेत्रों जहाँ अपेक्षाकृत अधिक वर्षा वाली घास भूमियों पर गाय-बैल आदि पाले जाते हैं। कम वर्षा तथा छोटी घास वाले क्षेत्रों में भेड़ें पाली जाती हैं। ऊबड़-खाबड़ धरातल जहाँ पर घास की मात्रा बहुत कम होती है, वहाँ बकरियाँ अधिक पाली जाती हैं। चलवासी, पशुचारण के अंतर्गत भेड़ें, बकरियाँ, ऊँट, गाय-बैल, घोड़े तथा गधे जैसी छः पशु प्रजातियों का पालन अधिक होता है। चलवासी पशुचारण के सात स्पष्ट क्षेत्र हैं –

  1. उच्च आक्षांशीय उप-अंटार्कटिक
  2. यूरेशिया का स्टेपी क्षेत्र
  3. पर्वतीय दक्षिणी एशिया
  4. मरुस्थल सहारा और अरब, का मरु प्रदेश
  5. उप-सहारा के सवाना प्रदेश
  6. एण्डीज तथा
  7. एशियाई उच्च पठारी-क्षेत्र।

व्यापारिक पशुपालन:
आधुनिक समय में पशुओं का वैज्ञानिक ढंग से पालन किया जाने लगा है। प्राकृतिक चरागाह के स्थान पर अब वे विस्तृत क्षेत्रों पर चारे की फसलों तथा घासों को उगाकर उन पर पशुओं को पाला जा रहा है तथा करने के लिए विशेष नस्ल के पशुओं का पालन हो रहा है। अब पशुओं की नस्ल-सुधार, रोगों की रोकथाम तथा बीमार पशुओं के इलाज आदि की समुचित व्यवस्था होती है। चरागाहों में चारे की खेती, दूध तथा माँस को संबोधित करने, पशु-उत्पादों के डिब्बा बंदी का कार्य मशीन से एवं वैज्ञानिक पद्धति से किया जा रहा है। व्यापारिक स्तर पर बड़े पैमाने पर पशुपालन (रेजिंग) विकसित देशों का विशेष कार्य हो गया है।

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 6.
विश्व में गेहूँ तथा चावल की खेती तथा उनके वितरण प्रतिरूप के लिए आवश्यक भौगोलिक दशाओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
1. चावल:
अनेक मूल प्रजातियों के वृहत् संकेन्द्रण के आधार पर यह समझा जाता है कि चावल का उद्भव पूर्वोत्तर भारत के पूर्वी हिमालय पर्वतीय भागों हिंद-चीन तथा दक्षिण-पश्चिमी चीन से हुआ है। पुरातात्विक साक्ष्यों के आधार पर, चांग-जियांग डेल्टा में, चावल की कृषि का सबसे पहले प्रारंभ 7000 वर्ष पूर्व हुआ था। अगले 6000 वर्षों में इसकी खेती का विस्तार शेष दक्षिणी और पूर्वी एशियाई भागों में हुआ। आज विश्व में लगभग 65 हजार से अधिक स्थानीय किस्मों के चावल की खेती होती है।

चावलं मुख्य रूप से उष्ण आर्द्र जलवायु वाले मानसूनी एशिया की फसल है। परम्परागत रूप से सुप्रवाहित नदी घाटियों एवं डेल्टा क्षेत्रों में ही चावल पैदा किया जाता था। तथापि, सिंचाई की सहायता से अब चावल की खेती उच्च भूमियों तथा शुष्क क्षेत्रों में भी की जा रही है। चावल का पौधा अर्थात् धान के वर्धन काल में उच्च तापक्रम (27° से 30° सैल्सियस) तथा वर्षा की अधिक मात्रा (लगभग 100 सेंटीमीटर) होनी चाहिए वस्तुतः इसके पौधों की प्रारंभिक अवस्था में खेतों में पानी भरा होना चाहिए। इसलिए ढाल के खेतों में 10 से 25 सेंटीमीटर पानी खड़ा रहता है। पर्वतीय क्षेत्रों में सीढ़ीनुमा खेतों में चावल उगाया जाता है। चीकाचुक्त दोमट मिट्टी जिसमें पानी भरा रह सके, इस फसल के लिए सर्वोत्तम मिट्टी है।

चावल की खेती के लिए अधिक संख्या में सस्ते श्रम की आवश्यकता होती है, क्योंकि इसमें अधिकांश कार्य हाथ से करना पड़ता है – जैसे पौधशाला से पौध को निकालना, पानी भरे हुए खेतों में उन्हें रोपना, खेतों से समय-समय पर खर-पतवार निकालना तथा फसल की कटाई आदि। चावल का पोषक मूल्य अधिक होता है। विशेषतः उस समय जब चावल की बाहरी पर्त पर पाये जाने वाले महत्त्वपूर्ण विटामिन तत्त्व को धान की कुटाई के समय हटा नहीं दिया जाता है। संसार की लगभग आधी जनसंख्या का मुख्य भोजन चावल है।

2. गेहूँ-गेहूँ मुख्यतः
शीतोष्ण कटिबंधीय प्रदेश में बोई जाने वाली फसल है। लेकिन अपनी अनुकूलनशीलता के कारण आज गेहूँ का उत्पादन सभी खाद्यान्न फसलों के क्षेत्र से अधिक विस्तृत क्षेत्र पर किया जाने लगा है। आज संसार का कोई विरला ही देश होगा जहाँ यह फसल कुछ न कुछ मात्रा में पैदा न की जाती हो। प्रोटीन तथा कार्बोहाइड्रेट की समुचित मात्रायुक्त गेहूँ एक सर्वाधिक पौष्टिक अन्नों में से एक है।

विश्व के अधिकांश भागों के लोगों के भोजन का यह एक खाद्यान्न है। यद्यपि गेहूँ एक कठोर फसल है लेकिन अधिक गर्मी तथा आर्द्रता वाली जलवायु दशाओं में इसका सफलतापूर्वक उत्पादन नहीं होता है। इसके बीज उगने के समय मौसम ठंडा तथा मिट्टी में आर्द्रता की उपयुक्त मात्रा आवश्यक है। औसत वार्षिक वर्षा 40 से 75 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। फसल पकने के समय तापक्रम लगभग 16° सेल्सियस तथा आकाश साफ होना चाहिए। गेहूँ के लिए दोमट तथा श!जम मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है।
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 4

चित्र: संसार में गेहूँ उत्पादन के मुख्य क्षेत्र।

जलवायु के आधार पर गेहूँ की दो फसलें होती हैं –

1. शीत ऋतु का गेहूँ तथा बसंत ऋतु का गेहूँ। शीत ऋतु का गेहूँ उन क्षेत्रों में बोया जाता है जहाँ शीत ऋतु बहुत कठोर नहीं होती है जबकि बसंत ऋतु का गेहूँ उन क्षेत्रों में बोया जाता है जहाँ शीत ऋतु में अत्यधिक सर्दी पड़ती है। गेहूँ को गुणों के आधार पर भी दो किस्मों में विभाजित किया जाता है-मुलायम तथा कठोर गेहूँ। इनका उत्पादन क्रमशः अधिक आई वाले क्षेत्रों में एवं शुष्क आर्द्रता वाले क्षेत्रों में किया जाता है।

2. यद्यपि गेहूँ की प्रति एकड़ अधिकतम उपज आर्द्र मध्य अक्षांशीय क्षेत्रों में होती है, इसकी उत्पादन की प्रमुख पेटियाँ सूखे अर्द्ध शुष्क जलवायु क्षेत्रों में ही स्थित हैं। सर्वाधिक गेहूँ उत्पादन के प्रमुख क्षेत्र संयुक्त राज्य कनाडा के वृहत् मैदान, स्वतंत्र प्रदेशों का संघ पूर्ण सोवियत संघ के देश स्टेपी तुल्य प्रदेश तथा उत्तरी चीन का मैदान हैं। गेहूँ की खेती गहन तथा विस्तृत कृषि पद्धतियों के अंतर्गत की जाती है। व्यापारिक दृष्टिकोण से वृहत् स्तर पर उत्पादन आस्ट्रेलिया तथा दक्षिणी अमेरिका के पम्पास में भी किया जाता है। यूरोप के लगभग सभी देशों में गेहूँ उत्पन्न किया जाता है। इन सभी देशों में फ्रांस ही सबसे बड़ा उत्पादक तथा एकमात्र निर्यातक देश भी है।

तालिका: चावल, गेहूँ उत्पादन के मुख्य क्षेत्र
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 5

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 7.
संसार के प्रमुख कृषि प्रदेशों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
कृषि प्रदेशों का सबसे प्राचीन लेकिन सबसे संतोषजनक विभाजन 1936 में डी. डिवटेलसी द्वारा प्रस्तुत किया गया था। उन्होंने संसार के कृषि प्रदेशों के विभाजन में 5 आधारों को अपनाया था

  1. फसल तथा पशु सहचर्य
  2. भू-उपयोग की गहनता
  3. कृषि उत्पाद का संसाधन तथा विपणन
  4. मशीनीकरण/यंत्रीकरण का अंश और
  5. कृषि समृद्ध गृहों तथा अन्य संरचनाओं के प्रकार एवं संयोजन।

इस योजना में 13 मुख्य प्रकार के कृषि प्रदेश पहचाने गये थे, जो निम्न हैं –

  1. चलवासी
  2. पशुपालन-फार्म
  3. स्थानान्तरी कृषि
  4. प्रारम्भिक स्थानबद्ध कृषि
  5. गहन जीविकोपार्जी या जीविका कृषि चावल प्रधान
  6. गहन जीविकोणी या जीविका कृषि चावल विहीन
  7. वाणिज्यिक रोपण कृषि
  8. भूमध्य सागरीय कृषि
  9. वाणिज्यिक (अंनोत्पादन) अन्नकृषि
  10. व्यापारिक पशु एवं फसल कृषि
  11. जीविकोपार्जी फसल एवं पशु कृषि
  12. वाणिज्यिक डेयरी कृषि और
  13. विशिष्ट उद्यान कृषि

चित्र में विश्व के प्रमुख कृषि प्रदेशों को सरल रूप में प्रस्तुत करने के उद्देश्य से कुछ कम महत्त्व के प्रदेशों को मिला दिया गया है।Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 6

चित्र: प्रमुख कृषि प्रदेश

उपरोक्त वर्गीकरण के मूल्यांकन के लिए चयन किए गये कारक मात्रात्मक के स्थान पर निष्ठ प्रतीत होते हैं। इसके होते हुए भी हिवटेलसी का यह वर्गीकरण बाद में किए गये प्रयासों के लिए आधार प्रस्तुत करता है। कृषि पद्धतियाँ एवं उत्पादन विशेषताओं की मुख्य विशेषताओं के आधार पर संसार की कृषि पद्धतियों को प्रमुखतः दो वर्गों में जीविका कृषि, कृषि एवं वाणिज्यिक में विभक्त किया जा सकता है, यद्यपि किसी समय विशेष पर इन दोनों के बीच अंतर काफी धूमिल ही होता है।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
भारत में खेती को किस नाम से जाना जाता है?
(A) मसोलें
(B) झूमिंग
(C) चैंजिन
(D) स्थानान्तरी
उत्तर:
(B) झूमिंग

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 2.
सबसे अधिक भू-भाग पर पैदा की जाने वाली फसल है –
(A) रबर
(B) कहवा
(C) गेहूँ
(D) चाय
उत्तर:
(D) चाय

प्रश्न 3.
विश्व के कुल क्षेत्रफल का 40 प्रतिशत भू-भाग
(A) चरागाह
(B) खेती योग्य
(C) वनों के अन्तर्गत
(D) स्थाई फसलें
उत्तर:
(B) खेती योग्य

प्रश्न 4.
गेहूँ मुख्य रूप से –
(A) उष्ण कटिबंधीय फसल
(B) शीतोष्ण कटिबंधीय फसल
(C) भूमध्य रेखीय फसल
(D) कोई भी नहीं
उत्तर:
(B) शीतोष्ण कटिबंधीय फसल

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 5.
सामूहिक कृषि को सोवियत संघ में क्या नाम दिया गया?
(A) कोलखहोज
(B) सामूहिक श्रम
(C) ह्यूमिंग
(D) रोपण कृषि
उत्तर:
(A) कोलखहोज

प्रश्न 6.
ट्रक फार्म एवं बाजार के मध्य की दूरी, जो एक ट्रक रात भर में तय करता है, उसी आधार पर इसको क्या नाम दिया गया?
(A) ट्रक कृषि
(B) मोटर कृषि
(C) कार कृषि
(D) आधुनिक कृषि
उत्तर:
(A) ट्रक कृषि

प्रश्न 7.
पश्चिमी यूरोप एवं उत्तरी अमेरिका के औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यान कृषि के अतिरिक्त और दूसरे प्रकार की कौन-सी कृषि की जाती है?
(A) बाजार कृषि
(B) कारखाना कृषि
(C) वाणिज्य कृषि
(D) डेरी कृषि
उत्तर:
(B) कारखाना कृषि

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 8.
भूमध्यसागरीय क्षेत्र की विशेषता क्या हैं?
(A) अंगूर की कृषि
(B) अंजीर
(C) जैतून
(D) सभी
उत्तर:
(D) सभी

प्रश्न 9.
मिश्रित कृषि निम्न में से कहाँ की जाती है?
(A) उत्तरी पश्चिमी यूरोप
(B) उत्तरी अमेरिका का पूर्वी भाग
(C) यूरेशिया के कुछ भाग
(D) सभी
उत्तर:
(D) सभी

प्रश्न 10.
मिश्रित कृषि में किस प्रकार की फसल उगाई जाती है?
(A) गेहूँ
(B) जौ
(C) राई
(D) सभी
उत्तर:
(D) सभी

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 11.
झमिंग कृषि को मलेशिया और इंडोनेशिया में किस नाम से जाना जाता है?
(A) लादांग
(B) मिल्पा
(C) झूमिंग
(D) सभी
उत्तर:
(A) लादांग

प्रश्न 12.
चाय, कॉफी, कोको, रबड़, कपास, गन्ना, केले एवं अन्नानास किस प्रकार की कृषि के उदाहरण हैं?
(A) वाणिज्य कृषि
(B) रोपण कृषि
(C) गहन निर्वाह कृषि
(D) डेरी कृषि
उत्तर:
(B) रोपण कृषि

Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ

प्रश्न 13.
किस कारण से मानसून एशिया के अनेक भागों में चावल की फसल उगाना संभव नहीं?
(A) उच्चावच
(B) जलवायु
(C) मृदा
(D) सभी
उत्तर:
(D) सभी

प्रश्न 14.
विस्तृत वाणिज्य अनाज कृषि निम्न में से कहाँ की जाती है?
(A) यूरेशिया के स्टेपीज
(B) उत्तरी अमेरिका के प्रेयरीज
(C) अर्जेंटाइना के पंपाज
(D) दक्षिणी अफ्रीका के वेल्डस
(E) आस्ट्रेलिया के डाउंस
(F) सभी
उत्तर:
(F) सभी

भौगोलिक कुशलताएँ

प्रश्न 1.
संसार के रेखा मानचित्र में निम्नलिखित दिखाइए:

  1. आर्कटिक इनुइट, आस्ट्रेलियाई पिनटुपी, दक्षिण भारत के पालियान एवं मध्य एशिया के सेमांग के निवास क्षेत्र।
  2. लौह अयस्क उत्पादन के दो क्षेत्र एक यूरोप में दूसरा एशिया में।
  3. चीन, यूक्रेन और सं. राज्य अमेरिका प्रत्येक में एक कोयला क्षेत्र।

उत्तर:
Bihar Board Class 12 Geography Solutions Chapter 5 प्राथमिक क्रियाएँ img 7

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

Bihar Board Class 12th Hindi Book Solutions

Bihar Board Class 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

अर्थ लेखन

(1) जग में सचर अचर जितने हैं सारे कर्म-निरत हैं।
धुन है एक न एक सभी को सबके निश्चित व्रत हैं।
जीवन भर आतप सह वसुधा पर छाया करता है।
तुच्छ पत्र की भी स्वकर्म में कैसी तत्परता है।

अर्थ-प्रस्तुत कवि का कहना है कि सचर अचर जितने भी प्राणी हैं सभी स्वकर्म में लीन हैं अर्थात् प्रकृति के विभिन्न रूप स्वकर्म में तत्लीन हैं। सभी का एक निश्चित संकल्प है, एक निश्चित धुन है। कवि उदाहरण स्वरूप पृथ्वी पर उगे तुच्छ वृक्षों के बारे में कहता है कि जीवन भर सूर्य की तीखी किरणों को सहन करते हुए भी वृक्ष पृथ्वी पर छाया फैलाता है। वह अपने कर्म से विमुख कभी नहीं होता है।

(2) सिंधु विहंग तरंग-पंख को फड़का कर प्रतिक्षण में।
है निमग्न नित भूमि खण्ड के सेवन में – रक्षण में।
कोमल मलय-पवन घर-घर में सुरभि बाँट आता है।
सत्य सींचने घन जीवन धारण कर नित जाता है।

अर्थ-प्रस्तुत पंक्तियों में कवि का कहना है कि पृथ्वी पर अनेक नदियाँ हैं जो पक्षियों के पंख की तरह अपनी तरंगों को फड़का कर प्रतिपल इस भूखंड की सेवा एवं रक्षा में प्रतिदिन तत्पर रहती है।

ठीक उसी प्रकार शुद्ध, सुंदर सुगन्धित पवन भी अपनी मधुर मादकता और सुंदरता को घर-घर बाँटता है। बादल भी सच्चे रूप में वर्षा करने के लिए अपना रूप धारण कर लालायित रहता है।

इस दोहे का मूल भाव यह है कि प्रकृति जिस प्रकार अपने अनेक रूपों से धारा एवं मनुष्य की सेवा-रक्षा में रत है, वैसे ही मनुष्य को भी प्रकृतिगत गुणों से संपन्न होना चाहिए।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

(3) रवि जग में शोभा सरसाता सोम सुधा बरसाता।।
सब है लगे कर्म में कोई निष्क्रिय दुष्ट न आता।
है उद्देश्य नितान्त तुच्छ तृण के. भी लघु जीवन का।
उसी पूर्ति में वह करता है अन्त कर्ममय तन का।

अर्थ-सूर्य भी शोभा और ऊष्मा की वर्षा करता है। वह अपने कर्म से कभी भी विमुख नहीं होता। सभी स्वकर्म में लीन हैं तभी तो निष्क्रियता का दुष्ट नहीं आ पाता है। तृण, घास-फूस भी अपने काम में संलग्न रहते हैं। वह भी कर्ममय बना रहता है।

(4) तुम मनुष्य हो, अमित बुद्धि-बल-विकसित जन्म तुम्हारा।
क्या उद्देश्य रहित है जग में तुमने कभी विचारा?
बुरा न मानो, एक बार सोचो तुम अपने मन में।
क्या कर्त्तव्य समाप्त कर लिये तुमने निज जीवन में?

अर्थ-हम तो मनुष्य हैं, अमित बल-बुद्धि सम्पन्न। हममें जन्मना अमित बुद्धि-शक्ति, बल विकसित है। क्या हम उद्देश्य-हीन हैं? क्या हमने जीवन का आवंटित कर्त्तव्य समाप्त कर लिया है? अर्थात् मानव का जीवन सर्वश्रेष्ठ माना गया है। अतः हमें अपने कर्तव्य से विमुख कभी नहीं होना चाहिए।

(5) जिस पर गिरकर उदर दरी से तुमने जन्म लिया है।
जिसका खाकर अन्न, सुधा सम तुमने नीर पिया है।
जिस पर खड़े हुए, खेले, घर बना बसे, सुख पाये।
जिसका रूप विलोक तुम्हारे दृग, मन, प्राण जुड़ाये॥

अर्थ-पृथ्वी पर हमने जन्म लिया है। सुधा समान अन्न खाकर और पानी पीकर हम बड़े हुए हैं। पृथ्वी के अन्न-जल से हम जीवित होकर खड़े हुए हैं। हम धरती पर विभिन्न प्रकार-की क्रियायें करते हैं। इसी धरती पर बने घर में हम रहते हैं। यहीं हमने सुख पाया है। इस धरती को देख, इसके संघर्ष और सुख को देख हमारी आँखें, मन और प्राण तृप्त हुए हैं।

(6) वह स्नेह की पूर्ति दयामयि माता-तुल्य मही है।
उसके प्रति कर्तव्य तुम्हारा क्या कुछ शेष नहीं है?
हाथ पकड़कर प्रथम जिन्होंने चलना तुम्हें सिखाया।
भाषा सिखा हृदय का अद्भुत रूप स्वरूप दिखाया।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

अर्थ-यह धरती माता सदृश है। यह सतत् हम पर स्नेह की वर्षा करती रहती है। यह दया की साक्षात् प्रतिमूर्ति है। उसके प्रति हमारा भी कुछ कर्त्तव्य-कर्म बनता है। यहाँ हमने चलना सीखा है। यहीं समाज में हमने भाषा सीखी है। हमारा सर्वांगीण विकास भी यहीं हुआ है।

(7) जिनकी कठिन कमाई का फल खाकर बड़े हुए हो।
दीर्घ देह ले बाधाओं में निर्भय खड़े हुए हो।
जिनके पैदा किये, बुने वस्त्रों से देह ढके हो।
आतप-वर्षा-शीत-काल में पीड़ित न हो सके हो॥

अर्थ-धरती की कमाई का फल खाकर ही हम बढ़े और बड़े हुए हैं। एक बड़ी काया लेकर निर्भय-निडर बने हैं। धरती पर उपजे रूई-वस्त्र से हमने अपना शरीर ढंका है। इससे जाड़ा-गर्मी-बरसात से हमारी रक्षा हुई है, हम सुखमय जीवन व्यतीत कर सके हैं।

(8) क्या उनका उपकार-भार तुम पर लवलेश नहीं है?
उनके प्रति कर्त्तव्य तुम्हारा क्या कुछ शेष नहीं है?
सतत ज्वलित दुख-दावानल में जग के दारुण रन में।
छोड़ उन्हें कायर बनकर तुम भाग बसे निर्जन में।

अर्थ-हमें इस धरती का उपकार मानना चाहिए। हमें इस धरती के प्रति कृतज्ञ होना चाहिए। हमें इस धरती का ऋण धरती की सेवा करके चुकाना चाहिए। इस धरती के लोगों की सेवा करनी चाहिए। इस धरती के लोग दुख की ज्वाला में जलते रहते हैं। हमें उनका दु:ख दूर करना चाहिए। हमें कायर और डरपोक बनकर जंगल की ओर पलायन नहीं करना चाहिए।

जीवन संदेश अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
राम नरेश त्रिपाठी का जन्म कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर-
राम नरेश त्रिपाठी का जन्म 1946 ई. में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में हुआ था।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

प्रश्न 2.
उत्तर भारतीय लोक साहित्य का सर्वप्रथम संकलन एवं सम्पादन किसने किया?
उत्तर-
राम नरेश त्रिपाठी ने।

प्रश्न 3.
जीवन संदेश’ कविता राम नरेश त्रिपाठी की किस रचना से उद्घृत है?
उत्तर-
पथिक से।

प्रश्न 4.
‘पथिक’ काव्य की रचना किस साहित्यिक विधा में की गई है?
उत्तर-
खण्ड काव्य।

प्रश्न 5.
पृथ्वी पर सबों से अधिक बुद्धिमान, बलवान और विकसित प्राणी कौन है?
उत्तर-
मनुष्य।

प्रश्न 6.
त्रिपाठी जी ने कायर किसे कहा है?
उत्तर-
अपने समाज को संकट में छोड़कर अपनी ही दुनिया में मस्त रहने वाले को त्रिपाठी जी ने कायर कहा है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

प्रश्न 7.
‘जीवन संदेश’ कविता का संदेश क्या है?
उत्तर-
‘जीवन संदेश’ कविता का मुख्य संदेश कर्मशील रहने का है।

प्रश्न 8.
श्री राम नरेश त्रिपाठी किस भाषा के कवि थे।
उत्तर-
खड़ी बोली।

प्रश्न 9.
‘कविता कोमुदी’ किसकी रचना है?
उत्तर-
श्री राम नरेश त्रिपाठी की।

प्रश्न 10.
पथिक, मिलन ओर स्वप्न किसकी रचना है।
उत्तर-
राम नरेश त्रिपाठी की।।

प्रश्न 11.
श्री त्रिपाठी ने उत्तर भारत के लिए कैसा साहित्य सर्वप्रथम संकलन एवं संगठन किया?
उत्तर-
लोक साहित्य।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

प्रश्न 12.
बुरा न मानो, एक बार सोचो तुम अपने मन में। क्या कर्त्तव्य समाप्त कर लिए तुमने निज जीवन में? इसके लेखक कौन हैं?
उत्तर-
रामनरेश त्रिपाठी।

प्रश्न 13.
“जीवन संदेश” कविता किसकी रचना है?
उत्तर-
रामनरेश त्रिपाठी की।

प्रश्न 14.
वह स्नेह की मूर्ति दयामयि माता तुल्य मही है। उसके प्रति कर्त्तव्य तुम्हारा
उत्तर-
मातृभूमि को।

जीवन संदेश लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
“जीवन-संदेश” कविता का संदेश क्या है?
उत्तर-
श्री राम नरेश त्रिपाठी ने इस कविता के माध्यम से कर्मशील रहने का संदेश दिया है। कवि कहते हैं कि प्रकृति के सारे सचर और अचर जीव कर्मशील हैं। सभी एक निश्चित मार्ग पर जीवन में क्रियाशील होते हैं। वह कहते हैं कि जिस पृथ्वी और मानव समाज ने हमें एक सभ्य मनुष्य बनने में निरन्तर सहयोग किया है उस देश और समाज के प्रति भी हमारा कर्तव्य है कि उसके संकट को दूर करें।

प्रश्न 2.
जीवन का मूल रहस्य क्या है?
उत्तर-
कवि श्री राम नरेश त्रिपाठी कहते हैं कि प्रकृति के विभिन्न रूपों में क्रियाशीलता पायी जाती है। पशु, पक्षी और कोमल मलय पवन अपने कर्म में निरंतर लगे रहते हैं। इसी प्रकार सूर्य, चाँद और दूसरे सभी आकशीय पिंड अपने निश्चित कर्म और उद्देश्य की पूर्ति में कर्मशील हैं। उनसे लघु भूल-चूक नहीं होती है। लेकिन मनुष्य जो सबसे अधिक बुद्धिमान, बलवान और विकसित प्राणी है वह भूल क्यों करता है? उद्देश्य रहित और कर्तव्यहीन कैसे हो जाता है? यही जीवन का मूल रहस्य है जिसको समझना चाहिए और भूल-चूक से बचना चाहिए।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

प्रश्न 3.
एक देशभक्त व्यक्ति का क्या कर्त्तव्य होता है?
उत्तर-
कवि श्री राम नरेश त्रिपाठी राष्ट्रीयता और मानवता के पुजारी थे। राष्ट्रीय आंदोलन में आप जेल जा चुके थे। इसलिए वह देश प्रेम की शिक्षा देते हैं। वह कहते हैं कि एक देशभक्त व्यक्ति का कर्तव्य है कि माता तुल्य, मातृभूमि के संकट को दूर करना चाहिए। दासता, आर्थिक संकट, बाहरी आक्रमण, प्राकृतिक आपदा जैसी अवस्थाओं से मुक्ति दिलाना हमारा परम कर्त्तव्य होना चाहिए।

यदि हम अपने समाज को संकट में छोड़ कर अपनी ही दुनिया में मस्त रहते हैं तो हमें निश्चित रूप से कर्त्तव्यविमुख और कायर कहा जायगा।

प्रश्न 4.
‘तुम मनुष्य हो, अमित बुद्धि-बल विकसित’ का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर-
कविवर रामनरेश त्रिपाठी के जीवन-संदेश की पंक्तियाँ इस प्रकार हैं-
‘तुम मनुष्य हो, अमित बुद्धि-बल-विकसित जन्म तुम्हारा।
क्या उद्देश्य रहित है जग में तुमने कभी विचारा?।
बुरा न मानो, एक वार सोचो तुम अपने मन में।
क्या कर्त्तव्य समाप्त कर लिये तुमने निज जीवन में?’

कवि का कहना है कि मनुष्य मनुष्यता के लिए जाना जाता है। उसमें अमृतमय-अनन्त बुद्धि, ज्ञान, शक्ति विकसित होती रहती है।

यह विचार करना चाहिए कि हम उद्देश्यरहित नहीं हैं। हमें इस संसार में आकर कोई-न-कोई श्रेष्ठ कार्य करना है।

हमें बिना बुरा माने यह सोचना है कि अपने जिम्में आवंटित कर्त्तव्य-कर्म क्या हमने पूरे कर लिये हैं? नहीं तो हमें संसार के लिए उन्हें पूरा करना होगा।

कर्त्तव्य विमुख पलायनवादी कहलाते हैं। यह देश ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते’ की महत्ता को जाननेवाला है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
राम नरेश त्रिपाठी के जीवन और व्यक्तित्व का एक सामान्य परिचय प्रस्तुत करें।
उत्तर-
श्री राम नरेश त्रिपाठी का जन्म संवत 1946 ई. में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में हुआ था। खड़ी बोली के कवियों में आपका महत्त्वपूर्ण स्थान था। आप हिन्दी के बहुत पुराने कवि हैं। आपके काव्य में भाषा का सौन्दर्य और शैली की सरलता रहती है। आप राष्ट्रीयता और मानवता के पुजारी थे। राष्ट्रीय आन्दोलन में आप जेल जा चुके थे। राष्ट्रपिता गाँधीजी का आप पर अधिक प्रभाव पड़ा था। अत: आपके खण्डकाव्यों में अहिंसक क्रांति का संदेश सामने आता है। त्रिपाठी जी ने प्रबन्ध काव्य और मुक्तक-काव्य दोनों प्रकार के काव्य सफलतापूर्वक लिखे हैं।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

उनकी कृति कविता-कौमुदी नाम से प्रकाशित हुई है। त्रिपाठी जी ने उत्तर भारतीय “लोक साहित्य” का सर्वप्रथम संकलन एवं संपादन किया और हिन्दी की बड़ी सेवा की है। बाल साहित्य के भी आप सिद्धहस्त लेखक थे। इस प्रकार त्रिपाठी जी बहुमुखी प्रतिभा के साहित्यकार माने। जाते थे। अंत तक आप हिन्दी साहित्य की सेवा में लगे रहे।

आपकी प्रमुख रचनाएँ पथिक, मिलन, स्वप्न और कविता कौमुदी हैं।

प्रश्न 2.
“जीवन-संदेश” शीर्षक कविता का भाव स्पष्ट कीजिए।
अथवा,
“जीवन संदेश” कविता का सारांश अपने शब्दों में लिखें।
उत्तर-
“जीवन संदेश” शीर्षक कविता, श्री राम नरेश त्रिपाठी की रचना है जो ‘पथिक’ खण्ड-काव्य से उद्धृत है। कवि ने प्रकृति के विभिन्न रूपों.की क्रियाशीलता का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए, कर्मशील रहने का संदेश किया है। जिस पृथ्वी और मानव-समाज ने हमें एक साथ मनुष्य बनने में निरन्तर सहयोग किया है उस देश और समाज के प्रति भी तो हमारा कुछ कर्तव्य है। यदि उस समाज को संकट में छोड़ कर हम अपनी ही दुनिया में मस्त हैं तो हम निश्चित रूप से कर्तव्यविमुख और पलायनवादी कहलायेंगे।

जीवन के रहस्य को कवि ने समझाया है। वह कहते हैं कि इस जग में सचर एवं अचर दोनों कर्म के प्रति कर्मशील हैं। सभी एक निश्चित मार्ग में जीवन भर क्रियाशील होते हैं।

पशु, पक्षी, कोमल मलय पवन अपने कर्म में लगे रहते हैं। सूर्य चन्द्रमा और दूसरे सभी आकाशीय पिंड अपने निश्चित मार्ग और उद्देश्य की पूर्ति में कर्मशील होते हैं। उनसे लघु भूलचूक भी नहीं होती है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

इस पृथ्वी पर सबों से बुद्धिमान, बलवान और विकसित प्राणी मनुष्य है। क्या ईश्वर ने मनुष्य को उद्देश्य रहित, कर्तव्यहीन बनाया है? नहीं, बल्कि मनुष्य के जीवन का एक उत्तम लक्ष्य सर्वश्रेष्ठ बन कर ईश्वर के आदेश का पालन करना है। अपने माता, पिता परिवार, देश, धर्म के लिए अच्छे कर्म करना है।

एक देश भक्त का कर्तव्य है कि माता तुल्य मातृ-भुमि के संकट को दूर करना चाहिए, दासता, आर्थिक संकट, बाहरी आक्रमण जैसी अवस्थाओं से मुक्ति दिलाना हमारा परम कर्तव्य होना चाहिए।

यदि हम अपने समाज को संकट में छोड़कर अपनी ही दुनिया में मस्त रहते हैं तो हमें निश्चित रूप से कर्तव्यविमुख और कायर कहा जायगा। अतः प्रस्तुत कविता में कवि ने मनुष्य को, देश, समाज पृथ्वी इत्यादि सभी के प्रति समर्पण भाव को दिखाने का संकल्प व्यक्त किया है जिससे हम कर्तव्यविमुख नहीं कहलायें।

जीवन संदेश कवि-परिचय – राम नरेश त्रिपाठी

कविवर रामनरेश त्रिपाठी का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिला में 1946 ई. में हुआ था। उनकी रचनाएँ खड़ी बोली में पाई जाती है। उनके काव्य में भाषा का सौंदर्य परिलक्षित होता है। वे राष्ट्रीयता और मानवता के पुजारी थे। स्वतंत्रता संग्राम में उन्होंने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। गाँधी के अहिंसक क्रान्ति का संदेश उनके काव्य में पाया जाता है। उन्होंने प्रबन्ध काव्य और मुक्तक काव्य की रचना की। उनकी रचनाएँ राष्ट्रीयता की भावना से ओत-प्रोत है। त्रिपाठी जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उनकी प्रमुख रचना कविता-कौमुदी के नाम से प्रकाशित है। उन्होंने उत्तर भारतीय ‘लोक साहित्य’ का सर्वप्रथम संकलन और संपादन किया। वस्तुतः त्रिपाठी जी ने हिन्दी साहित्य के विकास में अपना बहुमूल्य योगदान दिया। उनकी प्रमुख रचनाएँ निम्नलिखित हैं

  • पथिक
  • मिलन
  • स्वप्न
  • कविता-कौमूदी।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions पद्य Chapter 2 जीवन संदेश

Bihar Board Class 12 Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

Bihar Board Class 12 Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

Bihar Board Class 12 Economics उत्पादन तथा लागत Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
उत्पादन फलन की संकल्पना को समझाइए।
उत्तर:
एक फर्म द्वारा प्रयोग किए गए साधनों एवं उत्पादित की गई मात्रा के संबंध को उत्पादन फलन कहते हैं। प्रयोग किए गए साधनों के विभिन्न संयोजनों से उत्पादन की अधिकतम मात्रा उत्पन्न होती है। संसाधनों के विभिन्न संयोजनों से उत्पादन की अधिकतम मात्रा का निर्धारण तकनीकी के आधार पर होता है। उत्पादन तकनीकी में सुधार होने पर उत्पादन में बढ़ोत्तरी होती है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 2.
एक आगत का कुल उत्पाद क्या होता है?
उत्तर:
अन्य साधन आगतों के स्थिर रहने पर परिवर्तनशील साधन और उत्पाद के संबंध को कुल उत्पाद के रूप में परिभाषित किया जाता है। गणितीय रूप में कुल उत्पादन का निरूपण निम्न प्रकार किया जाता है –
y = ∫(x1, \(\bar{x}_{2}\)) जहाँ y कुल उत्पादक परिवर्ती साधन है तथा \(\overline{x_{2}}\), स्थिर साधन। अथवा एक निश्चित समय अवधि में अन्य साधनों को समान रखकर परिवर्तनशील साधन की इकाइयों से फर्म को जितना उत्पादन प्राप्त होता है उसे कुल उत्पादन कहते हैं।

प्रश्न 3.
एक आगत का औसत उत्पाद क्या होता है?
उत्तर:
प्रति इकाई परिवर्तनशील साधन से प्राप्त उत्पादन को औसत उत्पाद कहते हैं।
AP1 = \(\frac { TP_{ 1 } }{ x_{ 1 } } \) = \(\frac{f\left(x_{1}, \bar{x}_{2}\right)}{x_{1}}\)
जहाँ AP1 = एक साधन का औसत उत्पाद
TP1 = कुल उत्पाद
x1 = परिवर्तनशील आगत
\(\overline{x_{2}}\) = स्थिर आगत

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 4.
एक आयत का सीमान्त उत्पाद क्या होता है?
उत्तर:
उत्पादन प्रक्रिया में परिवर्तनशील साधन की एक अतिरिक्त इकाई बढ़ाने पर कुल उत्पाद में जितनी बढ़ोतरी होती है, उसे सीमान्त कहते हैं।
गणितीय रूप में सीमान्त उत्पाद को निम्नलिखित ढंग से प्रदर्शित किया जा सकता है –
MP1 = ∫(x1, \(\bar{x}_{2}\)) – ∫(x1 – 1, \(\bar{x}_{2}\))
MP2 = TP at (x1 units) – TP at (x1 – units)

प्रश्न 5.
एक आगत के सीमान्त उत्पाद तथा कुल उत्पाद के बीच संबंध समझाइए।
उत्तर:

  1. जब सीमान्त उत्पाद धनात्मक व बढ़ने की प्रवृति में होता है तो कुल उत्पाद अधिक दर से बढ़ता है।
  2. जब सीमान्त उत्पाद धनात्मक व घटने की प्रवृति में होता है तो कुल उत्पाद घटती दर से बढ़ता है।
  3. जब सीमान्त उत्पाद ऋणात्मक होता है तो कुल उत्पाद घटता है।

प्रश्न 6.
अल्पकाल तथा दीर्घकाल की संकल्पनाओं को समझाइए।
उत्तर:
अल्पकाल में फर्म अन्य साधनों को स्थिर रखते हुए एक परिवर्तनशील साधन की इकाइयाँ बढ़ाकर उत्पादन करती हैं। दूसरे वाक्यों में अल्पकाल में फर्म केवल परिवर्ती साधन को बढ़ाकर उत्पादन स्तर में परिवर्तन करती है। दीर्घकाल में दो या दो से अधिक साधनों में अनुपातिक परिवर्तन करके फर्म उत्पादन का पैमाना बदलती है।

इस अवधि में कोई भी साधन स्थिर नहीं रहता है सभी साधन परिवर्तनशील होते हैं। किसी भी उत्पादन प्रक्रिया के लिए दीर्घकाल, अल्पकाल के अपेक्षाकृत एक लम्बी समय अवधि होती है। अलग-अलग उत्पादन प्रक्रियाओं के लिए दीर्घकाल में अलग-अलग अवधि होती है। अल्प एवं दीर्घकाल दोनों को ही घण्टा, दिन, सप्ताह, मास, एवं वर्ष के आधार पर परिभाषित नहीं किया जा सकता है। ये समय अवधियाँ इस बात से निर्धारित होती हैं कि सभी साधनों में परिवर्तन हो सकता है या नहीं।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 7.
हासमान सीमान्त का नियम क्या है?
उत्तर:
हासमान सीमान्त उत्पाद नियम यह दर्शाता है कि रोजगार के एक निश्चित स्तर के बाद एक साधन का सीमान्त उत्पाद घटता है। जब परिर्वनशील साधन की इकाइयाँ अत्यधिक हो जाती है तो सीमान्त उत्पाद शून्य एवं ऋणात्मक हो जाता है।

प्रश्न 8.
परिवर्ती अनुपात का नियम क्या है?
उत्तर:
परिवर्ती अनुपात का नियम यह स्पष्ट करता है कि जब परिवर्ती साधन की इकाइयों का रोजगार स्तर कम होता है तो सीमान्त उत्पाद है लेकिन रोजगार के एक निश्चित स्तर के बाद साधन का सीमान्त उत्पाद घटने लगता है।

प्रश्न 9.
एक उत्पादन फलन स्थिर पैमाने के प्रतिफल को कब संतुष्ट करता है?
उत्तर:
पैमाने का स्थिर प्रतिफल का नियम-दीर्घकाल में दो या अधिक साधनों में ये अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल उत्पाद में, साधनों से अनुपातिक वृद्धि के समान बढ़ोतरी होती है तो इसे पैमाने का समान प्रतिफल कहते हैं।

प्रश्न 10.
एक उत्पादन फलन वर्धमान पैमाने के प्रतिफल को कब संतुष्ट करता है?
उत्तर:
पैमाने का वधमान प्रतिफल:
दीर्घकाल में दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल उत्पाद में, साधनों में अनुपातिक वृद्धि से ज्यादा बढ़ोतरी होती है तो इसे पैमाने का वर्धमान प्रतिफल कहते हैं।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 11.
एक उत्पादन फलन हासमान पैमाने के प्रतिफल को कब संतुष्ट करता है?
उत्तर:
पैमाने का हासमान प्रतिफल-दीर्घकाल में दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल उत्पाद में, साधनों में अनुपातिक वृद्धि से कम बढ़ोतरी होती है तो इसे पैमाने का हासमान प्रतिफल कहते हैं।

प्रश्न 12.
लागत फलन की संकल्पनाओं को संक्षिप्त में समझाइए।
उत्तर:
एक फर्म के लिए उत्पादन व लागत के संबंध को लागत फलन कहते हैं। साधनों की दी गई कीमतों पर एक फर्म साधनों के ऐसे संयोजन का चयन करती है जिसकी लगात न्यनतम होती है। दूसरे शब्दों में एक उत्पादन इकाई प्रत्येक उत्पादन स्तर के लिए न्यूनतम लागत वाले साधन संयोजनों का चुनाव करती है।

प्रश्न 13.
एक फर्म की कुल स्थिर लागत, कुल परिवर्ती लागत था कुल लागत क्या है, वे किस प्रकार संबंधित हैं?
उत्तर:
कुल स्थिर लागत (TFC):
उत्पादन के स्थिर साधनों के नियोजन पर फर्म को जितनी लागत वहन करनी पड़ती है उसे कुल स्थिर लागत कहते हैं। अल्प काल में उत्पादन के प्रत्येक स्तर पर कुल स्थिर लागत सामान रहती है। दूसरे शब्दों में अल्पकाल में एक फर्म की कुल स्थिर लागत स्थिर रहती है।

कुल परिवर्तनशील लागत (TVC):
उत्पादन के परिवर्तनशील साधनों के नियोजन पर फर्म को जितनी लागत वहन करनी पड़ती है उसे कुल परिवर्तनशील लागत भिन्न-भिन्न होती है। दूसरे शब्दों में, एक उत्पादन स्तर की कुल परिवर्तनशील लागत दूसरे उत्पादन स्तर की कुल परिवर्तनशील लगात से भिन्न होती है।

कुल लागत:
कुल स्थिर लागत एवं कुल परिवर्तनशील लागत के योग को कुल लागत कहते हैं।
TC = TFC + TVC

उत्पादन स्तर बढ़ाने के लिए फर्म को परिवर्ती साधन की इकाइयां को अधिक मात्रा में नियोजित करने की जरूरत पड़ती है। अतः कुल परिवर्तनशील लागत में वृद्धि होती है और परिणामस्वरूप कुल लागत में भी वृद्धि होती है परन्तु कुल स्थिर लागत रहती है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 14.
एक फर्म की औसत स्थिर लागत, औसत परिवर्ती लागत तथा औसत लागत क्या है, वे किस प्रकार संबंधित है?
उत्तर:
औसत स्थिर लागत (AFC):
एक फर्म के लिए प्रति इकाई उत्पादन पर कुल स्थिर लागत को औसत स्थिर लागत कहते हैं।
AFC = \(\frac{TFC}{y}\)
जहाँ AFC = औसत स्थिर लागत, TFC = कुल स्थिर लगात, y = उत्पादन की इकाइयाँ

औसत परिवर्तनशील लागत (AVC):
एक फर्म को प्रति इकाई उत्पादन के लिए जितनी कुल परिवर्तनशील लागत वहन कमी पड़ती है उसे औसत परिवर्तनशील लागत कहते हैं।
जहाँ AFC = औसत परिवर्तनशील लागत, TFC = कुल परिवर्तनशील लगात, y = उत्पादन की इकाइयाँ

औसत लागत (AC):
एक प्रति इकाई उत्पादन के लिए कुल जितनी लागत वहन करती है उसे औसत लागत कहते हैं।
जहाँ AC = औसत लागत, TC = कुल लागत, y = कुल उत्पादन
अथवा AC = \(\frac{TFC+TVC}{y}\) (∵TC = TFC + TVC)
अथवा AC = \(\frac{TFC}{y}\) + \(\frac{TVC}{y}\)
अथवा AC = AFC + AVC
अत: औसत स्थिर लागत एवं औसत परिवर्तशील लागत के योग को औसत लागत कहते हैं।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 15.
क्या दीर्घकाल में कुछ स्थिर लागत हो सकती है? यदि नहीं तो क्यों?
उत्तर:
नहीं, दीर्घकाल में कोई स्थिर लागत नहीं होती है क्योंकि इस अवधि में एक फर्म सभी साधनों में परिवर्तन कर सकती है।

प्रश्न 16.
औसत लागत वक्र कैसा दिखता है? यह ऐसा क्यों दिखता है?
उत्तर:
कुल स्थिर लागत व कुल उत्पादन के अनुपात को औसत स्थिर लागत कहते हैं। कुल स्थिर लागत स्थिर रहती है। कुल उत्पादन (y) की मात्रा बढ़ाने पर औसत स्थिर लागत AFC घटती है। जब उत्पादन शून्य के निकटतम होता है तो औसत स्थिर लागत का मान अत्याधिक होता है। जैसे-जैसे कुल उत्पादन में वृद्धि होती है औसत स्थिर लागत शून्य की ओर जाती है परन्तु शून्य कभी-भी नहीं होती है। इस कारण AFC वक्र एक आयताकार हापरबोला (Rectangular Hyperbola) होता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 1

प्रश्न 17.
अल्पकालीन सीमान्त लागत, औसत परिवर्ती लागत तथा अल्पकालीन औसत लागत वक्र कैसे दिखाई देते हैं?
उत्तर:
अल्पकालीन सीमान्त लागत वक्र, औसत परिवर्तशील लागत वक्र तथा औसत लागत वक्र का आकार अंग्रेजी के अक्षर U जैसे होता है। इन वक्रों के आकार साधन के वर्धमान प्रतिफल, समता प्रतिफल और हासमान प्रतिफल का उत्पादन प्रक्रिया में क्रमशः लागू होना है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 2

उत्पादन (इकाइयाँ) अल्पकालीन सीमान्त लागत व औसत परिवर्तनशील लागत में संबंध –

  1. जब तब AVC घटती है जब तक SMC का मान AVC से कम होता है।
  2. जब SMC वक्र नीचे से AVC वक्र को काटता है तो उसे बिन्दु पर AVC का मान न्यूनतम होता है और SMC तथा AVC दोनों समान होती हैं।
  3. जैसे ही AVC ऊपर बढ़ने लगती है तो SMC का मान AVC से अधिक हो जाता है।

अल्पकालीन सीमान्त लागत तथा अल्पकालीन औसत लागत में संबंध –

  1. जब तक अल्पकालीन औसत लागत घटती है तब तक SMC, AC से कम रहती है।
  2. SMC व AC समान हो जाती है जब SMC वक्र AC वक्र को AC के न्यूनतम बिन्दु पर नीचे से ऊपर काटता है।
  3. जैसे ही SAC में वृद्धि होती है, SMC का स्तर, AC के स्तर से अधिक हो जाता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 18.
क्यों अल्पकालीन सीमान्त लागत वक्र औसत परिवर्ती लागत वक्र को उसके न्यूनतम बिन्दु पर?
उत्तर:
SMC एवं AVC के प्रतिच्छेदन बिन्दु से पूर्व AVC घटती है तथा SMC का मान AVC से कम होता है। प्रतिच्छेदन बिन्दु के दायीं ओर AVC बढ़ने लगती है तथा SMC का मान AVC से अधिक हो जाता है। SMC वक्र AVC को नीचे से AVC के न्यूनतम बिन्दु पर काटता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 3

प्रश्न 19.
किस बिन्दु पर अल्पकालीन सीमान्त लागत वक्र अल्पकालीन औसत लागत को काटता है? अपने स्तर के समर्थन में कारण बताइए।
उत्तर:
SMC वक्र SAC वक्र को SAC वक्र के न्यूनतम बिन्दु पर काटता है क्योंकि जब तक SAC घटती है, SMC, SAC से कम होती है। जब SAC में वृद्धि होती है तो SMC, SAC की तुलना में ज्यादा दर से बढ़ती है। SMC वक्र, SAC वक्र को नीचे से SAC के न्यूनतम बिन्दु पर काटता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 4

प्रश्न 20.
अल्पकालीन सीमान्त लागत वक्र ‘U’ के आकार का क्यों होता है?
उत्तर:
आरम्भ में जब फर्म उत्पादन प्रक्रिया शुरू करती है तो सीमान्त लागत घटती है क्योंकि आरम्भ में परिवर्तनशील साधन की इकाइयाँ नियोजित करने पर साधन का वर्धमान प्रतिफल फर्म को प्राप्त होता है। साधन की निश्चित इकाइयों के नियोजन तक ही सीमान्त लागत घटती है। इसके बाद फर्म को साधन का समता प्रतिफल प्राप्त होता है। अत: सीमान्त लागत स्थिर होने लगती है। अन्त में साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाने पर हासमान प्रतिफल लागू हो जाता है इस अवस्था में सीमान्त लागत वक्र ऊपर उठाने लगता है। इस उत्पादन प्रक्रिया के आरंभिक चरण में सीतान्त लागत घटती है इसके बाद यह लगभग स्थिर होन लगती है और अन्तिम चरण में यह बढ़ने लगती है इसीलिए सीमान्त लागत वक्र अंग्रेजी के अक्षर U जैसा होता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 5

प्रश्न 21.
दीर्घकालीन सीमान्त लागत तथा औसत लागत वक्र कैसे दिखते हैं?
उत्तर:
दीर्घकाल में एक फर्म उत्पादन प्रक्रिया में सभी साधनों को समायोजित कर सकती है। उत्पादन प्रक्रिया में उत्पादन का पैमाना बढ़ाने पर शुरू में पैमाने का वर्धमान प्रतिफल मिलता है। इस स्थिति में उत्पादन की समान मात्रा का उत्पादन करने पर अपेक्षाकृत कम लागत आती है। फर्म जब तक उत्पादन का वर्धमान प्रतिफल प्राप्त करती है तब तक सीमान्त औसत लागत दोनों घटती हैं। इसके बाद समता प्रतिफल प्राप्त होता है अतः समान उत्पादन के लिए समान लागत आती है जिससे औसत व सीमानत लागत दोनों स्थिर हो जाती हैं। अंततः पैमाने का हासमान प्रतिफल लागू होने पर सीमान्त व औसत लागत दोनों बढ़ती हैं। इसलिए सीमान्त व औसत लागत वक्रों का आकार अंग्रेजी के अक्षर U जैसा होता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 6

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 22.
निम्नलिखित तालिका, श्रम का कुल उत्पादन अनुसूची देती है। तदनुरूप श्रम का औसत उत्पाद तथा सीमान्त उत्पाद अनुसूची निकालिए।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 7
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 8

प्रश्न 23.
नीचे दी गई तालिका, श्रम का औसत उत्पाद अनुसूची बताती है। कुल उत्पाद तथा सीमान्त उत्पाद अनुसूची निकालिए, जबकि श्रम प्रयोगता के शून्य स्तर पर यह दिखाया गया है कि कुल उत्पाद शून्य है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 9
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 10

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 24.
निम्नलिखित तालिका श्रम का सीमान्त उत्पाद अनुसूची देती है। यह भी दिखाया गया है कि श्रम का कुल उत्पाद शून्य है। प्रयोग के शून्य स्तर पर श्रम के कुल उत्पाद तथा औसत उत्पाद अनुसूची की गणना कीजिए।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 11
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 12

प्रश्न 25.
नीचे दी गई तालिका एक फर्म की कुल लागत अनुसूची दर्शाती है। इस इस फर्म की कुल स्थिर लागत क्या है? फर्म के कुल परिवर्ती लागत, कुल स्थिर लागत, औसत परिवर्ती लागत, अल्पकालीन औसत लागत तथा अल्पकालीन सीमांत लागत अनुसूची की गणना कीजिए।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 13
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 14a
नोट:
TFC का मान उत्पादन के शनय स्तर की TC के समान होता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 26.
निम्नलिखित तालिका एक फर्म के लिए कुल लागत अनुसूची देती है। यह भी दिया गया है कि औसत स्थिर लागत निर्गत की 4इकाइयों पर 5 रुपये हैं। कुल परिवर्ती लागत, कुल स्थिर लागत औसत परिवर्ती लागत, औसत स्थिर लागत, अल्पकालीन औसत लागत, अल्पकालीन सीमान्त लागत अनुसूची फर्म के निर्गत के तदनुरूप मूल्यों के लिए निकालिए।

Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 15
उत्तर:
चौथी उत्पादन इकाई की कुल स्थिर लागत = AFC × 4 इकाइयाँ
= Rs.5 × 4
= Rs. 20
उत्पादन के प्रत्येक स्तर के लिए कुल स्थिर लागत समान रहती है। अतः सभी स्तरों पर कुल स्थिर लागत 20 रुपया होगी।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 16

प्रश्न 27.
एक फर्म की अल्पकालीन सीमान्त लागत अनुसूची को निम्नलिखित तालिका में दिया गया है। फर्म की कुल स्थिर लागत 100 रुपए है। फर्म के कुल परिवर्ती लागत, कुल लागत, औसत परिवर्ती लागत तथा अल्पकालीन औसत लागत अनुसूची निकालिए।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 17
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 18

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 28.
मान लिजिए, एक फर्म का उत्पादन फलन है,
Q = 5L1/2K1/2
निकालएि, अधिकतम संभावित निर्गत जिसका उत्पादन फर्म कर सकती है 100 इकाइयाँ L तथा 100 इकाइयाँ K द्वारा।
उत्तर:
उत्पादन फलन Y = 5L1/2K1/2 जहाँ L = 100 इकाइयाँ और K = 100 इकाइयाँ L व K का मान प्रतिस्थापित करने पर
Y = 5 × 1001/2 1001/2 = 5 × 10 × 10 = 500 इकाइयाँ

प्रश्न 29.
मान लिजिए, एक फर्म का उत्पादन फलन है,
Q = 2L2K2
अधिकतम संभावित निर्गत ज्ञात कीजिए, जिसका फर्म उत्पादन कर सकती है, 5 इकाइयाँ L तथा 2 इकाइयाँ K द्वारा। अधिकतम संभावित निर्गत क्या है, जिसका फर्म उत्पादन कर सकती है, शून्य इकाई L तथा 10 इकाई Kद्वारा?
उत्तर:
उत्पादन फलन Y = 22 K2
L = 5 एवं
K = 2
L व K का मान प्रतिस्थापित करने पर
Y = 2 × 52.22 = 2 × 25 × 4 = 2000 इकाइयाँ
यदि L = 0 और K = 10 तब Y = 2 × 02 × 102
Y = 2× 0 × 100 = 0
L की 5 इकाइयों व K की 2 इकाइयों का प्रयोग करके फर्म उत्पादन कर सकती है = 200 इकाइयाँ तथा L की शून्य व K की 10 इकाई का प्रयोग फर्म उत्पादन कर सकती है = 0.

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 30.
एक फर्म के लिए शून्य इकाई L तथा 10 इकाइयों K द्वारा अधिकतम संभावित निर्गत निकालिए जब इसका उत्पादन फलन हैः
Q = 5L + 2K
उत्तर:
उत्पादन फलन
Y = 5L + 2K
L = 0 तथा
K = 10
L तथा K का मान रखने पर Y = 5 × 0 + 2 × 10 = 0 + 20 = 20 इकाइयाँ
फर्म 20 इकाइयों का उत्पादन कर सकती है।

Bihar Board Class 12 Economics उत्पादन तथा लागत Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
उत्पादन का क्या अर्थ है?
उत्तर:
उत्पादन से अभिप्राय उन मानवीय क्रियाओं से जिनसे पदार्थों की उपयोगिता में वृद्धि होती है। उदाहरण चमड़े से जूते बनाया, लकड़ी से फर्नीचर का विनिर्माण आदि।

प्रश्न 2.
उत्पादन तकनीक के प्रकार बताइए।
उत्तर:
उत्पादन तकनीक दो प्रकार की होती है –

  1. श्रम प्रधान उत्पादन तकनीक एवं
  2. पूँजी प्रधान उत्पादन तकनीक

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 3.
उत्पादन में प्रयोग की जाने वाली तीन साधन आगतों के नाम लिखो।
उत्तर:
उत्पादन में प्रयोग की जाने वाली तीन साधन आगतें –

  1. भूमि
  2. श्रम एवं
  3. पूँजी

प्रश्न 4.
कुल भौतिक उत्पाद का क्या अर्थ है?
उत्तर:
साधन आगतों के प्रयोग में एक निश्चित समय में उत्पादित की गई वस्तु की इकाइयों को कुल भौतिक उत्पाद कहते हैं।

प्रश्न 5.
औसत भौतिक उत्पाद की परिभाषा लिखो।
उत्तर:
प्रति इकाई परिवर्ती साधन के प्रयोग से उत्पादित भौतिक वस्तुओं की मात्रा को औसत भौतिक उत्पाद कहते हैं। कुल भौतिक उत्पाद औसत भौतिक
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 19

प्रश्न 6.
सीमान्त भौतिक उत्पाद का अर्थ बताओ।
उत्तर:
साधन की एक अतिरिक्त इकाई का प्रयोग बढ़ाने पर कुल भौतिक उत्पाद में होने वाली शुद्ध बढ़ोतरी को सीमान्त भौतिक उत्पाद कहते हैं।

प्रश्न 7.
जब कुल भौतिक उत्पाद घट रहा हो तो सीमान्त भौतिक उत्पाद का क्या होता है?
उत्तर:
जब कुल भौतिक उत्पाद घट रहा होता है तब सीमान्त भौतिक उत्पाद ऋणात्मक हो। जाता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 8.
सीमान्त भौतिक उत्पाद वक्र का सामान्यतः आकार कैसा होता है?
उत्तर:
सामान्यतः सीमान्त भौतिक उत्पाद वक्र का आकार उल्टे U आकार का होता है।

प्रश्न 9.
औसत भौतिक उत्पाद वक्र का आकार कैसा होता है?
उत्तर:
औसत भौतिक उत्पाद का आकार सामान्यतः उल्टे U आकार का होता है।

प्रश्न 10.
पैमाने के वर्धमान प्रतिफल का अर्थ लिखो।
उत्तर:
पैमाने का वर्धमान प्रतिफल बताता है कि कुल भौतिक उत्पाद में अनुपातिक वृद्धि दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि से ज्यादा होती है।

प्रश्न 11.
औसत स्थिर लागत का आकार कैसा होता है?
उत्तर:
औसत स्थिर लागत वक्र ऋणात्मक ढाल वाला होता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 12.
सीमान्त लागत का सामान्य आकार बताओ?
उत्तर:
सीमान्त लागत वक्र सामान्यतः अंग्रेजी अक्षर U जैसा होता है।

प्रश्न 13.
परिणम मित्तव्यिता का क्या अर्थ है?
उत्तर:
परिणाम मित्तव्यिता का अर्थ है कि जब कोई फर्म अधिक मात्रा में क्रय करती है तो उसे अपेक्षाकृत कीमत कम देनी पड़ती है।

प्रश्न 14.
दीर्घकाल में पैमाने के वर्धमान प्रतिफल के दो कारण लिखो।
उत्तर:

  1. श्रम विभाजन
  2. परिणाम मित्तिव्यिता

प्रश्न 15.
अस्पष्ट लागत का अर्थ उदाहरण सहित बताइए।
उत्तर:
उत्पादन प्रक्रिया में फर्म के निजी साधनों को प्रयोग करने की लागत को अस्पष्ट लागत कहते हैं।

प्रश्न 16.
स्पष्ट लागत का अर्थ लिखो। उदाहरण भी दीजिए।
उत्तर:
उन साधनों की लागत जिनका भुगतान फर्म से बाहर उनके स्वामियों को किया जाता है स्पष्ट लागत कहते हैं।

उदाहरण:
श्रमिकों को पारिश्रमिक का भुगतान, क्रय किए गए कच्चे माल का मूल्य आदि।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 17.
वास्तविक लागत का अर्थ लिखो।
उत्तर:
साधन आगतों के स्वामी उनकी आपूर्ति करने में जो त्याग करते हैं कष्ट उठाते है, अर्थ दर्द सहन करते है उन्हें वास्तविक लागत कहते हैं।

प्रश्न 18.
स्थिर लागत क्या होता है?
उत्तर:
वह लागत जो उत्पादन स्तर में परिवर्तन होने पर नहीं बदलती है, स्थिर लागत कहलाती है। ये लागत केवल अल्पकाल में ही स्थिर रहती है लेकिन दीर्घकाल में यह लागत बदल जाती है।

प्रश्न 19.
जब कुल भौतिक उत्पाद घटती दर से बढ़ रहा है तो सीमान्त उत्पाद कैसा होता है?
उत्तर:
जब कुल भौतिक उत्पाद घटती दर से बढ़ता है तो सीमान्त उत्पाद धनात्मक होता है परन्तु उसमें घटने की प्रवृत्ति होती है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 20.
जब कुल भौतिक उत्पाद बढ़ रहा होता है तो सीमान्त उत्पाद कैसा होता है।
उत्तर:
सीमान्त भौतिक उत्पाद धनात्मक होता है।

प्रश्न 21.
सीमान्त भौतिक उत्पाद से कुल भौतिक उत्पाद की गणना किस प्रकार से की जाती है।
उत्तर:
किसी भी रोजगार स्तर पर सीमान्त भौतिक उत्पादों के योग को कुल भौतिक उत्पाद कहते हैं।

प्रश्न 22.
कुल परिवर्तनशील लागत वक्र का आकार कैसा होता है।
उत्तर:
कुल परिवर्तनशील लागत वक्र मूल बिन्दु से आरम्भ होता है और दायीं ओर ऊपर की ओर उठता है। दूसरे शब्दों में कुल परिवर्तनशील लागत वक्र धनात्मक ढाल का वक्र होता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 23.
कुल स्थिर लागत वक्र का आकार कैसा होता है?
उत्तर:
कुल स्थिर लागत वक्र x – अक्ष के समान्तर क्षैतिज रेखा होती है?

प्रश्न 24.
निजी लागत की परिभाषा दो।
उत्तर:
उत्पादन प्रक्रिया में फर्म द्वारा वहन की गई लागतों को निजी लागत कहते हैं।

प्रश्न 25.
बाह्य बचतों की परिभाषा लिखो।
उत्तर:
बाह्य बचतों से अभिप्राय उन लाभों से जो एक उद्योग की सभी फर्मों को प्रात होता हैं।

प्रश्न 26.
आन्तरिक बचतों का अर्थ लिखो।
उत्तर:
फर्म द्वारा उत्पादन का आकार बढ़ाने पर जो व्यय प्राप्त होते हैं उन्हें आन्तरिक बचतें कहते हैं।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 27.
पैमाने के प्रतिफल की परिभाषा लिखो।
उत्तर:
दीर्घकाल में उत्पादन के दो या अधिक साधनों में अनुपातिक परिवर्तन के परिणामस्वरूप उत्पादन की मात्रा में परिवर्तन के व्यवहार को पैमाने के प्रतिफल कहते हैं।

प्रश्न 28.
साधन के प्रतिफल की परिभाषा लिखो।
उत्तर:
उत्पादन के अन्य साधनों को स्थिर रखकर एक साधन की इकाइयों में परिवर्तन करने पर उत्पाद में परिवर्तन के व्यवहार को साधन का प्रतिफल कहते हैं।

प्रश्न 29.
उत्पादन के परिवर्तन साधन का मतलब बताओ।
उत्तर:
उत्पादन के वे साधन जो अल्पकाल में बदले जा सकते हैं अथवा उत्पादन के वे साधन जिनकी मात्रा, उत्पादन स्तर में परिवर्तन के साथ परिवर्तित हो जाती है उत्पादन के परिवर्तनशील साधन कहलाते है। जैसे कच्चा माल, अस्थयी श्रमिक आदि।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 30.
उत्पादन के स्थिर साधनों का क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
उत्पादन के वे साधन अल्पकाल में नहीं बदला जा सकता है उन्हें उत्पादन के स्थिर के साधन कहते हैं। जैसे मशीन, फैक्टरी की इमारत आदि।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
पैमाने के प्रतिफल का गणितीय निरूपण लिखो।
उत्तर:
माना एक फर्म का उत्पादन फलन है –
y = f(x1, x2)
इस उत्पादन फलन का अभिप्राय यह है कि साधन – 1 की  × इकाइयाँ एवं साधन – 2 की x1, इकाइयों का प्रयोग करने से उत्पाद की y मात्रा का उतपादन होता है। माना फर्म दोनो साधनों को t गुना बढ़ाती है। जहाँ t > 1 गतिणतीय रूप में पैमाने तीनों प्रतिफलों को निम्नलिखित ढंग से प्रदर्शित किया जा सकता है।
पैमाने का वर्धमान प्रतिफल f(tx1, tx2) > t(x1, X2)
पैमाने का समता प्रतिफल f(tx1, tx2) = t(x1, X2)
पैमाने का हासमान प्रतिफल f(tx1, tx2) < t(x1, x2)

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 2.
कॉब डगलस उत्पादन फलनों को संक्षेप में समझाइए।
उत्तर:
माना उत्पादन फल
\(y=x_{1}^{\alpha}, x_{2}^{\beta}\)
इस प्रकार के उत्पादन फलन को कॉब डगलस उत्पादन फलन कहते हैं।
मान xc = \(\bar{x}_{1}\), x2 = \(\bar{x}_{1}\), y उत्पादन की मात्रा
\(y_{0}=x \beta_{2}^{-\alpha-\beta}\)
दोनों साधनों t गुना बढ़ोतरी करने पर नया उत्पाद फलन होगा = \(t^{\alpha+\beta} \bar{x}_{1}^{\alpha} \cdot \bar{x}_{2}^{\beta}\)
α + β = 1 के लिए
y1 = ty0 यह पैमाने के समता प्रतिफल को दर्शाता है।
α + β > 1 के लिए उत्पादन फलन, वर्धमान प्रतिफल को दर्शाता है।
α + β < 1 के लिए उत्पादन फलन, हासमान प्रतिफल को दर्शाता है।

प्रश्न 3.
आइसोक्वेंट का ढाल ऋणात्मक क्यों होता है?
उत्तर:
जब सीमान्त उत्पादन धनात्मक होता है तो यदि उत्पादन का समान स्तर उत्पन्न करने के लिए एक साधन की इकाइयों को बढ़ाया जाता है तो दूसरे साधन में परिवर्तन के विपरीत दिशा में दूसरे साधन में विपरीत दिशा में परिवर्तन करना पड़ता है इसीलिए आइसोक्वेंट का ढाल ऋणात्मक होता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 20

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 4.
आइसोक्वेंट की अवधारणा को स्पष्ट करें।
उत्तर:
उत्पादन तकनीक को वैकल्पिक विधि से दर्शाने की विधि को आइसोक्वेंट कहते हैं। दो साधन आगतों के वे सभी संभव समुच्चय जिनसे समान मात्रा में उत्पादन की अधिकतम मात्रा उत्पादित की जाती है, आइसोक्वेंट कहलाता है। प्रत्येक आइसोक्वेंट उत्पादन के विशिष्ट स्तर को दर्शाता है और उसे उस उत्पादन स्तर से नामांकित किया जाता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 21

साधन आगतों के समतल में रेखाचित्र उत्पादन स्तर y = y1, y = y2 तथा y = y3 को दर्शाता है। साधन आगतों के दो संयोजन (x’1, x’2) और (x”1,x’2) उत्पादन के समान स्तर y1, को उत्पन्न करते हैं। यदि साधन 2 को समान रखा जाए और साधन 1 को x”1 तक बढ़ाया जाए तो उत्पादन में बढ़ोतरी होती है इससे हम ऊँचे उत्पादन स्तर y2, पर पहुंचते हैं।

प्रश्न 5.
साधन के घटते प्रतिफल के कारण लिखो।
उत्तर:
साधन के घटते प्रतिफल के कारण:
1. उत्पादन साधनों का अधिक उपयोग:
परिवर्तनशील साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाने पर एक सीमा के बाद उत्पादन के स्थिर साधनों का अधिक उपयोग होने लगता है जिससे साधन का घटता प्रतिफल लागू होता है।

2. अपूर्ण प्रतिस्थापन:
उत्पादन के साधन एक-दूसरे के पूर्ण प्रतिस्थापक नहीं होता हैं। एक फर्म एक साधन का दूसरे साधन से प्रतिस्थापन लाभपूर्वक एक सीमा तक ही कर सकती है। उस सीमा के बाद परिवर्तनशील साधन की इकाइयों को बढ़ाकर प्रतिस्थापन घटते प्रतिफल को जन्म देता है।

3. सहयोग का अभाव:
उत्पादन साधनों में आदर्श संयोग के बाद परिवर्ती साधन की इकाइयों को बढ़ाने पर परिवर्ती साधन व स्थिर साधनों में बेहतर तालमेल होने लगता है जो घटते प्रतिफल का कारण होती है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 6.
पैमाने के वर्धमान प्रतिफल के क्या कारण है? उनमें से किसी एक को समझाओ।
उत्तर:
उत्पादन पैमाने को बढ़ाने पर एक फर्म को पैमाने बचतें एवं अबचतें प्राप्त होती हैं। जब उत्पादन पैमाने की बचतों का योग अबचतों के योग से ज्यादा है तो पैमाने का वर्धमान प्रतिफल होता है। उत्पादन पैमाने की बचतों को दो वर्गों में बांटा जाता है –

  1. उत्पादन पैमाने की आन्तरिक बचतें तथा
  2. उत्पादन पैमाने की बाहा बचतें

उत्पादन पैमाने की आन्तरिक बचतें:
वे बचतें जो फर्म को उत्पादन का आकार बढ़ाने के कारण प्राप्त होती हैं आन्तरिक बचतें कहलाती हैं। कुछ आन्तरिक बचतें निम्नलिखित हैं –

  1. तकनीकी बचतें
  2. श्रम बचतें
  3. प्रबन्धकीय बचतें
  4. वित्तीय बचतें
  5. क्रय-विक्रय की बचतें

प्रश्न 7.
कुल उत्पाद, औसत उत्पाद तथा सीमान्त उत्पाद में संबंध बताओ।
उत्तर:
कुल उत्पाद, ओसत उत्पाद तथा सीमान्त उत्पाद में संबंध –

  1. रोजगार के एक निश्चित स्तर तक कुल उत्पाद, औसत उत्पाद, तथा सीमान्त उत्पाद तीनों में वृद्धि होती है। सीमान्त उत्पाद, औसत उत्पाद से अधिक होता है।
  2. जब औसत उत्पाद व सीमान्त उत्पाद दोनों समान होते हैं तो औसत उत्पाद अधिकतम होता है।
  3. इसके बाद परिवर्तनशील साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाने पर कुल उत्पाद कम दर से बढ़ता है तथा सीमान्त व औसत उत्पाद दोनों घटते हैं।
  4. जब सीमान्त उत्पाद शून्य हो जाता है तो कुल उत्पाद अधिकतम होता है, परन्तु औसत उत्पाद कभी भी शून्य नहीं होता है।
  5. जब सीमान्त उत्पाद ऋणात्मक हो जाता है तो कुल उत्पाद घटने लगता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 8.
पैमाने के घटते प्रतिफल तथा साधन के घटते प्रतिफल में अन्तर लिखो।
उत्तर:
दीर्घकाल में जब दो या अधिक साधन आगतों में अनुपातिक बढ़ोतरी करने पर कुल उत्पाद में अनुपातिक रूप से कम बढ़ोतरी होती है तो उसे पैमाने का घटता प्रतिफल कहते हैं। अल्पकाल में जब अन्य साधनों को स्थिर रखकर एक परिवर्तनशील साधन की इकाइयों में बढ़ोतरी करने पर कुल उत्पाद में कम दर से वृद्धि होती है तो इसे साधन का घटता प्रतिफल कहते हैं। पैमाने के घटते प्रतिफल का संबंध दीर्घकाल से होता है जबकि साधन के घटते प्रतिफल का संबंध अल्पकाल से है।

प्रश्न 9.
साधन के वृद्धि प्रतिफल के पीछे क्या कारण है?
उत्तर:
साधन के वृद्धि प्रतिफल के कारण –

  1. जब परिवर्तनशील साधन की इकाइयों को बढ़ाया जाता है तो स्थिर साधनों का बेहतर उपयोग शुरू हो जाता है।
  2. परिवर्तनशील साधन बढ़ी हुई इकाइयों पर श्रम विभाजन सभव हो जाता है।
  3. परिवर्ती साधन की इकाइयों बढ़ने पर फर्म स्थिर व परिवर्तनशील साधन उत्तम एवं आदर्श संयोग बनाती है।

प्रश्न 10.
उत्पादन पैमाने की आन्तरिक बचतों को समझाओ।
उत्तर:
वे बचतें जो किसी फर्म को उत्पादन का आकार बढ़ाने पर प्राप्त होती हैं, उन्हें आन्तरिक बचतें कहते हैं। कुछ आन्तरिक बचतें इस प्रकार से हैं –
1. श्रम बचतें:
उत्पादन का पैमाने बढ़ाने पर एक फर्म जटिल श्रम विभाजन का प्रयोग कर सकती हैं। जटिल श्रम विभाजन से श्रम की दक्षता एवं उत्पादकता में बढ़ोतरी होती है।

2. प्रबन्धकीय बचतें:
उत्पादन पैमाने का बड़ा आकार फर्म को कुशल एवं दक्ष प्रबन्धक नियोजित करने की अनुमति प्रदान करता है। कुशल एवं दक्ष प्रबन्धकों के कारण उत्पादन में वृद्धि अधिक दर से होती है।

3. तकनीकी बचतें:
उत्पादन का बड़ा आकार होने से उत्पादन की उन्नत एवं विकसित उत्पादन तकनीक का उपयोग करने की संभावना बढ़ जाती है। उन्नत उत्पादन तकनीकी से वर्धमान प्रतिफल प्राप्त होता है।

4. वित्तीय बचते:
बड़े आकार वाली फर्म की साख प्रतिष्ठा उच्च स्तर की होती है। बड़े आकार वाली फर्म कम ब्याज दर पर आसानी से बड़े आकार में ले सकती है।

5. क्रय-विक्रय की बचतें:
एक फर्म जो उत्पादन का आकार बढ़ाती है वह मध्यवर्ती वस्तुओं को विशाल मात्रा में क्रय करती है तथा बड़ी मात्रा में उत्पादन करती है। बड़े आकार में क्रय-विक्रय से फर्म को फायदा होता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 11.
रेक्टेगुलर हाइपरबोला (आयताकार अति परवलय) की अवधारणा को स्पष्ट करो।
उत्तर:
समीकरण xy = C से प्राप्त वक्र को अति परवलय कहते हैं। जहाँ x तथा y चर मूल्य है एवं c स्थिरांक है।
अतिपरवलंय x – y तल में एक ऋणात्मक ढाल वाला वक्र है। x अथवा y को अनन्त मान के लिजए अतिपरवलय वक्र x – अक्ष (y – अक्ष) के सममित हो जाता है। वक्र के किन्हीं दो बिन्दुओं p तथा q पर ay1.px1, और ay2.qx2, का क्षेत्रफल समान होता है जिसका मान स्थिरांक c के सामन होता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 22

प्रश्न 12.
स्थिर अनुपात एवं परिवर्ती अनुपात उत्पादन फलन में अन्तर स्पष्ट करो।
उत्तर:

  1. स्थिर अनुपात उत्पादन फलन में उत्पादन की विभिन्न मात्राओं पर विभिन्न साधनों का अनुपात एक समान रहता है जबकि परिवर्ती अनुपात उत्पादन फलन में उत्पादन के विभिन्न स्तरों पर विभिन्न साधनों का अनुपात अलग-अलग होता है।
  2. उत्पादन के स्थिर अनुपात फलन में सभी उत्पादन साधनों में परिवर्तन के कारण उत्पादन की मात्रा बदलती है जबकि परिवर्ती अनुपात उत्पादन फलन में उत्पादन की मात्रा उत्पादन के साधन में परिवर्तन के कारण बदलती है।
  3. स्थिर अनुपात में उत्पादन की मात्रा में परिवर्तन उत्पादन पैमाने में परिवर्तन के कारण होता है जबकि परिवर्ती अनुपात में उत्पादन की मात्रा में परिवर्तन उत्पादन स्तर में परिवर्तन के कारण होता है।
  4. स्थिर अनुपात फलन का संबंध दीर्घकाल से होता है जबकि परिवर्ती अनुपात फलन का संबंध अल्पकाल से है।

प्रश्न 13.
बाह्य बचतें क्या हैं? संक्षेप में बताइए।
उत्तर:
किसी उद्योग का समग्र रूप से विस्तार होने पर नए बाजारें, नई उत्पादन तकनीक, विकसित व कुशल प्रबन्धन, जटिल श्रम विभाजन, नई खोजों के विदोहन की संभावनाएँ बढ़ जाती हैं। दूसरे शब्दों में, उद्योग का समग्र विस्तार सभी फर्मों के लिए लाभकारी होता है चाहे फर्म अपना उत्पादन का पैमाना बढ़ाए या ना बढ़ाए। इन्हें बाह्य बचते कहते हैं। कुछ बाह्म बचतें निम्नलिखित हैं –

  1. सघनता की बचतें
  2. सूचनाओं की बचतें
  3. विकेन्द्रीयकरण की बचतें

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 14.
अल्पकाल एवं दीर्घकाल में अन्तर स्पष्ट करो।
उत्तर:
अल्पकाल एवं दीर्घकाल में अन्तर –

  1. अल्पकाल से अभिप्राय उस समय अवधि से है जो स्थिर साधनों में परिवर्तन के लिए आवश्यक समय अवधि से कम होती है। जबकि दीर्घकाल यह समय अवधि होती है जिसमें स्थिर साधनों में परिवर्तन के लिए आवश्यक समय अवधि से ज्यादा होती है।
  2. अल्पकाल में फर्म उत्पादन के परिर्वनशील साधन में परिवर्तन करके उत्पादन स्तर को बदल सकती है जबकि दीर्घकाल में फर्म सभी साधनों में परिवर्तन करके उत्पादन का पैमाना बदल सकती है।
  3. अल्पकाल में एक साधन परिवर्तनशील होता है तथा अन्य साधन स्थिर रहते हैं जबकि दीर्घकाल में फर्म सभी साधनों में परिवर्तन कर सकती है।

प्रश्न 15.
स्थिर अनुपात उत्पादन फलन को संक्षेप में समझाइए।
उत्तर:
जब कोई फर्म सभी साधनों में अनुपातिक परिवर्तन करती है तो यह माना जाता है कि फर्म का उत्पादन पैमाने परिवर्तित होता है। वह उत्पादन फलन जो उत्पादन के पैमाने का अध्ययन करता है उसे स्थिर अनुपात उत्पादन फलन कहते हैं। स्थिर अनुपात उत्पादन फलन उस उत्पादन व्यवहार से संबंधित होता है जिसमें सभी साधनों को अनुपातिक रूप में बदल जाता है। बड़ा उत्पादन पैमाना उत्पादन की अधिकतम क्षमता को व्यक्त करता है तथा छोटा उत्पादन पैमाना उत्पादन की कम क्षमता को व्यक्त करता है। विभिन्न पैमानों पर साधनों का अनुपात स्थिर होता है।

प्रश्न 16.
औसत उत्पाद वक्र उल्टे U आकार का क्यों होता है?
उत्तर:
उत्पादन प्रक्रिया के आरम्भ में परिवर्ती साधन की इकाइयाँ बढ़ाने पर वर्धमान प्रतिफल प्राप्त होता है जिससे प्रति इकाई साधन कुल उत्पादन ज्यादा दर से प्राप्त होता है। अतः औसत उत्पाद वक्र ऊपर की ओर उठता है। इसके बाद समता प्रतिफल लागू होता है तो प्रति इकाई साधन कुल उत्पादन समान दर से प्राप्त होता है। औसत उत्पाद स्थिर हो जाता है। अन्त में जब साधन का ह्यसमान प्रतिफल लागू होता है तो परिवर्ती साधन की औसत उत्पाद वक्र नीचे की ओर गिरता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 23

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 17.
आरम्भ में परिवर्ती साधन की इकाई बढ़ाने पर सीमान्त उत्पाद क्यों बढ़ता है, इसे कब कम होना चाहिए?
उत्तर:
यह आवश्यक नहीं है कि आरम्भ में सीमान्त उत्पाद में वृद्धि होती है। यह उत्पाद के स्थिर साधनों का, परिवर्ती साधन की इकाइयों से अपूर्ण विदोहन ही होता है तो परिवर्ती साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाने पर स्थिर साधनों का विदोहन अधिक होने लगता है और साधन का वर्धमान प्रतिफल मिलता है। जब स्थिर साधनों का परिवर्ती साधन से पूर्ण विदोहन हो जाता है तो इसके बाद परिवर्ती साधन की इकाइयाँ बढ़ाने पर हासमान प्रतिफल लागू हो जाता है अतः सीमान्त उत्पाद घटने लगता है। आरम्भिक अवस्था में परिवर्ती साधन की इकाइयाँ की कम मात्रा के कारण स्थिर साधनों का पूर्ण विदोहन नहीं हो पाता है। इसलिए परिवर्ती साधन की इकाई बढ़ाने पर स्थिर के विदोहन में बढ़ोतरी होने लगती है और सीमान्त उत्पाद में वृद्धि होती है।

Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 24

प्रश्न 18.
सीमान्त उत्पाद व कुल उत्पाद में संबंध बताओ।
उत्तर:
सीमान्त उत्पाद व कुल उत्पाद में संबंध –

  1. जब तक सीमान्त उत्पाद में वृद्धि होती है, कुल उत्पाद में अधिक दर से वृद्धि होती है।
  2. जब सीमान्त उत्पाद लगभग स्थिर होने लगता है तो कुल उत्पाद एक समान दर से बढ़ता है।
  3. जब सीमान्त घटता है परन्तु धनात्मक होता है तब कुल उत्पाद में कम दर से वृद्धि होती है।
  4. जब सीमान्त उत्पाद शून्य होता है तब कुल उत्पाद अधिकतम होता है।
  5. जब सीमान्त उत्पाद ऋणात्मक होता है तब कुल उत्पाद घटने लगता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 19.
औसत उत्पाद तथा सीमान्त उत्पाद में संबंध लिखो।
उत्तर:

  1. जब सीमान्त उत्पाद, औसत उत्पाद से अधिक होता है, औसत उत्पाद में वृद्धि होती है।
  2. जब सीमान्त उत्पाद, औसत उत्पाद के समान होता है, औसत उत्पाद अधिकतम होता है।
  3. जब सीमान्त उत्पाद, औसत उत्पाद से कम होता है, औसत उत्पाद में कमी होती है।

Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 25

प्रश्न 20.
सीमान्त उत्पाद वक्र का आकार उल्टे U जैसा क्यों होता है?
उत्तर:
उत्पादन प्रक्रिया के आरम्भ में एक फर्म को परिवर्ती साधन का वर्धमान प्रतिफल प्राप्त होता है। अतः परिवर्ती साधन की प्रत्येक अतिरिक्त इकाई का नियोजन बढ़ाने पर कुल उत्पादन में अनुपातिक वृद्धि ज्यादा दर से होती है। अतः सीमान्त उत्पाद वक्र ऊपर कुल ओर उठता है। इसके बाद जब साधन का समता प्रतिफल लागू होता है तो कुल उत्पादन में अनुपातिक वृद्धि स्थिर हो जाती है या परिवर्ती साधन की अतिरिक्त इकाई का नियोजन बढ़ाने पर कुल उत्पादन में अनुपातिक वृद्धि समान दर से होता है। अन्त में जब साधन का हासमान प्रतिफल लागू होता है तो परिवर्ती साधन की एक अतिरिक्त इकाई का नियोजन बढ़ाने पर कुल उत्पाद में अनुपातिक वृद्धि कम दर से होता है। अतः सीमान्त उत्पाद वक्र नीचे की ओर गिरता है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 26

प्रश्न 21.
अवसर लागत की अवधारणा को स्पष्ट करें।
उत्तर:
दूसरे स्तर के सर्वोत्तम प्रयोग में साधन के मूल्य को उसकी अवसर लागत कहते हैं। प्रत्येक ऐसे साधन की अवसर लागत होती है जिसके वैकल्पिक उपयोग संभव होते हैं। उत्पाद में काम आने वाले फर्म के निजी साधनों की भी अवसर लागत होती है। उदाहरण के लिए एक स्वः नियोजित श्रमिक की अवसर लागत, श्रम बाजार में उस श्रमिक की मजदूरी के बराबर होती हैं यदि वह अपनी सेवाएं दूसरों को प्रदान करें।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 22.
क्या सीमान्त में स्थिर लागत शामिल होती है? समझाइए।
उत्तर:
उत्पाद की एक अतिरिक्त इकाई का उत्पादन बढ़ाने पर कुल उत्पाद में बढ़ोतरी को सीमान्त लागत कहते हैं। इस प्रकार सीमान्त लागत एक अतिरिक्त लागत होती है। एक अतिरिक्त लागत परिवर्तन लागत होती है। अतः सीमान्त लागत स्थिर लागत का भाग नहीं हो सकती है क्योंकि स्थिर लागत उत्पादन के प्रत्येक स्तर पर एक समान रहती है। स्थिर लागत में उत्पादन स्तर में उतार-चढ़ाव होने पर बदलाव नहीं होता है। अतः यह प्रश्न ही नहीं उठता है कि सीमान्त लागत में स्थिर लागत भी शामिल होती है।

प्रश्न 23.
आयताकार अति परवलय की विशिष्टता के बारे में लिखो।
उत्तर:
औसत स्थिर लागत वक्र का आकार आयताकार अतिपरवलय के समान होता है। यदि हम औसत स्थिर लागत पर कोई भी बिन्दु लेते हैं तो उस बिन्दु पर AFC तथा उत्पादन मात्रा का गुणनफल एक समान प्राप्त है। यह इसीलिए होता है क्योंकि AFC तथा उत्पादन के प्रत्येक स्तर पर समान रहती है। इस विशिष्टता वाले वक्र को आयताकार अतिपरवलय कहते हैं।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 27

प्रश्न 24.
हासमान प्रतिफल का नियम एवं परिवर्ती अनुपात का नियम में अंतर लिखो।
उत्तर:
हासमान प्रतिफल, परिवर्ती के नियम का परपरागत रूप है। ह्रासमान प्रतिफल के नियम का प्रतिपादन डेविट रिकार्डो ने किया था। यह नियम कृषि क्षेत्र में परिवर्तनशील साधन की इकाइयाँ बढ़ाने पर कृषि क्षेत्र की उत्पादकता में कमी को स्पष्ट करने के लिए प्रतिपादित किया गया था। आधुनिक अर्थशास्त्रियों ने इस नियम के उपयोग के क्षेत्र का विकास हेतु परिवर्ती अनुपात के नियम का प्रतिपादन किया है। आधुनिक अर्थशास्त्रियों ने यह माना कि हासमान प्रतिफल कृषि क्षेत्र के अलावा उद्योग क्षेत्र में भी लागू होता है। स्थिर साधनों एवं परिवर्ती साधन की इकाइयों के प्रयोग से एक सीमा तक कुल उत्पाद दर से वृद्धि होती है उसके बाद परिवर्ती साधन की इकाइयाँ बढ़ाने पर साधन का ह्रासमान प्रतिफल प्राप्त होता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 25.
स्थिर लागत तथा परिवर्तनशील लागत में अंतर लिखो।
उत्तर:
1. लागत का वह भाग जो उत्पादन स्तर में परिवर्तन होने पर भी नहीं बदलता है उसे स्थिर लागत कहते हैं जबकि जो लागत उत्पादन स्तर में परिवर्तन होने पर बदल जाती है परिवर्तनशील लागत कहलाती है।

2. स्थिर लागत का संबंध उत्पादन स्तर से नहीं होता है यह लागत शून्य उत्पादन स्तर एवं अधिकतम उत्पादन स्तर पर एक समान होती है। जबकि परिवर्तशील लागत शून्य उत्पादन स्तर पर शून्य होती है और जैसे-जैसे स्तर बढ़ता है परिवर्तनशील लागत बढ़ती है।

3. उदाहरण:
स्थिर लागत – भूमि का किराया स्थायी श्रमिकों की मजदूरी आदि –

परिवर्तनशील लागत –

  1. कच्चे माल का मूल्य
  2. अस्थायी श्रम की मजदूरी आदि

प्रश्न 26.
नीचे श्रम उत्पादन अनुसूची दी गई है। श्रम की औसत एवं सीमान्त उत्पादकता अनुसूची बनाइए।Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 28
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 29

प्रश्न 27.
सीमान्त लागत तथा औसत परिवर्तनशील लागत के संबंध लिखो।
उत्तर:

  1. जब सीमान्त लागत, औसत परिवर्तनशील लागत से कम होती है तो औसत परिवर्तनशील लागत घटती है।
  2. जब सीमान्त लागत औसत परिवर्तनशील लागत के समान होती है तो औसत परिवर्तनीशल लागत न्यूनतम होती है।
  3. जब सीमान्त औसत परिवर्तनशील लागत से अधिक होती है तो औसत परिवर्तनशील लागत में वृद्धि होती है।

Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 30

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 28.
सीमान्त लागत तथा औसत लागत में संबंध लिखो।
उत्तर:

  1. सीमान्त लागत, औसत लागत से कम होती है तो औसत लागत घटती है।
  2. जब सीमान्त लागत, औसत लागत के बराबर होती है तो औसत लागत न्यूनतम होती है।
  3. जब सीमान्त लागत, औसत लागत के ज्यादा होती है तो औसत लागत में वृद्धि होती है।

Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 31

प्रश्न 29.
नीचे श्रम की औसत उत्पादकता अनुसूची दी गई है। कुल उत्पादकता एवं सीमान्त उत्पादकता अनुसूची बनाइए। श्रम के शून्य रोजगार स्तर पर कुल उत्पादकता शून्य मानिए।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 32
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 33

प्रश्न 30.
कुल लागत सीमान्त लागतों का योग होती है। संक्षेम में समझाइए।
उत्तर:
नहीं, उत्पादन के प्रत्येक स्तर के लिए कुल लागत सीमान्त लागत का योग नहीं होती है। सीमान्त लागत एक अतिरिक्त लागत होती हैं अतिरिक्त लागत परिवर्तनशील लागत होती है। इस प्रकार सीमान्त लागत का योग कुल परिवर्तनशील लागत होती है। सीमान्त लागत का योग कुल लागत नहीं होती है। कुल लागत में स्थिर लागत भी शामिल होती है।
इस प्रकार ΣMC # TC
EMC = TVC

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 31.
सीमान्त लागत और कुल लागत में संबंध लिखो।
उत्तर:

  1. दो सतत उत्पादन स्तरों की कुल लागत के अन्तर को सीमान्त लागत कहते हैं।
    MC = TCN – TCNN-1
  2. जब सीमान्त लागत घटती है तो कुल लागत कम दर से बढ़ती है।
  3. जब सीमान्त लागत न्यूनतम होती है तो कुल लागत समान दर से बढ़ती है।
  4. जब सीमान्त लागत बढ़ती है तो कुल लागत ज्यादा दर से बढ़ती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
साधन के प्रतिफल एवं पैमाने के प्रतिफल में अन्तर स्पष्ट करो।
उत्तर:
1. साधन के प्रतिफल में साधन आगतों:
उत्पाद के उस व्यवहार का अध्ययन किया जाता है जिसमें अन्य साधनों की स्थिर इकाइयों के साथ फर्म परिवर्तनशील साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाती है जबकि उत्पादन के पैमाने में साधन आगतों-उत्पाद के उस संबंध का अध्ययन किया जाता है जिसमें फर्म उत्पादन के दो या अधिक साधनों का अनुपातिक नियोजन बढ़ाती है।

2. साधन के प्रतिफल का संबंध अल्पकाल से होता है जबकि पैमाने के प्रतिफल का संबंध दीर्घकाल से है।

3. साधन के विभिन्न प्रतिफलों के लिए विभिन्न साधनों का अनुपात अलग-अलग होता है जबकि पैमाने के विभिन्न प्रतिफलों के लिए विभिन्न साधनों का अनुपात स्थिर (समान) होता है।

4. साधन के प्रतिफल में उत्पादन का पैमाना नहीं बदलता जबकि पैमाने के प्रतिफल में उत्पादन पैमाना बदल जाता है।

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 2.
पैमाने के बढ़ते एवं घटते प्रतिफल क्रमशः दीर्घकालीन औसत लागत के घटते व बढ़ते भाग होते हैं। पक्ष या विपक्ष में तर्क दीजिए।
उत्तर:
पैमाने के वर्धमान प्रतिफल के कारण प्रति इकाई दीर्घकालीन कुल लागत घटती है। पैमाने के घटते प्रतिफल के कारण प्रति इकाई दीर्घकालीन कुल लागत में वृद्धि होती है। आरम्भ में अल्पकाल में स्थिर लागतें अपरिवर्तित रहती हैं इसलिए उत्पादन की मात्रा बढ़ाने पर प्रति इकाई कुल लागत में इस कारण से कमी आती है कि साधन के वर्धमान प्रतिफल लागू होने पर कुल परिवर्तनशील लागत कम दर से बढ़ती है।

लेकिन दीर्घकाल में फर्म उत्पादन के सभी साधनों में परिवर्तन कर सकती है। अतः इस अवधि में सभी लागतें परिवर्तनशील होती हैं। उत्पादन पैमाने का वर्धमान प्रतिफल लागू होने से प्रति इकाई दीर्घकालीन कुल लागत अथवा दीर्घकालन औसत लागत घटती है। इसी प्रकार पैमाने का हासमान प्रतिफल लागू होने पर प्रति इकाई दीर्घकालिन कुल लागत अथवा औसत लागत में वृद्धि होती है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 34

प्रश्न 3.
साधन के प्रतिफल के परिवर्ती अनुपात का नियम बताइए एवं समझाइए।
उत्तर:
परिवर्ती अनुपात का नियम:
यह नियम साधन आगतों एवं उत्पाद के उस संबंध को बताता है जब फर्म अन्य साधन आगतों को स्थिर रखकर एक परिवर्तनशील साधन की इकाइयों को बढ़ाती है। यह नियम बताता है कि स्थिर साधनों की निश्चित इकाइयों के साथ परिवर्ती साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाती है तो आरम्भ में कुल भौतिक उत्पाद में अधिक दर से बढ़ोतरी होती है इसके बाद कुल भौतिक उत्पाद कम दर से बढ़ता है और अन्त में यह कम होने लगता है।

प्रथम चरण:
उत्पादन प्रक्रिया के आरम्भ में जब फर्म परिवर्तनशील साधन की इकाइयों को बढ़ाती है तो एक सीमा तक कुल भौतिक उत्पाद में ज्यादा दर से वृद्धि होती है। इस चरण में सीमान्त व औसत भौतिक उत्पाद बढ़ते है। सीमान्त भौतिक उत्पाद घटने लगता है और इस चरण के अन्त में सीमान्त भौतिक उत्पाद, औसत भौतिक उत्पाद के बराबर हो जाता है।

द्वितीय चरण:
सीमान्त भौतिक उत्पाद व औसत भौतिक उत्पाद के समान होने के बाद जब फर्म परिवर्तनशील साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाती है तो कुल भौतिक उत्पाद कम दर से बढ़ता है। सीमान्त व औसत भौतिक उत्पाद दोनों घटते हैं। सीमान्त उत्पाद, औसत उत्पाद से ज्यादा दर से घटता है। इस चरण के अन्त में सीमान्त उत्पाद शून्य हो जाता है तो कुल भौतिक उत्पाद अधिकतम होता है। लेकिन औसत उत्पाद कभी शून्य नहीं होता है।

तृतीय चरण:
सीमान्त भौतिक कुल उत्पाद उत्पाद शून्य होने के बाद यदि फर्म परिवर्तनशील साधन की इकाइयों का नियोजन बढ़ाती है तो कुल उत्पाद घटने लगता है तो सीमान्त उत्पाद ऋणात्मक हो जाता है। एक विवेकशील उत्पादक तीसरे चरण में उत्पादन नहीं करता है। वह दूसरे चरण में ही उत्पादन करेगा।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 35

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 4.
पैमाने के प्रतिफल के नियम समझाए।
उत्तर:
पैमाने का प्रतिफल नियम:
दीर्घकाल में फर्म उत्पादन के सभी साधनों में परिवर्तन कर सकती है। दीर्घकाल में दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि और उत्पाद मात्रा के संबंध को पैमाने का प्रतिफल कहते हैं।

पैमाने के प्रतिफल के तीन नियम हैं:

1. पैमाने का वर्धमान प्रतिफल-दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल भौतिक उत्पाद में अधिक अनुपातिक वृद्धि होती है तो इसे पैमाने का वर्धमान प्रतिफल कहते हैं।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 36

2. पैमाने का समता प्रतिफल:
दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल भौतिक उत्पाद में समान अनुपात में वृद्धि होती है तो इसे पैमाने का समता प्रतिफल कहते हैं।

3. पैमाने का हासमान प्रतिफल:
दो या अधिक साधनों में अनुपातिक वृद्धि करने पर यदि कुल भौतिक उत्पाद में कम अनुपात में वृद्धि होती है तो इसे पैमाने का समान प्रतिफल कहते हैं। रेखाचित्र में बिन्दु A से B तक वर्धमान प्रतिफल, बिन्दु B से C तक समता प्रतिफल तथा C से D तक हासमान प्रतिफल दर्शाया गया है।

संख्यात्मक प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
एक फर्म की कुल लागत अनुसूचि नीचे दी गई है –
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 37

(a) फर्म की कुल स्थिर लागत क्या है?
(b) औसत स्थिर लागत AFC, औसत परिवर्तनशील लागत AVC,कुल औसत लागत ATC तथा सीमान्त लागत MC की गणना करो।
उत्तर:
(a) शून्य उत्पाद स्तर पर कुल लागत = 60 रुपये, अतः फर्म की कुल स्थिर लागत = 60 रुपये

(b)
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 38

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 2.
यदि उत्पादन स्तर 1 पर औसत स्थिर लागत 40 रुपये है तो निम्नलिखित तालिका को पूरा करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 39
उत्तर:
उत्पादन इकाई – 1 पर AFC 40 रुपये है। अतः कुल स्थिर लागत भी 40 रुपये है।Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 40

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 3.
एक फर्म की स्थिर लागत 1200 रुपये है। निम्नलिखित तालिका का प्रयोग करके TVC, AVC, TC और ATC की गणना करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 41a
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 42a

प्रश्न 4.
निम्नलिखित तालिका का प्रयोग करके AFC एवं AVC की गणना करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 43a
उत्तर:
उत्पादन स्तर शून्य पर कुल लागत = 50 रुपये
अतः कुल स्थिर लागत 50 रुपये है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांतpart - 2 img 44a

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 5.
निम्नलिखित तालिका का प्रयोग करके TVC व MC ज्ञात करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 45a
उत्तर:
शून्य उत्पादन स्तर पर कुल लागत 40 रुपये है अंत: कुल स्थिर लागत भी 40 है।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 46a

प्रश्न 6.
एक फर्म की स्थिर लागत 2000 रु0 है। निम्नलिखित तालिका का प्रयोग करे TVC, AVC, TC तथा AC ज्ञात करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 47
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 48

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 7.
निम्नलिखित तालिका को पूरा करें।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 49
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 50

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 8.
निम्नलिखित तालिका से AVC ज्ञात करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 51a
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 52a

प्रश्न 9.
निम्नलिखित तालिका को पूरा करें।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 53a
उत्तर:
शून्य उत्पादन स्तर पर कुल लागत = 12 रुपये
अतः कुल स्थिर लागत TFC = 12 रुपये
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 54a

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 10.
TFC, TVC,AFC,ATC तथा MC की गणना करो।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 55a
उत्तर:
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 56a

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 11.
निम्नलिखित तालिका का प्रयोग करके AFC तथा MC ज्ञात करें।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उत्पादन तथा लागत part - 2 img 57a
उत्तर:
उत्पादन स्तर शून्य पर कुल लागत 90 रु० है। अतः कुल स्थिर लागत 90 रु० होगी।
Bihar Board Class 12 Economics Chapter 3 उपभोक्ता के व्यवहार का सिद्धांत part - 2 img 58a

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
वास्तविक लागत है –
(A) उत्पादन लागत
(B) स्वामियों के द्वारा साधन की पूर्ति में उठाई गई सभी लागत
(C) उत्पाद की कीमत
(D) औसत लागत
उत्तर:
(B) स्वामियों के द्वारा साधन की पूर्ति में उठाई गई सभी लागत

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 2.
मौद्रिक लागत से अभिप्राय है –
(A) एक वस्तु के उत्पादन तथा विक्रय में खर्च किया गया मुद्रा में व्यय
(B) उत्पाद का विक्रय मूल्य
(C) कुल परिवर्तनशील लागत
(D) कुल स्थिर लागत
उत्तर:
(A) एक वस्तु के उत्पादन तथा विक्रय में खर्च किया गया मुद्रा में व्यय

प्रश्न 3.
सामाजिक लागत निजी लागत में कम होगी यदि –
(A) औसत लागत कम हो रही है
(B) सीमान्त लागत कम हो रही है
(C) औसत लागत बढ़ रही है
(D) एक व्यक्ति के कार्य के समाज को कुल लाभ रहा है
उत्तर:
(D) एक व्यक्ति के कार्य के समाज को कुल लाभ रहा है

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 4.
किसी वस्तु की मौद्रिक लागत में निम्नलिखित मदें सम्मिलित की जाती है –
(A) स्पष्ट लागते
(B) केवल अस्पष्ट लागते
(C) सामान्य लाभ
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 5.
स्पष्ट लागतों में शामिल है –
(A) कच्चे माल की कीमत
(B) श्रमिकों की मजदूरी
(C) उधार पूँजी पर ब्याज
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 6.
उत्पादनकर्ता के स्वयं के साधनों का मूल्य –
(A) स्पष्ट लागतें कहलाती हैं
(B) अस्पष्ट लागतें कहलाती है
(C) उत्पादनकर्ता का सामान्य लाभ होता है
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(B) अस्पष्ट लागतें कहलाती है

प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?
(A) मौद्रिक लागत = स्पष्ट
(B) असामान्य लाभ = मौद्रिक लागत – स्पष्ट लागत + अस्पष्ट लागत
(C) मौद्रिक लागत = स्पष्ट लागत + अस्पष्ट लागतें + सामान्य लाभ
(D) स्पष्ट लागत = मौद्रिक लागत + अस्पष्ट लागतें + सामान्य लाभ
उत्तर:
(C) मौद्रिक लागत = स्पष्ट लागत + अस्पष्ट लागतें + सामान्य लाभ

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 8.
अवसर लागत को निम्नलिखित नाम से भी सम्बोधित किया जाता है –
(A) वैकल्पिक लागत
(B) हसतान्तरण आय
(C) त्याग
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 9.
वह लागत अथवा आय, जो किसी साधन को उसके परिवर्तन कार्य में बढ़ने के लिए प्रेरित करती है, उसे –
(A) स्पष्ट लागत कहते हैं
(B) अस्पष्ट लागत कहते हैं
(C) अवसर लागत कहते हैं
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर:
(C) अवसर लागत कहते हैं

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 10.
किसी वस्तु की एक निश्चित मात्रा का उत्पादन करने पर फर्म को जितनी लागत सहन करनी पड़ती है, उसे फर्म की –
(A) औसत लागत कहते हैं
(B) कुल लागत कहते हैं
(C) सीमान्त लागत कहते हैं
(D) अवसर लागत कहते हैं
उत्तर:
(B) कुल लागत कहते हैं

प्रश्न 11.
कुल लागत –
(A) सीमान्त लागत का योग होती है
(B) औसत लागत को वस्तु की मात्रा से गुणा करने पर ज्ञात की जा सकती है
(C) से तात्पर्य किसी वस्तु की एक निश्चित मात्रा का उत्पादन करने पर फर्म द्वारा किया गया वयय है
(D) उपर्युक्त कोई भी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त कोई भी

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 12.
जब सीमान्त लागत घटती है तो कुल लागत –
(A) घटती है
(B) बढ़ती है
(C) घटती हुई दर से बढ़ती है
(D) समान रहती है
उत्तर:
(C) घटती हुई दर से बढ़ती है

प्रश्न 13.
जब सीमान्त लागत बढ़ती है तो –
(A) औसत लागत भी बढ़ती है
(B) कुल लागत बढ़ती है
(C) औसत लागत सीमान्त लागत से कम रहती है
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 14.
उत्पादन शून्य होने पर अल्पकाल में स्थिर लागत
(A) शून्य हो जाती है
(B) धनात्मक रहती है
(C) ऋणात्मक हो जाती है
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर:
(B) धनात्मक रहती है

प्रश्न 15.
स्थिर लागतों का उत्पादन की मात्रा से –
(A) सम्बन्ध नहीं होता
(B) कोई सम्बन्ध नहीं होता
(C) सम्बन्ध केवल दीर्घकाल में होता है
(D) सम्बन्ध अल्पकाल और दीर्घकाल दोनों में होता है
उत्तर:
(D) सम्बन्ध अल्पकाल और दीर्घकाल दोनों में होता है

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 16.
वस्तु के उत्पादन की मात्रा में किसी अथवा वृद्धि होने पर कुल स्थिर लागत –
(A) समान रहती है
(B) क्रमशः कम या अधिक हो जाती है
(C) क्रमशः अधिक या कम हो जाती है
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर:
(A) समान रहती है

प्रश्न 17.
परिवर्तनशील लागतें उत्पादन की मात्रा के साथ –
(A) कम या अधिक हो सकती हैं
(B) परिवर्तित नहीं होती
(C) प्रारंभ में समान रहती हैं तथा फिर कम होती जाती हैं
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(A) कम या अधिक हो सकती हैं

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 18.
निम्नलिखित में से किस लागत वक्र का आकार यू की भाँति होता है?
(A) औसत लागत
(B) औसत परिवर्तनशील लागत
(C) सीमान्त लागत
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 19.
उत्पादन लागतें हैं –
(A) उत्पादन के साधनों को दिया जाने वाला पारितोषिक
(B) वस्तु की बिक्री कीमत
(C) उत्पादनकर्ता का व्यय
(D) मशीनों का लागत
उत्तर:
(A) उत्पादन के साधनों को दिया जाने वाला पारितोषिक

Bihar Board Class 12th Economics Solutions Chapter 3 उत्पादन तथा लागत

प्रश्न 20.
स्पष्ट एवं अस्पष्ट लागते अंग हैं –
(A) मौद्रिक लागत का
(B) वास्तविक लागत का
(C) अवसर लागत का
(D) उपर्युक्त सभी का
उत्तर:
(A) मौद्रिक लागत का

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

Bihar Board Class 12th Hindi Book Solutions

Bihar Board Class 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

पंच परमेश्वर अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
प्रेमचन्द ने कितनी कहानियाँ लिखी है?
उत्तर-
प्रेमचन्द ने लगभग 300 कहानियाँ लिखी हैं।

प्रश्न 2.
‘पंच परमेश्वर’ कहानी में किसका उद्घाटन हुआ है?
उत्तर-
‘पंच परमेश्वर’ कहानी में जीवन सत्य का मार्मिक उद्घाटन हुआ है।।

प्रश्न 3.
पंच के पद पर प्रतिष्ठित व्यक्ति किसके प्रति उत्तरदायी होता है?
उत्तर-
पंच के पद पर प्रतिष्ठित व्यक्ति जाति, धर्म और सम्बन्धों से सर्वथा मुक्त न्याय के प्रति उत्तरदायी होता है।

प्रश्न 4.
प्रेमचन्द की कहानी में उनकी चिन्ता के केन्द्रों में क्या रहा है?
उत्तर-
प्रेमचन्द की कहानी में उनकी चिन्ता के केन्द्रों में सदैव शोषित, पीडित, प्रताड़ित और उपेक्षित मनुष्य की मुक्ति रहा है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 5.
पंच की जबान से कौन बोलता है?
उत्तर-
पंच की जबान से ईश्वर अर्थात् खुदा बोलता है।

प्रश्न 6.
जुम्मन की पत्नी का क्या नाम था?
उत्तर-
जुम्मन की पत्नी का नाम करीमन था।

प्रश्न 7.
जुम्मन के पिता का नाम क्या था?
उत्तर-
जुमराती शेख।

प्रश्न 8.
अलगू चौधरी के गुरु का क्या नाम था?
उत्तर-
जुमराती शेख।।

प्रश्न 9.
प्रेमचन्द का पहला उपन्यास कौन है?
उत्तर-
सेवा सदन।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 10.
प्रेमचन्द का अन्तिम उपन्यास कौन-सा है?
उत्तर-
मंगल सूत्र।

प्रश्न 11.
प्रेमचंद का जन्म किस सन् में हुआ था?
उत्तर-
सन् 1880 में।

प्रश्न 12.
प्रेमचंद के समग्र कहानी-संग्रह का क्या नाम है?
उत्तर-
प्रेमचंद की कहानियाँ।

पंच परमेश्वर लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
जुम्मन शेख और अलगू चौधरी के मित्रता की व्याख्या कीजिए।
उत्तर-
जुम्मन शेख और अलगू चौधरी में गाढ़ी मित्रता थी। साझे में खेती होती थी। कुछ लेनदेन में भी साझा था। एक को दूसरे पर अटल विश्वास था। जुम्मन जब हज करने गये थे तब अपना घर अलगू को सौंप गए थे और अलगू जब कभी बाहर जाते, तो जुम्मन पर अपना घर छोड़ देते थे। उनमें न खान-पान का व्यवहार था न धर्म का नाता, केवल विचार मिलते थे। मित्रता का मूलमंत्र भी यही है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

इस मित्रता का जन्म उसी समय हुआ जब दोनों मित्र बालक थे और जुम्मन के पूज्य पिता, जुमराती उन्हें शिक्षा प्रदान करते थे।

प्रश्न 2.
जुम्मन शेख और अलगू चौधरी की योग्यता, शिक्षा और मान-सम्मान की तुलना कीजिए।
उत्तर-
शिक्षा प्राप्त करने के लिए अलगू चौधरी ने अपने गुरु, शेख जुमराती की बहुत सेवा की थी, खूब रकाबियाँ मॉजी, खूब प्याले धोये। उनका हुक्का एक क्षण के लिए भी विश्राम न लेने पाता था क्योंकि प्रत्येक चिलम अलगू को आधे घंटे तक किताबों से अलग कर देती थी।

अलगू के पिता पुराने विचार वाले मनुष्य थे उन्हें शिक्षा की अपेक्षा गुरु की सेवा-सुश्रुषा पर अधिक विश्वास था। वह कहते थे कि शिक्षा पढ़ने से नहीं आती जो कुछ होता है गुरु के आशीर्वाद से ही होता है। जुम्मन शेख के पूज्य पिता ने दोनों की शिक्षा पर आशीर्वाद से अधिक सोटें का प्रयोग किया था। शैक्षणिक योग्यता के कारण ही आसपास के गाँवों में जुम्मन की पूजा होती थी। उनके लिखे हुए रेहननामे या बैनामें पर कचहरी की मुहर भी कलम न उठा सकता था। हल्के का डाकिया, कान्सटेबल और तहसील का चपरासी-सब उनकी कृपा की आकंक्षा रखते थे। यदि अलगू चौधरी का मान उनके धन के कारण था तो जुम्मन शेख अपनी अनमोल विद्या से ही सबके आदर पात्र बने थे।

प्रश्न 3.
जुम्मन शेख की खाला क्यों पंचायत करने पर मजबूर हो गई थी?
उत्तर-
जुम्मन शेख की बूढी खाला के पास कुछ थोड़ी-सी मिलकियत थी, उनको कोई निकट संबंधियों में से जीवित न था। इसलिए जुम्मन ने लंबे-चौड़े वादे करके वह मिलकियत अपने नाम लिखवा ली थी। जब तक दानपात्र की रजिस्ट्री न हुई थी, तब तक खालाजान का खूब आदर-सत्कार किया गया, पर रजिस्ट्री की मुहर ने इन खातिरदारियों पर भी मानो मुहर लगा दी। जुम्मन शेख की पत्नी करीमन रोटियों के साथ कड़वी बातों के कुछ तेज, तीखे सालन भी देने लगी। जुम्मन शेख भी निठुर हो गए।

खालाजान को प्रायः नित्य ही कड़वी बातें सुननी पड़ती थीं। बुढ़िया न जाने कब तक जीएगी। दो-तीन बीघे ऊसर क्या दे दिया, मानो मोल ले लिया है। इन बातों को सुन सुन कर खालाजान बिगड़ गयीं और पंचायत करने पर मजबूर हो गई।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 4.
प्रेमचंद ने उत्तरदायित्व की व्याख्या किस प्रकार की है? स्पष्ट करें।
उत्तर-
प्रेमचंद के विचार के अनुसार उत्तरदायित्व का ज्ञान बहुधा हमारे संकुचित व्यवहारों का सुधारक होता है। जब हम राह भूल कर भटकने लगते हैं तब यही ज्ञान हमारा विश्वसनीय पथ-प्रदर्शक बन जाता है। पत्र-संपादक अपनी शान्ति कुटी में बैठा हुआ कितनी धृष्टता और स्वतंत्रता के साथ अपनी प्रबल लेखनी से मंत्रिमण्डल पर आक्रमण करता है; परन्तु ऐसे अवसर आते हैं, जब वह स्वयं मंत्रिमण्डल में सम्मिलित होता है। मण्डल के भवन में पग धरते ही उसकी लेखनी कितनी मर्मज्ञ, कितनी विचारशील, कितना न्यायपरायण हो जाती है। इसका कारण उत्तरदायित्व का ज्ञान है।

नवयुवक युवावस्था में कितना उदण्ड रहता है। माता-पिता उसकी ओर से कितने चिन्तित रहते हैं। वे उसे कुल-कलंक समझते हैं परन्तु थोड़े ही समय में परिवार का बोझ सिर पर पड़ते ही वह अव्यवस्थित-चित्त उन्मत्त युवक कितना धैर्यशील कैसा शान्तचित हो जाता है, यह भी उत्तरदायित्व के ज्ञान का फल है।

जुम्मन शेख के मन में भी सरपंच का उच्च स्थान ग्रहण करते ही अपनी जिम्मेदारी का भाव पैदा हुआ। उसने सोचा, मैं इस समय न्याय और धर्म के सर्वोच्च आसन पर बैठा हूँ। मेरे मुँह से इस समय जो कुछ निकलेगा वह देववाणी के सदृश है और देववाणी में मेरे मनोविकारों का कदापि समावेश न होना चाहिए मुझे सत्य से जौ भर भी टलना उचित नहीं।

प्रश्न 5.
पंचों का हुक्म अल्लाह का हुक्म है। कैसे?
उत्तर-
पंच परमेश्वर’ कहानी प्रेमचंद की एक प्रारम्भिक पर प्रसिद्ध कहानी है। पंच के पद पर बैठनेवाला व्यक्ति अन्यायपूर्ण निर्णय नहीं दे सकता। वह न्याय करता है।

जुम्मन शेख और अलगू चौधरी में गाढी मित्रता थी। जुम्मन शेख और उनकी खाला के बीच मतभेद होने पर अलगू चौधरी पंच मुकर्रर किए गए।

जुम्मन बोले-पंचों का हुक्म अल्लाह का हुक्म है। पंच ईश्वर की वाणी को अभिव्यक्ति देकर दूध का दूध और पानी का पानी कर देता है।

बाद में खाला ने जुम्मन के मित्र अलगू को ही पंच चुना और अलगू ने खाला के पक्ष में निर्णय सुनाया।

सच है पंचों का हुक्म अल्लाह का हुक्म है। पंच के दिल में खुदा बसता है। पंचों के मुँह से जो बात निकलती है, वह खुदा की तरफ से निकलती है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 6.
कलियुग में दोस्त का व्यवहार कैसा होता है?
उत्तर-
कलियुग में दोस्त भी मौका पड़ने पर शत्रु सा व्यवहार करने लगता है। शत्रु तो शत्रु है ही।

लेकिन इस कहानी में पंच के रूप में जब अलगू बैठता है तो जुम्मन के खिलाफ फैसला देता है।

यहाँ कहानीकार कहता है कि कलियुग में दोस्त भी दगा देता है।

प्रश्न 7.
अच्छे कामों की सिद्धि में देर लगती है। पठित पाठ के आधार पर बनाएँ।
उत्तर-
पंच में परमेश्वर बसता है। जुम्मन के खिलाफ जब अलगू ने फैसला सुनाया तो जुम्मन को यह बात खटकने लगी। जुम्मन को जल्द ही बदला लेने का मौका मिल गया।

इसी पर प्रेमचंद कहते हैं-अच्छे कामों की सिद्धि में देर लगती है। बुरे कामों की सिद्धि में यह बात नहीं होती।

प्रश्न 8.
“अपने उत्तरदायित्व का ज्ञान बहुधा हमारे संकुचित व्यवहारों का सुधारक होता है। जब हम राह भूल कर भटकने लगते है। तब यही ज्ञान हमारा विश्वसनीय पथ-प्रदर्शक बन जाता है।”
उत्तर-
प्रस्तुत अवतरण प्रेमचंद की श्रेष्ठ कहानियों में से एक ‘पंच परमेश्वर’ से ली गई हैं खालाजान की पंचायत में अलगू चौधरी ने मित्र जुम्मन के खिलाफ फैसला सुनाकर जुम्मन से शत्रुता मोल ले ली थी। जुम्मन को विश्वासघाती मित्र से बदला चुकाने का अवसर मिलता है अलगू चौधरी और समझू साहू के बैल के मुकदमे में। समझू साहू जुम्मन को पंच बनाते हैं। जुम्मन के पंच बनते ही अलगू का कलेजा धक्-धक् करने लगता है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

मगर जुम्मन सरपंच बनते ही अलगू के साथ पुरानी शत्रुता को भूल जाते है, और एक उत्तरदायी सरपंच की तरह दूध का दूध और पानी का पानी करते हुए-सत्य का साथ देते हैं और फैसला समझू के विरुद्ध देते हैं-इसका कारण यही है कि व्यक्ति जब स्वतंत्र होता है, तब उसकी मन:स्थिति उदण्ड होती है, वह लापरवाह होता है। किन्तु जब उसके ऊपर जबाबदेही आती है तब वह लापरवाह नहीं रह पाता। उसके सारे संकुचित विचार एवं व्यवहार बदल जाते हैं। इसलिए कहा जाता है कि उत्तरदायित्व का ज्ञान संकुचित विचारों का सुधारक होता है।

जब व्यक्ति उत्तरदायित्व के पथ से भटकने लगता है तब उत्तरदायित्व का यही ज्ञान उसका विश्वसनीय साथी बन उसका पथ प्रदर्शन करता है, उसे भटकने नहीं देता। सत्य पथ से विचलित नहीं होने देता। यही उत्तरदायित्व का ज्ञान जुम्मन और अलगू को मित्रता या शत्रुता के संकुचित विचारों से मुक्त कर सत्य का साथ देने से असत्य को दण्डित करने को प्रेरित करता है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
पंच परमेश्वर कहानी का सारांश लिखिए।
उत्तर-
प्रेमचन्द की कहानियाँ भारतीय जीवन व्यवस्था का आइना है। उन्होंने अपनी कहानी ए परमेश्वर’ में शोषित, पीडित, प्रताड़ित, उपेक्षित लोगों की दशाओं का मार्मिक चित्र प्रस्तुत किया है। उनकी कहानियाँ जाति-सम्प्रदाय और धार्मिक पाखंड से पूँजीवादी सामंती समाज की हृदयहीनता के विरुद्ध विद्रोह का शंखनाद करती है।

प्रस्तुत कहानी ‘पंच परमेश्वर’ में दो दृश्य उपस्थित कर जिसमें जुम्मन शेख, खालाजान, अलगू चौधरी, समझू साहू के माध्यम से न्याय के विजय को पुनर्स्थापित किया है और यह सिद्ध कर दिया है कि पंच में परमेश्वर का वास होता है। उसमें मित्रता कहीं भी बाधक नहीं होती है। जैसे जुम्मन शेख और अलगू चौधरी की खानदानी मित्रता उस पर खालाजान के साथ होने वाली घटना में अलगू चौधरी ने जिस तरह पंचायत में फैसला दिया वह मित्रता की जगह न्याय का पक्ष लेकर पंच में परमेश्वर का वास है उसको सिद्ध करता है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

दूसरे दृश्य में अलगू चौधरी और समझू साहू की अनबन में पंचायत में जुम्मन शेख का पंच होना, जो अलगू चौधरी से खार खाए बैठा है उसने भी दुश्मनी को त्याग कर न्याय का पक्ष लेकर पंच में परमेश्वर का वास है उसकी पुष्टि करता है।

अन्ततः सार रूप में प्रेमचन्द ने समाज के उपेक्षित, प्रताड़ित, शोषित लोगों की मार्मिक दशा का चित्रण बड़े ही संवेदनशील रूप में व्यक्त कर उससे छुटकारा पाने के लिए जिस न्याय की स्थापना की है उससे ‘पंच की जुवान से खुद बोलता है’ को पंच परमेश्वर शीर्षक कहानी के माध्यम से सिद्ध कर दिया है।

प्रश्न 2.
‘प्रेमयंद’ के जीवन और व्यक्तित्व का एक सामान्य परिचय प्रस्तुत करें।
उत्तर-
जनमुक्ति-संघर्ष के महान योद्धा कथाकार प्रेमचन्द का जन्म 31 जुलाई, 1880 ई. को वाराणसी से छ: मील दूरी लमही ग्राम में और मृत्यु 1936 ई. वाराणसी में हुई। उन्होंने निम्न मध्यवर्गीय जीवन के अभावों, संकटों और परेशानियों से निरन्तर जूझते हुए अपने मानवीय एवं सृजनात्मक व्यक्तित्व का निर्माण किया और अपने देश और दुनिया के मनुष्यों की मुक्ति के लिए अपना तन-मन-धन सब कुछ होम कर दिया।

अपने जीवन मूल्यों की रक्षा के लिए जीवन भर संघर्ष करने वाले इस सार्वकालिक अमर रचनाकार ने अपने उपन्यासों और कहानियों के जरिये एक सुखी-समृद्ध मानवीय विश्व समाज के सपनों को साकार करने के उद्देश्य से ही अपने जीवन और साहित्य दोनों में अनवरत एक योद्धा की भूमिका का निर्वाह किया, जिसकी उपलब्धि के रूप में निर्मला, सेवा सदन, गबन रंगभूमि, कर्मभूमि और गोदान तथा अपूर्ण मंगल सूत्र जैसे श्रेष्ठ उपन्यास प्राप्त हैं।।

प्रेमचन्द ने एक कहानीकार के रूप में लगभग 300 कहानियाँ लिखीं, जिनमें जीवन के हर क्षेत्र, हर वर्ग के पात्रों की जीवन स्थितियों का अत्यन्त मार्मिक चित्रण है। कहानी का विषय तात्कालिक यथार्थ हो अथवा ऐतिहासिक विषय, उनकी चिन्ता के केन्द्र में सदैव शोषित-पीड़ित, प्रताड़ित-उपेक्षित मनुष्य की मुक्ति रही है। उनकी कहानियाँ जाति-सम्प्रदाय और धार्मिक पाखण्ड से लेकर पूँजीवादी सामंती समाज की हृदयहीनता के विरुद्ध विद्रोह का शंखनाद है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 3.
“पंच परमेश्वर” शीर्षक कहानी की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
उत्तर-
‘पंच परमेश्वर’ शीर्षक कहानी प्रेमचंद जी की एक महत्वपूर्ण रचना है। इस कहानी के माध्यम से प्रेमचंद जी ने ग्रामीण परिवेश की स्थितियों का सही चित्रण किया है। यह कहानी गाँवों में निवास करने वाले किसानों के जीवन से संबंधित है।

प्रेमचंद की ‘पंच परमेश्वर’ कहानी की अपनी निजी विशेषताएँ हैं। इस कहानी में आदर्श और यथार्थ का उचित समन्वय दृष्टिगत होता है। इन्होंने अपनी कहानी में बेजुबान ग्रामीणों का जितना स्वाभाविक चित्रण किया है, वैसा चित्रण दूसरे किसी भी कहानीकार की रचना में नहीं मिलता।

पंच परमेश्वर कहानी का प्लौट ग्रामीण परिवेश से जुड़ा हुआ है। दैनिक जीवन की दिनचर्या के साथ पारिवारिक एवं सामाजिक बनावट का भी चित्रण सम्यक् रूप से हुआ है। गाँवों में निवास करने वाले सीधे-सादे किसानों, मजदूरों का जीवन, आपसी संबंधों का सफल एवं यथार्थ चित्रण कर कहानीकार ने अपनी कला को उत्कृष्टता प्रदान किया है।

यह कहानी भारतीय गाँव की ठेठ कहानी है। इसमें जुम्मन शेख, खालाजान, अलगू चौधरी के बीच के आत्मीय एवं पारिवारिक संबंधों का चित्रण हुआ है। घरेलू समस्याओं को लेकर यह कहानी रची गयी है। इसमें तीनों के बीच पनप रहे प्रेम, द्वेष, स्वार्थ की सूक्ष्म व्याख्या प्रेमचंद ने की है। न्याय के आसान पर बैठकर कोई किसी का न मित्र होता है और न दुश्मन। इस कहानी में न्याय के प्रति मनुष्य का क्या कर्त्तव्य होना चाहिए, प्रेमचंद ने अपने विचारों को पात्रों के माध्यम से प्रकट किया है।

पात्रों की दृष्टि से भी प्रेमचंद की यह उत्कृष्ट रचना है। इस कहानी के प्रमुख पात्र हैं। जुमराती शेख, जुम्मन मियाँ, खालाजान, अलगू, करीमन, चौधरी, रामधन मिश्र और समझू साहू।

खालाजान अपनी सारी संपत्ति जुम्मन मियाँ को दे देती है। इसके साथ खाला के भरण-पोषण की शर्ते जुड़ी हुई हैं। दूसरी तरफ समझू साहू अलगू चौधरी से एक बैल उधार लिया था। अत्यधिक काम लेने के कारण बैल असमय ही मर जाता है। दूसरी तरफ खाला जान की सेवा प्रारंभिक दौर में तो होती है किन्तु जमीन रजिस्ट्री हो जाने के बाद व्यवहार में अंतर आ जाता है।

दोनों पक्षों की तरफ से बारी-बारी से न्याय के लिए पंचायतें होती हैं जिसमें सरपंच के आसन पर बैठकर अलगू चौधरी और जुम्मन शेख दोनों एक-दूसरे द्वारा आयोजित पंचायत में नीतिपूरक न्याय की घोषणा करते हैं। मित्रता न्याय करने में बाधक नहीं बनती। दोनों न्यायोपरांत तो कुछ दिनों के लिए एक-दूसरे का दुश्मन बन जाते हैं किन्तु विवेक जगने पर किए गए न्याय को उचित ठहराते हैं। सारा द्वेष, वैमनस्य को भुलकर अलगू चौधरी और जुम्मन शेख में पुनः पूर्व की तरह मित्रता प्रगाढ़ हो जाती है और दोनों एक-दूसरे के प्रति पुनः विश्वसनीय बन जाते हैं।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

इस प्रकार पंच परमेश्वर कहानी के द्वारा कहानीकार के कथानक, पात्र, परिवेश एवं उनके मानसिक स्थितियों का सम्यक् चित्र खींचा है। यह एक अद्वितीय कहानी है जो आदर्शोन्मुख विशेषताओं को प्रकट करती है।

प्रेमचंदजी की कहानी कला की सबसे बड़ी विशेषता है-आदर्श और यथार्थ का समुचित समन्वय। अपनी इस कहानी में प्रेमचंद जी ने इसका समुचित निर्वाह किया है। प्रेमचंद की दृष्टि में कहानी का उद्देश्य नैतिक पतन नहीं वरन् नैतिक उत्थान करना है। यथार्थवाद आदर्शवाद दोनों ‘ का समुचित समन्वय इस कहानी में हुआ है।

इस कहानी की समाप्ति आदर्शात्मक ढंग से की गयी है। इस कहानी में समस्या का समाधान निकालकर न्याय पक्ष की प्रबलता और अनिवार्यता को कहानीकार ने प्रदर्शित किया है। प्रेमचंद का व्यक्तिगत विश्वास है कि प्रत्येक कहानी में एक ऊँचा नैतिक संदेश होना चाहिए। ऐसा न करने से समाज तथा साहित्य का कोई लाभ नहीं होगा और हमारा समाज पथभ्रष्ट हो जाएगा। उपरोक्त बातों का चित्रण पंच परमेश्वर में सम्यक् रूप से हुआ है।

पंच परमेश्वर कहानी में आदर्शोन्मुख विचारों का प्रतिपादन किया गया है।

इस कहानी की दूसरी विशेषताएँ-मनोविज्ञान की अनुमति। प्रेमचंद जी ने अपनी इस कहानी में मनोवैज्ञानिक चरित्रों की सृष्टि करने की चेष्टा की है।

प्रेमचंद ने स्थान, पात्र एवं समाज की सही तस्वीर खींचने का प्रयास किया है। ग्रामीण जीवन, अत्याचार, उत्पीड़न, शोषण, ईर्ष्या, द्वेष, प्रतिस्पर्धा आदि पर सम्यक् प्रकाश डालते हुए सभी स्थितियों का सुंदर चित्रण किया है।

कथोपकथन में चरित्र-चित्रण कथा-वस्तु के साथ पात्रों की स्थिति और सुरुचि पर ध्यान भी दिया है। इनकी कहानियों में कथोपकथन में सुसम्बद्धता भी पायी जाती है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

भाषा की सरलता, चलते मुहावरों का प्रयोग, हास्य-व्यंग्य का सम्मिश्रित व्यवहार, उनकी भाषा शैली की खास विशेषताएँ हैं।

प्रेमचंद की पंच परमेश्वर कहानी में कल्पना की मात्रा कम, अनुभूतियों की मात्रा अधिक है। अनुभूतियाँ भी रचनाशील भावना में अनुजित होकर कहानी बन जाती है। प्रेमचंद की दृष्टि में सर्वाधिक उत्तम वही कहानी है जिसका आधार किसी मनोवैज्ञानिक सत्य पर आधारित हो।

प्रश्न 4.
प्रेमचंद ऐसा क्यों लिखा है कि पंच के पद पर बैठकर न कोई किसी का दोस्त है, न दुश्मन। न्याय के सिवा उसे कुछ नहीं सुझता। “पंच की जुबान से खुद बोलता है।” इस विचार को स्पष्ट करें।
उत्तर-
प्रेमचंद की प्रमुख कहानी ‘पंच परमेश्वर’ से उपरोक्त पंक्तियाँ ली गयी हैं। इन पंक्तियों के माध्यम से प्रेमचंद ने न्याय एवं मित्रता के बीच के ज्ञान, विवेक का सम्यक् चित्रण किया है।

पंच परमेश्वर कहानी के प्रमुख पात्र जुम्मन शेख और अलगू चौधरी है। दोनों में गाढ़ी दोस्ती है। दोनों के परिवार में अंतरंगता अत्यधिक दिखायी पड़ती है।।

एक बार अलगू चौधरी गाँव के समझू साहु के हाथों अपना बैल उधार बेच देते हैं। समझू साहु एक क्रूर बनिया है। वह बैल से अत्यधिक काम लेता है किन्तु उसकी यथोचित सेवा नहीं करता है।

अचानक एक दिन बैल मर जाता है। समझू साहू और सहुआइन दोनों अलगू चौधरी को भद्दी-भद्दी गालियाँ देते और कहते कि निगोड़े ने ऐसा कुलच्छनी बैल दिया कि जन्म भर की कमाई भी लूट गयी और खुद बैल भी मर गया।

बैल के मरने के कुछ दिनों बाद अलगू चौधरी ने समझू साहु से अपने बैल की कीमत माँगी। समझू साहु और उनकी पत्नी दोनों झल्लाकर अलगू चौधरी पर बरस पड़े और दोनों पक्षों में हाथापाई की नौबत भी आ गयी। गाँव के लोग हल्ला सुनकर इकट्ठे हो गए। उन लोगों ने दोनों को समझाया कि पंचायत द्वारा फैसला करवा लो। अंत में दोनों पंचायत कराने का फैसला किया और गाँववालों की बात मान ली।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

एक निश्चित समय में तीसरे दिन पंचायत बैठी। गाँव भर के लोग जमा हुए थे। दोनों पक्षों के लोग दल बनाकर पंचायत में जुटे थे। पंचायत बैठने पर रामधन मिश्र ने कहा कि दोनों। पक्षों को सुनो ! अब देरी क्या है? आप लोग अपना-अपना पंच चुनिए। अलगू चौधरी ने दीन भाव से कहा-समझू साहु ही पंच चुन लें। समझू साहु गर्व से खड़ा होकर अपनी ओर से जुम्मन शेख को पंच चुन लिया।

खालाजान और जुम्मन की पंचायत में अलगू चौधरी ही पंच बने थे और उन्होंने खाला के पक्ष में न्याय सुनाकर अलगू से दुश्मनी मोल ले ली थी। अलगू और जुम्मन दोनों बचपन के मित्र थे। दोनों में पारिवारिक अंतरंगता भी थी। पंचायत के बाद अलगू और जुम्मन में खटपट हो गयी। मित्रता दाश्मनी में बदल गयी। आज वही दिन अलगू चौधरी के लिए बुरे दिन के रूप में आ गया।

पंचायत में जुम्मन शेख के पंच चुनते ही अलगू चौधरी शंका में पड़ गए। उनका दिल धक्-धक् करने लगा। जुम्मन शेख के मन पंचायत में सरपंच के सर्वोच्च आसन पर बैठते ही जिम्मेवारी का भाव जग उठा। उसने सोचा, मैं इस वक्त न्याय और धर्म के सर्वोच्च आसन पर बैठा हूँ। मेरे मुँह से इस समय जो कुछ निकलेगा वह देववाणी सदृश है, और देववाणी में मेरे मनोविकारों का कदापि समावेश न होना चाहिए। मुझे सत्य से जौ भर भी टलना उचित नहीं।

दोनों पक्षों से सवाल-जवाब करते हुए जुम्मन शेख ने फैसला सुनाया–अलगू चौधरी और समझू साहु दोनों कान खोलकर सुन लो। पंचों का न्याय है। समझू साहु बैल का पूरा दाम अलगू चौधरी को दे दें क्योंकि जिस समय बैल खरीदा गया था उस समय वह बीमार नहीं था। अत्यधिक काम लेने एवं सेवा नहीं करने के कारण बैल असमय ही मर गया। अत: इसके लिए समझू साहु दोषी है। अतः बैल की कीमत वे अलगू चौधरी को दें।

सन्याय से अलगू चौधरी फूले न समाए। वे उठ खड़े हुए और जोर से बोले पंच-परमेश्वर की जय। प्रत्येक मनुष्य जुम्मन की नीति की सराहना करते हुए कहने लगे पंच में परमेश्वर निवास करते हैं। यह उन्हीं की महिमा है पंच के सामने खोटे को कौन-कौन खरा कह सकता है। इसे कहते हैं-न्याय।

थोड़ी देर बाद जुम्मन अलगू चौधरी के पास आए और गले से लिपटकर बोले- भैया ! जब तुमने मेरी पंचायत की थी तबसे मैं तुम्हारा प्राण-घातक शत्रु बन गया था। पर आज मुझे ज्ञात हुआ कि पंच के पद पर बैठकर न कोई किसी का दोस्त होता है न दुश्मन। न्याय के सिवा उसे और कुछ नहीं सूझता। आज मुझे विश्वास हो गया कि पंच की जुबान से खुदा बोलता है।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

प्रश्न 5.
“इसी का नाम पंचायत है। दूध का दूध और पानी का पानी कर दिया। दोस्ती, दोस्ती की जगह है, किन्तु धर्म का पालन करना मुख्य है। ऐसी ही सत्यवादियों के बल पर पृथ्वी ठहरी है, नहीं तो वह कब की रसातल की चली जाती।” स्पष्ट करें।
उत्तर-
प्रेमचंद की ‘पंच परमेश्वर’ कहानी एक मनोवैज्ञानिक कहानी है। इसका परिवेश भारतीय गाँव से जुड़ा हुआ है। इसके पात्र भी ठेठ गाँव के लोग हैं।

इस कहानी के माध्यम से प्रेमचंद जी ने यह दिखाने का काम किया है कि पंच के पद पर बैठने वाला व्यक्ति अन्यायपूर्ण निर्णय नहीं दे सकता। आसन ग्रहण करते ही वह विवेकी बन जाता है और सगे संबंधों को नकारते हुए न्याय का पक्ष लेता है। न्याय के आसन पर बैठकर वह ईश्वर का प्रतिरूप बन जाता है। उसके भीतर विवेक जग जाता है और पारिवारिक सामाजिक संबंध न्याय के बीच दीवार बनकर खड़े नहीं होते।

जुम्मन शेख और अलगू चौधरी में गाढ़ी मित्रता थी। जुम्मन शेख और उनकी खाला के बीच संपत्ति एवं सेवा को लेकर कुछ खटपट हो गई। खाला ने अलगू चौधरी को पंचायत में सरपंच मनोनीत कर दिया। न्याय के आसन पर बैठकर अलगू चौधरी का विवेक जग उठा और जुम्मन शेख्न और अलगू चौधरी की प्रगाढ़ मित्रता न्याय में बाधक नहीं बन सकी।।

जुम्मन ने पंचायत में कहा कि पंचों का हुक्म अल्लाह का हुक्म है। पंच ईश्वर की वाणी को अभिव्यक्ति देकर दूध का दूध और पानी को पानी कर ,देता है।

पंचायत में अलगू चौंधरी ने खालाा का पक्ष लिया और न्याय खाला के पक्ष में लिया तथा खाला की सेवा माहवारी खर्च बाँध दिया। इस न्याय की पंचों के लिए एवं गाँव के लोगों की भूरि-भूरि प्रशंसा की और कहा-इसी का नाम पंचायत है। दूध का दूध और पानी का पानी कर दिया। दोस्ती, दोस्ती की जगह है किन्तु धर्म का पालन करना मुख्य है। ऐसे ही सत्यवादियों के बल पर पृथ्वी ठहरी है, नहीं तो कब की रसातल को चली जाती है।

पंच परमेश्वर लेखक परिचय प्रेमचंद (1880-1936)

मुंशी प्रेमचन्द का जन्म 31 जुलाई, 1880 ई. में वाराणसी में लमही गाँव में हुआ था। उनके पिता का नाम अजायब राय था। गाँव की पाठशाला में उन्हें उर्दू-फारसी की प्रारंभिक शिक्षा मिली। 1904 ई. में उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा पास की। आर्थिक विपन्नता के कारण वे आगे अपनी पढ़ाई जारी नहीं रख सके। स्वाध्याय के बल पर उन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

मुंशी प्रेमचन्द अध्यापक के पद पर भी कार्य किए। शिक्षा विभग में वे डिप्टी इंस्पेक्टर के पद पर भी आसीन हुए। राष्ट्रीय आंदोलन और गाँधीवादी विचारधारा से प्रभावित होकर उन्होंने सरकारी नौकरी से त्यागपत्र दिया और साहित्य की सेवा में अपना अमूल्य जीवन समर्पण कर दिया। उन्होंने हंस प्रकाशन का भी संचालन किया। वे भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ के अध्यक्ष भी बने।

प्रेमचन्द ने एक कहानीकार के रूप में यश अर्जित किया। उनकी कहानियाँ भारतीय जीवन व्यवस्था की आइना है। उन्होंने अपनी कहानी में शोषित, पीड़ित, प्रताड़ित, उपेक्षित लोगों की दशाओं का मार्मिक चित्र प्रस्तुत किया है। उनकी कहानियाँ जाति-सम्प्रदाय और धार्मिक पाखण्ड से पूँजीवादी सामंती समाज की हृदयहीनता के विरुद्ध विद्रोह का शंखनाद है। उनकी प्रमुख रचनाएँ निम्नलिखित हैं :

कहानी संग्रह : सप्त सरोज, नवविधि, प्रेम पचीसी, प्रेम पूर्णिमा, प्रेम द्वादशी, प्रेम-तीर्थ, प्रेम-पीयूष, प्रेम चतुर्थी, पंच प्रसून, सप्त सुमन, कफन, मान-सरोवर, प्रेम प्रतिमा, प्रेरणा, प्रेम-प्रमोद, प्रेम-सरोवर, समर यात्रा, कुत्ते की कहानी, जंगल की कहानी, अग्नि समाधि और प्रेम-गंगा।

उपन्यास : प्रेम प्रतिज्ञा, सेवन सदन, प्रेमाश्रय, निर्मला, रंगभूमि, कायाकल्प, गवन, कर्म भूमि, गोदान, मंगलसूत्र। –

नाटक : संग्राम, कर्बला, प्रेम की वेदी, रूठी रात्रि।

जीवन चरित्र : कलम, तलवार और त्याग, महात्माशेख, शादी और रामचर्चा, इसके अतिरिक्त उन्होंने अंग्रेजी साहित्य का भी अनुवाद किया, मर्यादा, माधुरी, जागरण एवं हंस पत्रिकाओं का भी सम्पादन किया।

Bihar Board 12th Hindi Book 50 Marks Solutions गद्य Chapter 1 पंच परमेश्वर

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

Bihar Board 12th Sociology Objective Questions and Answers

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 1.
भारत में निम्न में से किस राज्य में नगरीकरण की मात्रा सर्वाधिक
(a) बिहार
(b) पश्चिम बंगाल
(c) झारखंड
(d) मध्य प्रदेश
उत्तर-
(d) मध्य प्रदेश

प्रश्न 2.
किसने कहा, “नगरीयता एक जीवन-पद्धति है”?
(a) रॉस
(b) बर्गल
(c) विर्थ
(d) कारपेंटर
उत्तर-
(b) बर्गल

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 3.
1995 ई. में भारत में मलिन बस्तियों में रहने वाले लोगों की संख्या – किलनी थी?
(a) 250 लाख
(b) 450 लाख
(c) 300 लाख
(d) 500 लाख
उत्तर-
(b) 450 लाख

प्रश्न 4.
वर्तमान स्थिति में किसी भी प्रकार के और किसी भी स्तर के बदलाव को कहते हैं
(a) परिवर्तन
(b) मौसमी प्रवसन
(c) नगरीकरण
(d) औद्योगिकीकरण
उत्तर-
(a) परिवर्तन

प्रश्न 5.
यूरोप और अमेरिका की सभ्यताओं की संस्कृति से प्रभावित होकर होने वाले परिवर्तन को कहते हैं
(a) उपनिवेशवाद
(b) मौसमी प्रवसन
(c) पश्चिमीकरण
(d) मलिन बस्तियाँ
उत्तर-
(c) पश्चिमीकरण

प्रश्न 6.
“सामाजिक परिवर्तन से तात्पर्य सामाजिक ढाँचे के परिवर्तन से है” यह कथन किसका था?
(a) जॉनसन
(b) गिलिन और गिलिन
(c) डॉ. मजूमदार
(d) मैकाइवर तथा पेज
उत्तर-
(a) जॉनसन

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 7.
भारत में औद्योगिकीकरण लगभग कितना वर्ष पुराना है ?
(a) 200 वर्ष
(b) 300 वर्ष
(c) 400 वर्ष
(d) 100 वर्ष
उत्तर-
(d) 100 वर्ष

प्रश्न 8.
भारत में निम्न में से किस राज्य में नगरीकरण की मात्रा सर्वाधिक
(a) बिहार
(b) पश्चिम बंगाल
(c) झारखंड
(d) मध्य प्रदेश
उत्तर-
(d) मध्य प्रदेश

प्रश्न 9.
किसने कहा- “नगरीयता एक जीवन पद्धति है?
(a) रॉस
(b) बर्गल
(c) विर्थ
(d) कारपेंटर
उत्तर-
(b) बर्गल

प्रश्न 10.
1995 ई. में भारत में मलिन बस्तियों में रहने वाले लोगों की संख्या कितनी थी?
(a) 250 लाख
(b) 450 लाख
(c) 300 लाख
(d) 500 लाख
उत्तर-
(b) 450 लाख

प्रश्न 11.
वर्तमान स्थिति में किसी भी प्रकार के और किसी भी स्तर के बदलाव को कहते हैं
(a) परिवर्तन
(b) मौसमी प्रवसन
(c) नगरीकरण
(d) औद्योगिकीकरण
उत्तर-
(a) परिवर्तन

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 12.
यूरोप और अमेरिका की सभ्यताओं की संस्कृति से प्रभावित होकर होने वाले परिवर्तन को कहते हैं
(a) उपनिवेशवाद
(b) मौसमी प्रवसन
(c) पश्चिमीकरण
(d) मलिन बस्तियाँ
उत्तर-
(c) पश्चिमीकरण

प्रश्न 13.
“सामाजिक परिवर्तन से तात्पर्य सामाजिक ढाँचे के परिवर्तन से है” यह कथन किसका था?
(a) जॉनसन
(b) गिलिन तथा गिलिन
(c) डॉ. मजूमदार
(d) मैकाइवर तथा पेज
उत्तर-
(a) जॉनसन

प्रश्न 14.
भारत में औद्योगिकीकरण लगभग कितना वर्ष पराना है?
(a) 200 वर्ष
(b) 300 वर्ष
(c) 400 वर्ष
(d) 100 वर्ष
उत्तर-
(d) 100 वर्ष

प्रश्न 15.
“ज्ञान उपयोगी और व्यावहारिक होना चाहिए।” यह कथन किसका है?
(a) एडम स्मिथ
(b) अई.बी. शर्मा
(c) स्टीबेन्सन
(d) बेलार्ड
उत्तर-
(b) अई.बी. शर्मा

प्रश्न 16.
प्रोजेक्ट वास्तविक जीवन पर एक भाग है जिसका प्रयोग विद्यालय में किया जाता है। यह कथन है
(a) बेलार्ड
(b) किलपैट्रिक
(c) स्टीबेन्सन
(d) रॉबर्ट बीरस्टीक
उत्तर-
(a) बेलार्ड

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 17.
भारतीय संविधान के किस अनुच्छेद के अंतर्गत अनुसूचित जातियों को अपनी संस्कृति और भाषा बनाये रखने के लिए संरक्षण प्रदान किया गया है?
(a) धारा 16
(b) धारा 29
(c) धारा 42
(d) धारा 46
उत्तर-
(b) धारा 29

प्रश्न 18.
प्रोजेक्ट एक समस्यामूलक कार्य है जो अपनी स्वाभाविक परिस्थितियों में पूर्णता को प्राप्त करता है
(a) आई.बी. वर्मा
(b) स्टीबेन्सन
(c) किल पैट्रिक
(d) बेवार्ड
उत्तर-
(c) किल पैट्रिक

प्रश्न 19.
यह कथन किसका है कि “प्रोजेक्ट वह उद्देश्यपूर्ण कार्य है जो पूर्ण संलग्नता में सामाजिक वातावरण में किया जाता है।”
(a) किल मैट्रिक
(b) सी.एच. कूले
(c) एस.बी. केतकर
(d) मजूमदार और मान
उत्तर-
(a) किल मैट्रिक

प्रश्न 20.
शहरीकरण का लक्षण है–
(a) व्यापार में विकास
(b) एक शहर के चारों ओर केन्द्रों का विकास
(c) ग्रामीण से शहरी प्रवसन
(d) उपर्युक्त सभी
उत्तर-
(d) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 21.
निम्नलिखित में से किसको नगरीकरण बढावा देती है?
(a) गुमनामिता
(b) भीड़
(c) प्रदूषण
(d) उपरोक्त सभी
उत्तर-
(d) उपरोक्त सभी

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 22.
निम्न में से कौन सी जनजाति उत्तरी-पूर्वी भारत की नहीं है?
(a) नागा
(b) कूकी
(c) बोडा
(d) खस
उत्तर-
(b) कूकी

प्रश्न 23.
‘सोशल चेंज इन मॉडर्न इण्डिया’ नाम पुस्तक के लेखक हैं?
(a) मजूमदार एवं मदान
(b) आर. के. मुखर्जी
(c) एम.एन. श्रीनिवास
(d) मैकाइवर एवं पेज
उत्तर-
(c) एम.एन. श्रीनिवास

प्रश्न 24.
“आधुनिकीकरण एक प्रक्रिया है, जो परम्पराग समाज से प्रौद्योगिकी पर आधारित समाज की ओर अग्रसर होती है।” उक्त परिभाषा दी
(a) रिटजर
(b) एस.सी. दुबे
(c) एम.एस. गोरे
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(b) एस.सी. दुबे

प्रश्न 25.
निम्न में से आधुनिकीकरण का लक्षण है
(a) औद्योगिकीकरण को प्रोत्साहन
(b) नवीन तकनीकी का प्रयोग
(c) संचार व यातायात के साधनों में वृद्धि
(d) उपर्युक्त सभी
उत्तर-
(d) उपर्युक्त सभी

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 26.
संविधान के किस अनुच्छेद के अनुसार राज्य के नागरिकों के साथ जाति, धर्म, वंश अथवा जन्मस्थान आदि के आधार पर विभेद नहीं किया जायेगा?
(a) अनुच्छेद 14
(b) अनुच्छेद 38
(c) अनुच्छेद 9
(d) अनुच्छेद 15
उत्तर-
(d) अनुच्छेद 15

प्रश्न 27.
“आधुनिकता एक ऐसा बेलगाम घोड़ा है। जिसे किसी भी तरह नियंत्रण में रखना कठिन है” ऐसा किसने कहा?
(a) रिटजर
(b) गोरे
(c) श्याम चरण दूबे
(d) बी.पी. शाह
उत्तर-
(a) रिटजर

प्रश्न 28.
वह कौन-सी प्रक्रिया है जिसके अन्तर्गत कोई भी जाति, जनजाति या समूह अपने से उच्च जाति (प्रायः द्विज जाति) के रीति-रिवाजों, कर्मकाण्ड, विचारधारा और मूल्यों को अपनाकर समाज में अपनी जातीय स्थिति को ऊपर उठाने का प्रयास करती है?
(a) आधुनिकीकरण
(b) संस्कृतीकरण
(c) धर्मनिरपेक्षीकरण
(d) पश्चिमीकरण
उत्तर-
(b) संस्कृतीकरण

प्रश्न 29.
निम्नलिखित में से धर्मनिरपेक्षीकरण की प्रक्रिया का प्रमुख तत्व है
(a) विभेदीकरण में वृद्धि
(b) धार्मिकता का ह्रास
(c) तार्किकता में वृद्धि
(d) उपर्युक्त सभी
उत्तर-
(d) उपर्युक्त सभी

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 30.
“परिवर्तन की वह प्रक्रिया जो भारतीय जनजीवन, समाज व संस्कृति के विभिन्न पक्षों में उस पश्चिमी संस्कृति के सम्पर्क में आने के कारण उत्पन्न हुई, जिसे ब्रिटिश शासक अपने साथ लाये थे।” यह प्रक्रिया कहलाती है
(a) पश्चिमीकरण
(b) औद्योगीकरण
(c) नगरीकरण
(d) आधुनिकीकरण
उत्तर-
(a) पश्चिमीकरण

प्रश्न 31.
आधुनिक भारत में प्रौद्योगिक उन्नति के साथ-साथ नगरों का विभाजन होता जा रा है, ऐसा कौन कहा?
(a) श्रीनिवास
(b) डॉ. श्यामचरण दूबे
(c) योगेन्द्र सिंह
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(a) श्रीनिवास

प्रश्न 31.
द टेक्नोलॉजीकल सोसायटी नाम पुसतक किसने लिखा था?
(a) श्रिनिवासन
(b) योगेन्द्र सिंह
(c) जेक्यूल ईल्लल
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-
(c) जेक्यूल ईल्लल

प्रश्न 32.
आधुनिकीकरण सम्बन्धित है
(a) परम्परागत मूल्य से
(b) बन्द सामाजिक व्यवस्था से
(c) अर्जित प्रस्थिति से
(d) प्रथा से
उत्तर-
(c) अर्जित प्रस्थिति से

प्रश्न 33.
पश्चिमीकरण की अवधारणा किसके द्वारा दी गई है?
(a) आगबर्न
(b) एम.एन. श्रीनिवास
(c) मैकाइवर
(d) आर.के. मुखर्जी
उत्तर-
(b) एम.एन. श्रीनिवास

Bihar Board 12th Sociology Objective Answers Chapter 7 संरचनात्मक परिवर्तन

प्रश्न 34.
ब्राह्मणीकरण की अवधारणा किसने विकसित की?
(a) एम.एन. श्रीनिवास
(b) ए.आर. देसाई
(c) एस.सी. दुबे
(d) जी.एस. घुरिये
उत्तर-
(a) एम.एन. श्रीनिवास

प्रश्न 35.
संस्कृतीकरण की प्रक्रिया के अनुसार निम्न जातियाँ किस जाति के व्यवहारों का अनुसरण करती है?
(a) ब्राह्मण जाति
(b) द्विज जाति
(c) प्रभु जाति
(d) उच्च जाति
उत्तर-
(d) उच्च जाति

प्रश्न 36.
परसंस्कृति का सम्बन्ध है
(a) स्वास्थ्य से
(b) अर्थव्यवस्था से
(c) संस्कृति से.
(d) कृषि से
उत्तर-
(c) संस्कृति से.

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

Bihar Board Class 8 Hindi Book Solutions Kislay Bhag 3 Chapter 12 विक्रमशिला Text Book Questions and Answers, Summary.

BSEB Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

Bihar Board Class 8 Hindi विक्रमशिला Text Book Questions and Answers

प्रश्न – अभ्यास

पाठ से

प्रश्न 1.
विक्रमशिला नामकरण के संदर्भ में जनश्रुति क्या है ?
उत्तर:
विक्रमशिला नामकरण के संदर्भ में जनश्रुति है कि विक्रम नामक यक्ष का दमन कर यहाँ बिहार (भ्रमण योग भूमि) बनाया गया। जिसके कारण इस भू-भाग का नाम विक्रमशीला रखा गया ।

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 2.
विक्रमशीला कहाँ अवस्थित है ?
उत्तर:
विक्रमशीला बिहार राज्य के भागलपुर जिला में कहलगाँव के पास अंतिचक गाँव में अवस्थित है।

प्रश्न 3.
यहाँ के पाठ्यक्रम में क्या-क्या शामिल था?
उत्तर:
यहाँ के पाठ्यक्रम में तंत्र शास्त्र, व्याकरण न्याय, सृष्टि-विज्ञान, शब्द-विद्या, शिल्प-विद्या, चिकित्सा-विद्या, सांख्य, वैशेषिक, अध्यात्म विद्या विज्ञान, जादू एवं चमत्कार विद्या शामिल थे।

पाठ से आगे

प्रश्न 1.
परिभ्रमण के दौरान आप इस स्थल का चयन करना क्यों पसंद करेंगे?
उत्तर:
परिभ्रमण के दौरान इस स्थल का चयन हम इसलिए करेंगे क्योंकि यह स्थान ऐतिहासिक है। यहाँ कभी आर्यभट्ट जैसे विश्वविख्यात खगोलशास्त्री ने अध्ययन कर भारत की प्रतिष्ठा बढ़ाया था । अतः शिक्षार्थियों के लिए यह स्थल नमन करने योग्य है।

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 2.
इस विश्वविद्यालय को आधुनिक बनाने के लिए आप क्या-क्या सुझाव देंगे?
उत्तर:
इस विश्वविद्यालय को आधुनिक बनाने के लिए हमारा सुझाव है कि इस विश्वविद्यालय को समृद्ध करें । ज्ञान-विज्ञान का अध्यापन आधुनिक ढंग से करवाया जाये । समृद्ध पुस्तकालय समृद्ध प्रयोगशाला का होना अनिवार्य

प्रश्न 3.
तंत्र विद्या के बारे में आप क्या जानते हैं ?
उत्तर:
तंत्र-विद्या को जानने वाले तांत्रिक कहलाते हैं। इस विद्या से आसानीपूर्वक कोई कार्य शीघ्र कर लिया जाता है।

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 4.
निम्नलिखित संस्थाओं को उनकी श्रेणी के अनुसार बढ़ते क्रम में सजाइए।
उत्तर:

  1. प्रारम्भिक विद्यालय,
  2. प्राथमिक विद्यालय,
  3. माध्यमिक विद्यालय,
  4. महाविद्यालय,
  5. विश्वविद्यालय।

व्याकरण

संधि : दो वर्गों के मेल से होनेवाले परिवर्तन को संधि कहते हैं। जैसे-पुस्तक + आलय = पुस्तकालय अ + आ = आ,

संधि के तीन भेद होते हैं-

  1. स्वर संधि,
  2. व्यंजन संधि,
  3. विसर्ग संधि ।

स्वर संधि : दो स्वर वर्णों के मेल से होने वाले परिवर्तन को ‘स्वर संधि’ कहते हैं।

जैसे-विद्या + अर्थी = विद्यार्थी, आ + अ = आ।

व्यंजन संधि : व्यंजन वर्ण के साथ स्वर अथवा व्यंजन वर्ण के मेल से होने वाले परिवर्तन को ‘व्यंजन संधि’ कहते हैं। जैसे दिक् + गज = दिग्गज।

विसर्ग संधि : विसर्ग के साथ स्वर या व्यंजन के मेल से जो परिवर्तन होता है उसे विसर्ग संधि कहते हैं। जैसे-मनः + रथ =, मनोरथ

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 1.
ऊपर दी गई जानकारी के आधार पर संधि-विच्छेद कर संधि का नाम लिखिए।

प्रश्नोत्तर :

  1. अतिशयोक्ति = अतिशय + उक्ति = स्वर संधि
  2. सर्वाधिक = सर्व + अधिक = स्वर संधि
  3. परीक्षा = परि + इच्छा = व्यञ्जन संधि
  4. उल्लेखनीय = उत् + लेख + अनीय = स्वर संधि
  5. पुस्तकालय = पुस्तक + आलय = स्वर संधि
  6. शोधार्थी = शोध + अर्थी = स्वर संधि
  7. विद्यार्थी = विद्या + अर्थी = स्वर संधि
  8. प्रत्येक = प्रति + एक = स्वर संधि
  9. नवागत = नव + आगत = स्वर संधि
  10. उच्चादर्श = उच्च + आदर्श = स्वर संधि
  11. नामांकित = नाम + अंकित = स्वर संधि
  12. अवलोकितेश्वर = अवलोकित + ईश्वर = स्वर संधि

प्रश्न 2.
ऊपर बॉक्स में दी गई जानकारी के आधार पर निम्नलिखित शब्दों का समास बताइए
प्रश्नोत्तर:

  1. अभेद्य = नज समास ।
  2. अखण्ड = नत्र समास. ।
  3. पथरघट्टा = तत्पुरुष समास ।
  4. द्वारपंडित = तत्पुरुष समास ।
  5. कुलपति = तत्पुरुष समास ।
  6. शिक्षा केन्द्र = तत्पुरुष समास ।
  7. देश-विदेश = द्वन्द्व समास ।
  8. अलौकिक = नब समास ।

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 3.
संधि और समास में अंतर बताइए।
उत्तर:
संधि और समास में निम्नलिखित अंतर है

  1. संधि में दो वर्णों का मेल होता है । जैसे देव + आलय = देवालय समास में दो पदों का मेल होता है। गंगाजल ।
  2. संधि में वर्ण मेल से वर्ण परिवर्तन होते हैं। समास में दो पदों (शब्दों) के बीच का कारक के चिह्न (विभक्ति) का लोप हो जाता है। जैसे-गंगा का जल = गंगाजल ।

गतिविधि

प्रश्न 1.
विक्रमशिला विश्वविद्यालय के भाँति प्राचीन काल में भारत में ‘नालंदा, तक्षशिला आदि विश्वविद्यालय शिक्षा के केन्द्र से उसके सम्बन्ध में शिक्षक से जानकारी प्राप्त कीजिए।
उत्तर:
छात्र स्वयं करें।

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

प्रश्न 2.
सहपाठियों एवं अध्यापकों के साथ विक्रमशिला का परिभ्रमण कीजिए एवं वहाँ प्राप्त पुरातात्त्विक सामग्रियों की एक सूची तैयार कीजिए।
उत्तर:
छात्र स्वयं करें।

विक्रमशिला Summary in Hindi

संक्षेप–विश्वविद्यालय महान खगोल शास्त्री “आर्यभट्ट” एवं तिब्बत ‘ में बौद्ध धर्म तथा लामा सम्प्रदाय के संस्थापक ‘अतिश दीपंकर’ की विद्यास्थली विक्रमशीला प्राचीन भारत को ज्ञान-विद्या के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठता प्रदान करने वाली विश्वविद्यालय में एक था।

बिहार राज्य के भागलपुर जिला में कहलगांव के पास अंतीचक गाँव में इसकी स्थापना आठवीं शदी के मध्य पालवंश के प्रतापी राजा धर्मपाल ने किया था जो बौद्धिक शक्ति प्रधान स्थली होने के कारण अंतर्राष्ट्रीय क्षितिज पर

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

चमकने लगा। अपने आचार्यों के विक्रमपूर्ण आचरण के कारण तथा अखंडशील सम्पन्नता के कारण ही इस विश्वबिद्यालय का नाम विक्रमशीला पड़ा। यह भी किंवदंति है कि विक्रम नामक यक्ष को दमन कर इस स्थान को विहार (भ्रमण) के लायक बनाया गया।

इस प्रांगण में ‘छ: महाविद्यालय प्रत्येक महाविद्यालय के गेट पर “द्वार पण्डित” नियुक्त थे। जो तंत्र, योग, न्याय, काव्य और व्याकरण में पारंगत थे। वे महाविद्यालय में दाखिला पाने के पूर्व महाविद्यालय के द्वार पर ही मौखिक परीक्षा लेते थे। जो छात्र द्वार पण्डितों के प्रश्नों का उत्तर दे देते । वही विक्रमशीला विश्वविद्यालय के छात्र के रूप में दाखिला पाते थे।

इस विश्वविद्यालय में समृद्ध पुस्तकालय जहाँ तत्र, तर्क, दर्शन और बौद्ध दर्शन से संबंधित ग्रंथों का विशाल संग्रह मौजूद था। अधिकृत आचार्य और शोधार्थी द्वारा पाण्डुलिपियों को तैयार किया जाता था। राजा गोपाल के समय अष्टशाहस्रिका प्राज्ञ पारमिता नामक प्रसिद्ध ग्रंथ यही तैयार किया गया था जो आज भी ब्रिटिश म्युजियम, लंदन में धरोहर रूप में रखा हुआ है।

यहाँ धन-शील, धैर्य, वीर्य, ध्यान, पाज्ञा, कौशल्य प्राणिधान बल एवं ज्ञान -10 परिमिताओं में पारंगत करवाकर छात्र को महामानव बना दिया जाता था। . दसवीं-ग्यारहवीं सदी तक यह पूर्वी एशिया महादेश का ज्ञान-दान का सबसे बड़ा केन्द्र बन चुका था।

छात्रों के लिए प्रथम वर्ग ‘भिक्षु वर्ग’ था । यहाँ का छात्र बन जाना ही गौरव की बात मानी जाती थी। देश-विदेश में राजा-महाराजाओं से यहाँ के ही छात्र सम्मान पुरस्कार का हकदार बन जाते थे।

यहाँ तंत्र, व्याकरण, न्याय, सृष्टि-विज्ञान, शब्द-विद्या, शिल्प-विद्या, ” चिकित्सा-विद्या, सांख्य, वैशेषिक, आत्मविद्या, विज्ञान, जादू एवं चमत्कार विद्या इस विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में सम्मलित थे। अध्यापन का मध्यम संस्कृत भाषा थी।

तेरहवीं सदी के आरम्भ में तुर्कों के आक्रमण के कारण इस विश्वविद्यालय का विनाश हो गया। तुर्कों ने इसे भ्रमवश किसी का किला मानकर इसे तहस-नहस कर दिया था। यह बात “तबाकत-ए-नासीरी” नामक ग्रंथ में सम्यक् रूप से वर्णित है।

वर्तमान सरकार की सकारात्मक सोच और पुरातात्विक विभाग के प्रयास से गुमनाम यह विश्वविद्यालय पुनः सुर्खियों में आ रहा है। खुदाई के बाद 50 फीट ऊँची एवं 73 फीट चौड़ी इमारत के रूप में चैत्य प्राप्त हुए हैं। भूमि स्पर्श की मुद्रा में साढ़े चार फीट की भगवान बुद्ध

Bihar Board Class 8 Hindi Solutions Chapter 12 विक्रमशिला

की मूर्ति, पदमासन पर बैठे अवलोकितेश्वर की कांस्य प्रतिमा, पद्मपाणि, मैत्रेय की प्रतिमा तथा क्षतिग्रस्त कुछ सीलें उपलब्ध हुए हैं। शैक्षणिक परिभ्रमण के दृष्टिकोण से यह स्थान दर्शनीय एवं ज्ञानवर्धक

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Bihar Board 12th Hindi Objective Questions and Answers

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 1.
लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि का जन्म हुआ था
(A) 30 जून, 1950 को
(B) 23 मई, 1949 को
(C) 18 अगस्त, 1948 को
(D) 25 मई, 1942 को
Answer:
(A) 30 जून, 1950 को

Question 2.
‘सलाम’ कहानी-संग्रह के कहानीकार हैं
(A) जयशंकर प्रसाद
(B) ओमप्रकाश वाल्मीकि
(C) कृष्णा सोबती
(D) कमलेश्वर
Answer:
(B) ओमप्रकाश वाल्मीकि

Question 3.
‘दलित साहित्य का सौन्दर्यशास्त्र’ के लेखक हैं
(A) मुक्तिबोध
(B) डॉ. नामवर सिंह
(C) ओमप्रकाश वाल्मीकि
(D) डॉ. नगेन्द्र
Answer:
(C) ओमप्रकाश वाल्मीकि

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 4.
‘जूठन’ क्या है ?
(A) कहानी
(B) उपन्यास
(C) रिपोर्ताज
(D) आत्मकथा
Answer:
(D) आत्मकथा

Question 5.
‘जूठन’ में चित्रण हुआ है
(A) राजनीतिक विडंबना का
(B) सामाजिक विषमता का
(C) ऐतिहासिक चेतना का
(D) शैक्षिक परिवेश का
Answer:
(B) सामाजिक विषमता का

Question 6.
ओम प्रकाश ने किस नाट्यशाला की स्थापना की?
(A) ‘मेघदूत’ नामक
(B) रंगशाला’ नामक
(C) प्रेमचंद मंच’ नामक
(D) इनमें कोई नहीं
Answer:
(A) ‘मेघदूत’ नामक

Question 7.
‘जूठन’ क्या है ?
(A) कहानी
(B) आत्मकथा
(C) उपन्यास
(D) निबंध
Answer:
(B) आत्मकथा

Question 8.
‘मेघदूत’ नामक नाट्यशाला कहाँ स्थापित हुई ?
(A) उत्तर प्रदेश में
(B) बिहार में ।
(C) हरियाणा में
(D) महाराष्ट्र में
Answer:
(D) महाराष्ट्र में

Question 9.
‘दलित साहित्य का सौंदर्यशास्त्र’ के रचनाकार कौन हैं ?
(A) प्रेमचंद
(B) सुदर्शन
(C) जगजीवन राम
(D) ओम प्रकाश वाल्मीकि
Answer:
(D) ओम प्रकाश वाल्मीकि

Question 10.
‘जूठन’ किस चेतना की रचना है ?
(A) सांस्कृतिक चेतना की
(B) राजनीतिक चेतना की
(C) धार्मिक चेतना की
(D) दलित चेतना की
Answer:
(D) दलित चेतना की

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 11.
‘अब और नहीं’ वाल्मीकि की कैसी कृति है ?
(A) कहानी
(B) कविता
(C) उपन्यास
(D) निबंध
Answer:
(B) कविता

Question 12.
आत्मकथा लेखक की माँ किसके यहाँ काम करती थी ?
(A) सोमदत्त तगा के घर
(B) यज्ञदत्त तगा के घर
(C) ब्रह्मदेव तगा के घर
(D) ज्ञानदेव तगा के घर
Answer:
(C) ब्रह्मदेव तगा के घर

Question 13.
सुरेन्द्र सिंह किसका पोता था?
(A) सुखदेव सिंह त्यागी
(B) रामदेवी त्यागी
(C) गणपति त्यागी
(D) हरेराम त्यागी
Answer:
(A) सुखदेव सिंह त्यागी

Question 14.
कौन-सा मास्टर है वो, जो मेरे लड़के से झाडू लगवावे है ?”-यह किसका कथन है?
(A) लेखक की माँ का
(B) लेखक के चाचा का
(C) लेखक के पिताजी का
(D) लेखक की बड़ी भाभी का
Answer:
(C) लेखक के पिताजी का

Question 15.
स्कूल के हेडमास्टर का क्या नाम था?
(A) बलीराम
(B) कलीराम
(C) दीनूराम
(D) धनीराम
Answer:
(B) कलीराम

Question 16.
‘जूठन’ के रचनाकार कौन है?
(A) मोहन राकेश
(B) उदय प्रकाश
(C) ओमप्रकाश बाल्मीकि
(D) बालकृष्ण भट्ट
Answer:
(C) ओमप्रकाश बाल्मीकि

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 17.
ओमप्रकाश बाल्मीकि की रचना कौन-सी है?
(A) बलीराम
(B) जूठन
(c) प्रगीत और समाज
(D) रोज
Answer:
(B) जूठन

Question 18.
ओमप्रकाश बाल्मीकि को 1993 में कौन-सा पुरस्कार मिला?
(A) डॉ० अंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार
(B) परिवेश सम्मान
(C) जयश्री सम्मान
(D) कथाक्रम सम्मान
Answer:
(A) डॉ० अंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार

Question 19.
ओमप्रकाश बाल्मीकि को कौन-सा पुरस्कार नहीं मिला?
(A) परिवेश सम्मान
(B) जयश्री सम्मान
(C) परिवेश सम्मान
(D) भारत-रत्न
Answer:
(D) भारत-रत्न

Question 20.
ओमप्रकाश बाल्मीकि हिन्दी में किस आन्दोलन से जुड़े महत्वपूर्ण रचनाकार है?
(A) समाजवादी आन्दोलन
(B) दलित आन्दोलन
(C) भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन
(D) इनमें से कोई नहीं
Answer:
(B) दलित आन्दोलन

Question 21.
ओमप्रकाश बाल्मीकि का जन्म कहाँ हुआ था?
(A) बरला, मुजफ्फरनगर, उत्तरप्रदेश
(B) कानपुर, उत्तरप्रदेश
(C) बनारस, उत्तरप्रदेश
(D) इलाहाबाद, उत्तरप्रदेश
Answer:
(A) बरला, मुजफ्फरनगर, उत्तरप्रदेश

Question 22.
हेडमास्टर कालीराम ने किसे मैदान में झाडू लगाने के लिए कहा?
(A) ओमभारत को
(B) ओमप्रकाश बाल्मीकि को
(C) ओमप्रकाश बाल्मीकि के पिता को
(D) इनमें से किसी को नहीं
Answer:
(B) ओमप्रकाश बाल्मीकि को

Question 23.
ओमप्रकाश बाल्मीकि को प्यार से मंशी जी कौन कहता था?
(A) हेडमास्टर
(B) मित्र
(C) पिताजी
(D) माँ
Answer
(C) पिताजी

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 24.
लेखक को विद्यालय में झाइ लगाते हुए किसने देख लिया? –
(A) भाई ने
(B) पिताजी ने
(C) माँ ने
(D) भाभी ने.
Answer:
(B) पिताजी ने

Question 25.
जब लोदक बच्चा था, शादी-व्याह के मौकों पर उनके परिवारवालों को खाने के लिए क्या मिलता था?
(A) स्वादिष्ट पकवान
(B) साधारण भोजन
(C) मिठाइयाँ
(D) जूठन
Answer:
(D) जूठन

Question 26.
कौन-सी रचना ओमप्रकाश बाल्मीकि की नहीं है?
(A) सदियों का संताप
(B) अब और नहीं
(C) प्रायश्चित
(D) सलाम
Answer:
(C) प्रायश्चित

Question 27.
कौन सी रचना ओमप्रकाश बाल्मीकि की है?
(A) नूतन ब्रह्मचारी
(B) दलित साहित्य का सौंदर्यशास्त्र
(C) सुखमय जीवन
(D) नीलकुसुम
Answer:
(B) दलित साहित्य का सौंदर्यशास्त्र

Question 28.
‘भाभी जी, आप के हाथ का खाना तो बहुत जायकेदार है।’ यह किसने कहा?
(A) सुरेन्द्र सिंह
(B) सुखदेव सिंह
(C) जसवीर
(D) इनमें से कोई नहीं
Answer:
(A) सुरेन्द्र सिंह

Question 29.
सुखदेव सिंह त्यागी की लड़की की शादी में उनके घर के सफाई का काम किसने किया?
(A) लेखक ने
(B) लेखक के पिता ने
(C) लेखक की माँ ने
(D) लेखक के भाई ने
Answer:
(C) लेखक की माँ ने

Question 30.
सुखदेव सिंह त्यागी की लड़की की शादी में किसने गाँवभर की चारपाइयाँ ढोकर एकत्रित किया था?
(A) लेखक के पिता ने
(B) लेखक के भाई ने
(C) लेखक ने
(D) इनमें से कोई नहीं
Answer:
(A) लेखक के पिता ने

Question 31.
‘जूठन’ क्या है?
(A) रेखाचित्र
(B) शब्द-चित्र
(C) कहानी
(D) आत्मकथा
Answer:
(C) कहानी

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 32.
सुरेंद्र सिंह किसका पोता था?
(A) सुखदेव सिंह त्यागी
(B) रामदेव त्यागी
(C) गणपति त्यागी
(D) हरेराम त्यागी
Answer:
(A) सुखदेव सिंह त्यागी

Question 33.
‘कौन-सा मास्टर है वो, जो मेरे लड़के से झाड़ लगवावे है?’-यह किसका कथन है?
(A) लेखक की माँ का
(B) लेखक के चाचा का
(C) लेखक के पिताजी का
(D) लेखक की बड़ी भाभी का
Answer:
(C) लेखक के पिताजी का

Question 34.
स्कूल के हेडमास्टर का क्या नाम था?
(A) बलीराम
(B) कलीराम
(C) दीनूराम
(D) धनीराम
Answer:
(B) कलीराम

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 35.
लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि का जन्म हुआ था
(A) 30 जून 1950 को
(B) 23 मई 1949 को
(C) 18 अगस्त 1948 को
(D) 25 मई 1942 को
Answer:
(A) 30 जून 1950 को

Question 36.
‘सलाम’ कहानी-संग्रह के कहानीकार हैं
(A) जयशंकर प्रसाद
(B) ओमप्रकाश वाल्मीकि
(C) कृष्णा सोबती
(D) कमलेश्वर
Answer:
(B) ओमप्रकाश वाल्मीकि

Question 37.
‘दलित साहित्य की सौंदर्यशास्त्र’ के लेखक है
(A) मुक्तिबोध
(B) डॉ. नामवर सिंह
(C) ओमप्रकाश वाल्मीकि
(D) डॉ० नगेन्द्र
Answer:
(C) ओमप्रकाश वाल्मीकि

Question 38.
‘जूठन’ क्या है?
(A) कहानी
(B) उपन्यास
(C) रिपोर्ताज
(D) आत्मकथा
Answer:
(D) आत्मकथा

Question 39.
‘जूठन’ में चित्रण हुआ है
(A) राजनीतिक विडंबना का
(B) सामाजिक विषमता का
(C) ऐतिहासिक चेतना का
(D) शैक्षिक परिवेश का
Answer:
(B) सामाजिक विषमता का

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 40.
आत्मकथा लेखक की माँ किसके यहाँ काम करती थी?
(A) सोमदत्त तगा के घर
(B) यज्ञदत्त तगा के घर
(C) ब्रह्मदेव तगा के घर
(D) ज्ञानदेव तगा के घर
Answer:
(C) ब्रह्मदेव तगा के घर

Question 41.
ओमप्रकाश ने किस नाट्यशाला की स्थापना की?
(A) ‘मेघदूत’
(B) ‘रंगशाला’
(C) ‘प्रेमचंद मंच’
(D) इनमें से कोई नहीं
Answer:
(A) ‘मेघदूत’

Question 42.
‘मेघदूत’ नामक नाट्यशाला कहाँ स्थापित हुई?
(A) उत्तर प्रदेश में
(B) बिहार में
(C) हरियाणा में
(D) महाराष्ट्र में
Answer:
(D) महाराष्ट्र में

Question 43.
‘दलित साहित्य सौंदर्यशास्त्र’ के रचनाकार कौन है?
(A) प्रेमचंद
(B) सुदर्शन
(C) जगजीवन राम
(D) ओमप्रकाश वाल्मीकि
Answer:
(D) ओमप्रकाश वाल्मीकि

Question 44.
‘जूठन’ किस चेतना की रचना है?
(A) सांस्कृतिक चेतना की
(B) राजनीतिक चेतना की
(C) धार्मिक चेतना की
(D) दलित चेतना की
Answer:
(B) राजनीतिक चेतना की

Bihar Board 12th Hindi 100 Marks Objective Answers गद्य Chapter 10 जूठन

Question 45.
‘अब और नहीं’ वाल्मीकि की कैसी कृति है?
(A) कहानी
(B) कविता
(C) उपन्यास
(D) निबंध
Answer:
(B) कविता

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

Bihar Board 12th Geography Objective Questions and Answers

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 1.
जनांकिकी संक्रमण सिद्धांत किसने दिया?
(A) मार्शल
(B) अमर्त्य सेन
(C) नोएस्टीन
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(C) नोएस्टीन

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 2.
निम्न में से कौन सघन जनसंख्या वाला क्षेत्र है?
(A) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(B) ध्रुवीय प्रदेश
(C) मरुस्थलीय क्षेत्र
(D) दक्षिण-पूर्वी एशिया क्षेत्र
उत्तर:
(D) दक्षिण-पूर्वी एशिया क्षेत्र

प्रश्न 3.
निम्न आयु समूह में जनसंख्या का आकार उन देशों में बड़ा होता है जहाँ
(A) जन्म दर उच्च है
(B) जन्म दर निम्न है
(C) मृत्यु दर उच्च है
(D) मृत्यु दर निम्न है
उत्तर:
(D) मृत्यु दर निम्न है

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में से किस महाद्वीप में जनसंख्या वृद्धि सर्वाधिक है।
(A) अफ्रीका
(B) एशिया
(C) दक्षिण अमेरिका
(D) उत्तर अमेरिका
उत्तर:
(A) अफ्रीका

प्रश्न 5.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक विरल जनसंख्या वाला क्षेत्र नहीं
(A) अयकामा
(B) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(C) दक्षिण-पूर्वी एशिया
(D) ध्रुवीय प्रदेश
उत्तर:
(D) ध्रुवीय प्रदेश

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 6.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक प्रतिकर्ष कारक नहीं है?
(A) जलाभाव
(B) चिकित्सा/शैक्षणिक सुविधाएँ
(C) बेरोजगारी
(D) महामारियाँ
उत्तर:
(A) जलाभाव

प्रश्न 7.
निम्नलिखित में से किस देश की जनसंख्या सबसे अधिक है?
(A) संयुक्त राज्य अमेरिका
(B) ब्राजील
(C) बंगलादेश
(D) इंडोनेशिया
उत्तर:
(A) संयुक्त राज्य अमेरिका

प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक तथ्य नहीं है?
(A) विगतं 500 वर्षों में मानव जनसंख्या 10 गुना से अधिक बड़ी है
(B) विश्व जनसंख्या में प्रतिवर्ष 8 करोड़ लोग जुड़ जाते हैं
(C) 5 अरब से 6 अरब तक बढ़ने में जनसंख्या को 100 वर्ष लगे
(D) जनाकिकीय संक्रमण की प्रथम अवस्था में जनसंख्या-वृद्धि उच्च होती है
उत्तर:
(D) जनाकिकीय संक्रमण की प्रथम अवस्था में जनसंख्या-वृद्धि उच्च होती है

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 9.
विश्व के किस महाद्वीप में 90% से अधिक आबादी नगरीय है?
(A) उत्तर अमेरिका
(B) अफ्रीका
(C) एशिया
(D) यूरोप
उत्तर:
(A) उत्तर अमेरिका

प्रश्न 10.
भारत में एक हेक्टेयर कृषि भूमि पर कितने व्यक्ति आश्रित हैं?
(A) 5
(B) 15
(C) 12
(D) 0.4
उत्तर:
(A) 5

प्रश्न 11.
रूस को छोड़कर यूरोप के 40 स्वतंत्र देशों में सम्मिलित रूप से कितने लोग रहते है ?
(A) 50 करोड़
(B) 58.2 करोड़
(C) 104 करोड़
(D) 20 करोड़
उत्तर:
(A) 50 करोड़

प्रश्न 12.
भारत की वार्षिक जनसंख्या वृद्धि दर कितनी है?
(A) 2.0
(B) 1.7
(C) 2.5
(D) 2.6
उत्तर:
(B) 1.7

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 13.
जर्मनी की वार्षिक जनसंख्या-वृद्धि दर कितनी है?
(A) – 3.6
(B) – 2.8
(C) – 0.1
(D) – 0.06
उत्तर:
(C) – 0.1

प्रश्न 14.
निम्न में से कौन एक जनसंख्या-परिवर्तन के कारक नहीं है?
(A) प्रवास
(B) आवास
(C) जन्म
(D) मृत्यु
उत्तर:
(B) आवास

प्रश्न 15.
निम्न में से कौन-सा एक विरल जनसंख्या वाला क्षेत्र है?
(A) ध्रुवीय प्रदेश
(B) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(C) दक्षिण-पूर्वी एशिया
(D) अटाकामा
उत्तर:
(A) ध्रुवीय प्रदेश

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 16.
प्रतिकर्ष और अपकर्ष कारक उत्तरदायी है
(A) प्रवास के लिए
(B) भू-निम्नीकरण के लिए
(C) वायु प्रदूषण के लिए
(D) गंदी बस्तियों के लिए
उत्तर:
(B) भू-निम्नीकरण के लिए

प्रश्न 17.
ब्लाश निम्नलिखित में से किस भौगोलिक अवधारणा से संबंधित है?
(A) नियतिवाद
(B) संभववाद
(C) नव नियतिवाद
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(C) नव नियतिवाद

प्रश्न 18.
निम्नलिखित में से कौन एक महाद्वीप में जनसंख्या-वृद्धि सर्वाधिक है?
(A) एशिया
(C) दक्षिण अमेरिका
(B) अफ्रीका
(D) उत्तरी अमेरिका
उत्तर:
(A) एशिया

प्रश्न 19.
किस वर्ष विश्व की मानव संख्या 6 अरब हुई?
(A) 1750
(B) 1975
(C) 1830
(D) 1999
उत्तर:
(D) 1999

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 20.
निम्नलिखित में से किस महाद्वीप में जनसंख्या वृद्धि सर्वाधिक है?
(A) यूरोप
(B) अफ्रीका
(C) आस्ट्रेलिया
(D) एशिया
उत्तर:
(B) अफ्रीका

प्रश्न 21.
सर्वाधिक सड़क घनत्व और सबसे अधिक वाहनों की संख्या निम्नलिखित में से किस महादेश में है
(A) उत्तरी अमेरिका
(B) यूरोप
(C) अफ्रीका
(D) आस्ट्रेलिया
उत्तर:
(A) उत्तरी अमेरिका

प्रश्न 22.
जनसंख्या वितरण को प्रभावित करने वाले कारकों में सबसे महत्वपूर्ण कारक कौन-सा है?
(A) स्थलाकृति
(B) मिट्टी
(C) प्राकृतिक वनस्पति
(D) जलवायु
उत्तर:
(D) जलवायु

प्रश्न 23.
किस महाद्वीप की जनसंख्या-वृद्धि सर्वाधिक है?
(A) एशिया
(B) अफ्रीका
(C) उत्तरी अमेरिक
(D) दक्षिण अमेरिका
उत्तर:
(B) अफ्रीका

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 24.
चीन की आबादी है
(A) एक अरब
(B) 1.5 अरब
(C) 1.3 अरब
(D) 1.4 अरब
उत्तर:
(C) 1.3 अरब

प्रश्न 25.
निम्न में से कौन एक जनसंख्या-परिवर्तन के कारक नहीं है? (2016A)
(A) प्रवास
(B) आवास
(C) जन्म
(D) मृत्यु
उत्तर:
(B) आवास

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 26.
निम्न में कौन-सा एक विरल जनसंख्या वाला क्षेत्र है? (2016A)
(A) ध्रुवीय प्रदेश
(B) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(C) दक्षिण-पूर्वी एशिया
(D) अटाकामा
उत्तर:
(A) ध्रुवीय प्रदेश

प्रश्न 27.
प्रतिकर्ष और अपकर्ष कारक उत्तरदायी है (2016A)
(A) प्रवास के लिए
(B) भू-निम्नीकरण के लिए
(C) वायु प्रदूषण के लिए
(D) गंदी बस्तियों के लिए
उत्तर:
(B) भू-निम्नीकरण के लिए

प्रश्न 28.
ब्लाश निम्नलिखित में से किस भौगोलिक अवधारणा से संबंधित है?
(A) नियतिवाद
(B) संभववाद
(C) नव नियतिवाद
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(B) संभववाद

प्रश्न 29.
निम्नलिखित में से कौन एक महाद्वीप में जनसंख्या वृद्धि सर्वाधिक है? (2009, 2011, 2015, 2019A)
(A) एशिया
(B) अफ्रीका
(C) दक्षिण अमेरिका
(D) उत्तरी अमेरिका
उत्तर:
(A) एशिया

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 30.
किस वर्ष विश्व की मानव संख्या 6 अरब हुई? (2013A)
(A) 1750 ई० में
(B) 1975 ई० में
(C) 1830ई० में
(D) 1999 ई० में
उत्तर:
(D) 1999 ई० में

प्रश्न 31.
किस द्वीप में सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व पाया जाता है?
(A) जावा
(B) सुमात्रा
(C) बोर्नियो
(D) सेलेबेस
उत्तर:
(A) जावा

प्रश्न 32.
सर्वाधिक सड़क घनत्व और सबसे अधिक वाहनों की संख्या निम्नलिखित में से किस महादेश में है?
(A) उत्तरी अमेरिका
(B) यूरोप
(C) अफ्रीका
(D) आस्ट्रेलिया
उत्तर:
(A) उत्तरी अमेरिका

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 33.
जनसंख्या वितरण को प्रभावित करने वाले कारकों में सबसे महत्वपूर्ण कारक कौन-सा है? (2010A)
(A) स्थलाकृति
(B) मिट्टी
(C) प्राकृतिक वनस्पति
(D) जलवायु
उत्तर:
(D) जलवायु

प्रश्न 34.
निम्नलिखित में किस देश का लिंग अनुपात विश्व में सर्वाधिक है? (2018A)
(A) संयुक्त अरब अमीरात
(B) फ्रांस
(C) जापान
(D) लैटविया
उत्तर:
(D) लैटविया

प्रश्न 35.
चीन की आबादी है
(A) 1 अरब
(B) 1.5 अरब
(C) 1.3 अरब
(D) 1.4 अरब
उत्तर:
(C) 1.3 अरब

प्रश्न 36.
जनांकिकी संक्रमण सिद्धान्त किसने दिया? [2009A]
(A) मार्शल
(B) अमर्त्य सेन
(C) नोएस्टीन
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(C) नोएस्टीन

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 37.
निम्न में से कौन सघन जनसंख्या वाला क्षेत्र है? [2009A, 2019A]
(A) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(B) ध्रुवीय प्रदेश
(C) मरुस्थलीय क्षेत्र
(D) दक्षिण-पूर्वी एशिया क्षेत्र
उत्तर:
(D) दक्षिण-पूर्वी एशिया क्षेत्र

प्रश्न 38.
निम्न आय समूह में जनसंख्या का आकार उन देशों में बड़ा होता है, जहाँ
(A) जन्म दर उच्च है
(6) जन्म दर निम्न है
(C) मृत्यु दर उच्च है
(D) मृत्यु दर निम्न है
उत्तर:
(D) मृत्यु दर निम्न है

प्रश्न 39.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक विरल जनसंख्या वाला क्षेत्र नहीं
(A) अटाकामा
(B) भूमध्यरेखीय प्रदेश
(C) दक्षिण-पूर्वी एशिया
(D) ध्रुवीय प्रदेश
उत्तर:
(B) भूमध्यरेखीय प्रदेश

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 40.
निम्नलिखित में से कौन-एक प्रतिकर्ष कारक नहीं है?
(A) जलाभाव
(B) चिकित्सा/शैक्षणिक सुविधाएँ
(C) बेरोजगारी
(D) महामारियाँ
उत्तर:
(A) जलाभाव

प्रश्न 41.
सबसे अधिक जनसंख्या वाला महाद्वीप कौन है?
(A) आस्ट्रेलिया
(B) उत्तरी अमेरिका
(C) एशिया
(D) अफ्रीका
उत्तर:
(C) एशिया

प्रश्न 42.
निम्नलिखित में से कौन-सा एक तथ्य नहीं है?
(A) विगत 500 वर्षों में मानव जनसंख्या 10 गुना से अधिक बढ़ी है
(B) विश्व जनसंख्या में प्रतिवर्ष 8 करोड़ लोग जुड़ जाते हैं
(C) 5 अरब से 6 अरब तक बढ़ने में जनसंख्या को 100 वर्ष लगे
(D) जनकिकीय संक्रमण की प्रथम अवस्था में जनसंख्या वृद्धि उच्च होती है
उत्तर:
(D) जनकिकीय संक्रमण की प्रथम अवस्था में जनसंख्या वृद्धि उच्च होती है

प्रश्न 43.
विश्व के किस महाद्वीप में 90% से अधिक आबादी नगीय है?
(A) उत्तर अमेरिका
(B) अफ्रीका
(C) एशिया
(D) यूरोप
उत्तर:
(A) उत्तर अमेरिका

प्रश्न 44.
भारत में एक हेक्टेयर कृषि भूमि पर कितने व्यक्ति आश्थित हैं?
(A) 5
(B) 15
(C) 12
(D) 0.4
उत्तर:
(A) 5

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 45.
मस को छोड़कर यूरोप के 40 स्वतंत्र देशों में सम्मिलित रूप से कितने लोग रहते हैं?
(A) 50 करोड़
(B) 58.2 करोड़
(C) 104 करोड़
(D) 20 करोड़
उत्तर:
(A) 50 करोड़

प्रश्न 46.
भारत की वार्षिक जनसंख्या वृद्धि दर कितनी है?
(A) 2.0
(B) 1.7
(C) 2.5
(D) 2.6
उत्तर:
(B) 1.7

प्रश्न 47.
जर्मनी की वार्षिक जनसंख्या वृद्धि दर कितनी है?
(A) -3.6
(B) -2.8
(C) -0.1
(D) -0.6
उत्तर:
(C) -0.1

प्रश्न 48.
विश्व में सर्वाधिक जनसंख्या कॉन्द्रत है.
(A) पर्वतीय क्षेत्रों में
(B) पठारीय क्षेत्रों में
(C) मैदानों में
(D) मरुस्थलीय प्रदेशों में
उत्तर:
(C) मैदानों में

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 49.
दक्षिण-पूर्वी एशिया में जनसंख्या केन्द्रित है
(A) बाढ़ मैदानों में
(B) समतल पठारों पर
(C) उच्च दोआबों पर
(D) नदी घाटियों के उच्च भागों में ।
उत्तर:
(D) नदी घाटियों के उच्च भागों में ।

प्रश्न 50.
1950 ई. में विश्व की जनसंख्या श्री
(A) 70 करोड़
(B) 100 करोड़
(C) 160 करोड़
(D) 180 करोड
उत्तर:
(B) 100 करोड़

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

प्रश्न 51.
विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश कौन-सा है?
(A) भारत
(B) चीन
(C) सं.रा. अमेरिका
(D) जापान
उत्तर:
(B) चीन

प्रश्न 52.
निम्न जनसंख्या वाला महादेश कौन है?
(A) दक्षिण अमेरिका
(B) ओसेनिया (आस्ट्रेलिया एवं नअदकी द्वीप समूह)
(C) अफ्रीका
(D) एशिया
उत्तर:
(B) ओसेनिया (आस्ट्रेलिया एवं नअदकी द्वीप समूह)

प्रश्न 53.
21वीं शताब्दी के प्रारम्भ में विश्व की जनसंग्या दर्ज की गई
(A) 500 करोड़
(B) 530 करोड़
(C) 600 करोड़
(D) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(C) 600 करोड़

Bihar Board 12th Geography Objective Answers Chapter 2 विश्व जनसंख्या-वितरण, घनत्व और वृद्धि

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

Bihar Board Class 12 History विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान Textbook Questions and Answers

उत्तर दीजिए (लगभग 100 से 150 शब्दों में)

प्रश्न 1.
बहुत सारे स्थानों पर विद्रोही सिपाहियों ने नेतृत्व संभालने के लिए पुराने शासकों से क्या आग्रह किया? .
उत्तर:
विद्रोही सिपाहियों द्वारा नेतृत्व संभालने के लिए पुराने शासकों से आग्रह –

  1. विद्रोही सिपाही पुराने शासकों से सहयोग के लिए आंदोलन को और अधिक प्रखर बनाना चाहते थे।
  2. वे पुराने शासकों का नेतृत्व चाहते थे, क्योंकि उन्हें युद्ध करने और शासन करने का पर्याप्त अनुभव था। मेरठ आदि के सिपाहियों ने बहादुरशाह को नेतृत्व संभालने के लिए मजबूर कर दिया था।
  3. वे अपने विद्रोह की विधिक-मान्यता देना चाहते थे। जब बहादुरशाह ने नेतृत्व स्वीकार कर लिया तो उनका विद्रोह वैध हो गया।
  4. इसी प्रकार कानपुर में नाना साहिब, आरा में कुंवर सिंह, लखनऊ में बिरजिस कद्र आदि को शहर के लोगों और उनकी जनता ने नेतृत्व संभालने के लिए विवश किया जिसे उन्हें स्वीकार करना पड़ा।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 2.
उन साक्ष्यों के बारे में चर्चा कीजिए जिनसे पता चलता है कि विद्रोही योजनाबद्ध और समन्वित ढंग से काम कर रहे थे?
उत्तर:
विद्रोहियों के योजनाबद्ध और समन्वित ढंग से काम करने के साक्ष्य –

  1. अवध मिलिट्री पुलिस पर कैप्टेन हियर्से की सुरक्षा का उत्तरदायित्व था। यह दायित्व भारतीय सिपाहियों पर था। यहीं 41 वीं नेटिव इन्फेंट्री भी तैनात थी। इन्फेंट्री की दलील थी कि अवध मिलिट्री डियर्स की हत्या कर दे या उसे गिरफ्तार करके 41 वीं नेटिव इन्फेंट्री के हवाले कर दे परंतु मिलिट्री पुलिस ने दोनों दलीलें खारिज कर दी।
  2. विद्रोह के सुनियोजन विषय में एक इतिहासकार चार्ल्स बाल के लेख से पता चलता है। उसके अनुसार सिपाहियों की पंचायतें कानपुर सिपाही लाइन में जुटती थी। स्पष्ट है कि कुछ निश्चित फैसले अवश्य लिये जाते होंगे।
  3. सिपाही लाइनों में रहते थे और सभी की जीवन शैली एक जैसी थी। वे प्रायः एक से थे। ऐसे में कोई योजना बनाना उनके लिए आसान था।

प्रश्न 3.
1857 के घटनाक्रम को निर्धारित करने में धार्मिक विश्वासों की किस हद तक भूमिका थी?
उत्तर:
1857 के घटनाक्रम को निर्धारित करने में धार्मिक विश्वासों की भूमिका-अंग्रेजों ने भारत में लगभग धर्म-निरपेक्ष नीति को अपनाया तथा बलपूर्वक किसी का धर्म परिवर्तन कभी नहीं किया। अंग्रेज लोगों का उद्देश्य भारत में धर्म-प्रसार नहीं वरन् धन प्राप्ति था। परंतु व्यापारियों के साथ भारत आए धर्म-प्रचारकों ने ईसाई मत का प्रसार प्रारंभ कर दिया। इस मत के प्रसार के लिए सरकारी कोष से धन दिया जाता था तथा ईसाई बनने वाले व्यक्तियों को पद प्रदान करने में प्राथमिकता मिलती थी।

हिन्दू धर्म और इस्लाम के विरुद्ध खुल्लमखुल्ला अनेक बातों का प्रचार करते थे। वे धर्म के अवतारों तथा पैगम्बरों की निन्दा करते तथा उनको गालियाँ देते थे तथा सरकार उनको रोकने का प्रयास नहीं करती थी। इसलिए भारतीयों को इन धर्म-प्रचारकों से घृणा होने लगी थी। लार्ड विलियम बैंटिक ने एक नियम पास किया जिसके अनुसार ईसाई धर्म को अपनाने पर ही हिन्दू पिता की सम्पत्ति में पुत्र को भाग मिल सकता था।

इसके अतिरिक्त डलहौजी की गोद-निषेध नीति ने भी हिन्दू धर्मावलम्बियों को असन्तुष्ट किया क्योंकि गोद लेने की प्रथा धार्मिक थी। हिन्दू धर्म के अनुसार नि:संतान व्यक्ति को मुक्ति नहीं मिल सकती अतः उसे किसी निकट संबंधी को गोद लेकर सन्तानहीनता के कलंक से मुक्त होना पड़ता था। किन्तु डलहौजी के निषेध करने पर हिन्दुओं में बहुत असंतोष फैला। एक नियम द्वारा कारागार में बन्दियों को अपना जलपान रखने से रोक दिया गया। इससे हिन्दुओं की शंका और बढ़ गई कि उनको ईसाई बनाया जा रहा है। शिक्षा पद्धति से भी भारतीय असंतुष्ट थे क्योंकि मिशन स्कूलों में बच्चे के मस्तिष्क में हिन्दू एवं मुस्लिम धर्म के विरुद्ध बातें भरकर उसे ईसाई धर्म की ओर आकर्षित किया जाता था।

ईस्ट इण्डिया कंपनी के प्रधान ने ब्रिटिश हाऊस ऑफ कॉमन्स में यह विचार व्यक्त किया, “परमेश्वर ने भारत का विस्तृत साम्राज्य इंग्लैण्ड को इसलिए सौंपा है कि ईसा का झण्डा भारत के एक कोने से दूसरे कोने तक सफलतापूर्वक लहराता रहे। प्रत्येक व्यक्ति को इस बात का पूर्ण प्रत्यन करना चाहिए कि समस्त भारतीयों को ईसाई बनाने के महान कार्य किसी प्रकार की बाधा उपस्थित न होने पाए।”

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 4.
विद्रोहियों के बीच एकता स्थापित करने के लिए क्या तरीके अपनाए गये?
उत्तर:
विद्रोहियों के बीच एकता स्थापित करने के लिए अपनाये गए तरीके:

  1. विद्रोह के समय लोगों की जाति और धर्म का स्थान नहीं दिया गया। विद्रोहियों द्वारा जारी की गई घोषणाओं में जाति और धर्म का भेदभाव किये बिना समाज के सभी वर्गों का आह्वान किया जाता था।
  2. अनेक घोषणायें मुस्लिम राजकुमारों या नवाबों की ओर से या उनके नाम पर जारी की गई थीं परंतु उनमें भी हिन्दुओं की भावनाओं का ध्यान रखा जाता था।
  3. इस विद्रोह को एक ऐसे युद्ध के रूप में पेश किया जा रहा था जिसमें हिन्दू और मुसलमान दोनों का लाभ-हानि बराबर था।
  4. अंग्रेजों के आगमन से पूर्व की हिन्दू-मुस्लिम एकता का पुनस्मरण कराया जाता था और मुगल साम्राज्य के अंतर्गत विभिन्न समुदायों के सह-अस्तित्व का गुणगान किया जाता था।
  5. बहादुरशाह के नाम से जारी की गई घोषणा में मुहम्मद और महावीर दोनों की दुहाई देते हुए जनता से इस विद्रोह में शामिल होने के लिए अपील की जाती थी।

प्रश्न 5.
अंग्रेजों ने विद्रोह को कुचलने के लिए क्या कदम उठाये?
उत्तर:
अंग्रेजों द्वारा विद्रोह को कुचलने के लिए उठाये गये कदम निम्नलिखित है –

  1. प्राप्त साक्ष्यों से ज्ञात होता है कि अंग्रेजों ने इस विद्रोह का दमन बड़ी कठिनाई से किया। उन्होंने सैनिक टुकड़ियाँ लगाने से पूर्व उनकी सहायता के लिए कुछ कानून और मुकदमों की घोषणायें की।
  2. उन्होंने सम्पूर्ण उत्तर भारत में मार्शल लॉ लागू कर दिया। फौजी अफसरों को आदेश दिया गया कि विद्रोह में भाग लेने वालों पर मुकदमा चलाया जाए और सजा-ए-मौत दी जाए।
  3. विद्रोह के दमन के लिए ब्रिटेन से आई सेना को कलकत्ता और पंजाब में लगा दिया गया। जून 1857 से सितम्बर 1857 के बीच उन्होंने दिल्ली पर अधिकार कर लिया। दोनों पक्षों की भारी हानि हुई।
  4. गंगा घाटी में विद्रोह का दमन धीमा रहा। सैनिक टुकड़ियाँ गाँव-गाँव में जाकर विद्रोह का दमन कर रहा था।
  5. सैन्य कार्यवाही के साथ अंग्रेजों ने ‘फूट डालो’ की नीति भी अपनाई।

निम्नलिखित पर एक लघु निबंध लिखिए (लगभग 250 से 300 शब्दों में)

प्रश्न 6.
अवध में विद्रोह इतना व्यापक क्यों था? किसान, ताल्लुकदार और जमींदार उसमें क्यों शामिल हुए?
उत्तर:
अवध में विद्रोह के व्यापक होने और किसान ताल्लुकदार और जमींदारों के उसमें शामिल होने के कारण –

  • 1856 ई. में अवध को औपचारिक रूप से ब्रिटिश साम्राज्य का अंग घोषित कर दिया गया। अवध के विलय से अनेक क्षेत्रों और रियासतों में असंतोष छा गया।
  • अवध के अधिग्रहण से नवाब की गद्दी समाप्ति के साथ ताल्लुकदार भी तबाह हो गये। उनकी सेना और सम्पत्ति दोनों खत्म हो गईं। एकमुश्त बंदोबस्त के अंतर्गत अनेक ताल्लुकदारों की जमीन छीन ली गई।
  • ताल्लुकदारों से सत्ता हस्तांतरण का परिणाम किसानों की दृष्टि से बुरा हुआ। हालांकि ताल्लुकदार किसानों से खूब राजस्व और अन्य मदों से धन वसूल करते थे। परंतु किसानों के हितैषी भी थे। वे गाहे-बगाहे विभिन्न स्थितियों में सहायता भी करते थे परंतु अब उनकी सारी आशायें समाप्त हो गयीं। इसके परिणामस्वरूप ताल्लुकदार और किसान अंग्रेजों से रुष्ट हो गये और उन्होंने नवाब की पत्नी बेगम हजरत के नेतृत्व में विद्रोह में साथ दिया।
  • किसान फौजी बैरकों में जाकर सिपाहियों से मिल गये। इस प्रकार किसान भी सिपाहियों के विद्रोही कृत्यों में शामिल होने लगे।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 7.
विद्रोही क्या चाहते थे? विभिन्न सामाजिक समूहों की दृष्टि में कितना फर्क था?
उत्तर:
विद्रोहियों की इच्छाएँ और सामाजिक समूहों की दृष्टि में अंतर:
विद्रोही क्या चाहते थे, इस बारे में कोई ठोस प्रमाण नहीं मिलता। जो स्रोत उपलब्ध हैं उनसे अंग्रेजों की सोच का पता चलता है। विद्रोही प्रायः अनपढ़ थे इसलिए कुछ लिख भी नहीं सकते थे। केवल उनके द्वारा जारी कुछ घोषणाओं और इश्तहारों का ज्ञान होता है और उनसे विशेष जानकारी नहीं मिलती। उनकी मुख्य इच्छाएँ निम्नलिखित थी:

1. एकता की कल्पना:
1857 के विद्रोहियों में एकता के विचारों का दर्शन होता है। उनके द्वारा जारी घोषणाएँ जाति व धर्म से ऊपर होती थीं। अनेक घोषणाएँ मुस्लिम राजकुमारों या नवाबों की ओर से होती थी। देश में एकता स्थापित करने के लिए विद्रोह को हिन्दू और मुसलमान दोनों के लिए बराबर लाभ-हानि के रूप में पेश किया जा रहा था। हालांकि अंग्रेजों ने इसमें बाधा डालने की अनेक कोशिशें की थी।

2. उत्पीड़न का विरोध:
विद्रोही अंग्रेजों द्वारा पैदा की जाने वाली पीड़ाओं का विरोध करना चाहते थे। इसके लिए वे समय-समय पर अंग्रेजों की निन्दा करते थे। लोग इस बात से क्रुद्ध थे कि छोटे-बड़े जमीन मालिकों की जमीन छीन ली गयी है और विदेशी व्यापार ने दस्तकारों और बुनकरों को तबाह कर दिया है। विद्रोही चाहते थे कि उनका रोजगार, धर्म, सम्मान और उनकी अस्मिता बनी रहे।

3. वैकल्पिक सत्ता की तलाश:
विद्रोही चाहते थे कि अंग्रेजों के स्थान पर किसी भारतीय सत्ता का शासन हो जिससे उनके कष्ट कम हो सकें और उनकी बेइज्जती न हो। इसीलिए विद्रोह के प्रारम्भ में दिल्ली, लखनऊ और कानपुर जैसे स्थानों पर अंग्रेजी सत्ता के समाप्त होते ही वहाँ मुगल शासन की तर्ज पर शासन स्थापित किया गया और अनेक नियुक्तियाँ की गईं। वस्तुतः वे अब अंग्रेजों से छुटकारा पाना चाहते थे।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 8.
1857 के विद्रोह के बारे में चित्रों से क्या पता चलता है? इतिहासकार इन चित्रों का किस तरह से विश्लेषण करते हैं?
उत्तर:
1857 के विद्रोह के बारे में चित्रों से प्राप्त जानकारी और इतिहासकारों द्वारा इनका विश्लेषण:
1857 के विद्रोह विषयक चित्र महत्त्वपूर्ण जानकारी देते हैं और इतिहासकारों ने इनका निम्नवत विश्लेषण किया है –
1. अंग्रेजों द्वारा निर्मित कुछ चित्रों में अंग्रेजों को बचाने और विद्रोहियों को कुचलने वाले अंग्रेजी नायकों का गुणगान किया गया है। 1859 में टॉमस जोन्स बार्कर द्वारा बनाया गया चित्र ‘रिलीफ ऑफ लखनऊ’ इसी श्रेणी का उदाहरण है। जब विद्रोही सेना ने लखनऊ पर घेरा डाल दिया तो लखनऊ के कमिश्नर हेनरी लारेंस ने ईसाइयों को एकत्र किया और अति सुरक्षित रेजीडेंसी में शरण ली। बाद में कॉलेन कैम्पबेल नामक कमांडर ने एक बड़ी सेना को लेकर रक्षक सेना को छुड़ाया।

2. बार्कर की ही एक अन्य पेंटिंग में कैम्पबेल के आगमन के क्षण को आनन्द मनाते हुए दिखाया गया है। कैनवस के मध्य में कैम्पबेल, ऑट्रम और हेवलॉक हैं। चित्र के अगले भाग में पड़े शव और घायल इस घेराबंदी के दौरान हुई लड़ाई की गवाही देते हैं। जबकि मध्य भाग में घोड़ों की विजयी तस्वीरें हैं। इससे ज्ञात होता है कि अब ब्रिटिश सत्ता और नियंत्रण बहाल हो चुका है। इस प्रकार के चित्रों से इंग्लैण्ड स्थित जनता में अपनी सरकार के प्रति भरोसा पैदा किया जाता था।

3. ब्रिटिश अखबारों में भारत में हिंसा के चित्र और खबरें खूब छापती थीं। जिनको देखकर और पढ़कर ब्रिटेन की जनता प्रतिशोध और सबक सिखाने की मांग कर रही थी।

4. निःसहाय औरतों और बच्चों के चित्र भी बनाये गये। जोजेफ लोएल पेंटल के ‘स्मृति चित्र’ (In memorium) में अंग्रेज औरतें और बच्चे एक घेरे में एक-दूसरे से लिपटे दिखाई देते हैं। वे लाचार और मासूम दिख रहे हैं।

5. कुछ अन्य रेखाचित्रों और पेंटिंग्स में औरतें उग्र रूप में दिखाई गयी हैं। इनमें वे विद्रोहियों के हमले से अपना बचाव करती हुई नजर आती हैं। उन्हें वीरता की मूर्मि के रूप में दर्शाया गया है।

6. कुछ चित्रों में ईसाईयत की रक्षा हेतु संघर्ष को दिखाया गया है। इसमें बाइबिल को भी दिखाया गया है।

7. इन चित्रों में बदले की भावना के उफान में अंग्रेजों द्वारा विद्रोहियों की निर्मम हत्या का प्रदर्शन है।

8. 1857 के विद्रोह को एक राष्ट्रवादी दृश्य के रूप में चित्रित किया गया। इस संग्राम में कला और साहित्य को बनाये रखा गया। कलाओं में झाँसी की रानी को घोड़े पर सवार एक हाथ में तलवार और दूसरे में घोड़े की रास थामे दिखाया गया है। वह साम्राज्यवादियों का सामना करने के लिए रणभूमि की ओर जा रही हैं।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 9.
एक चित्र और एक लिखित पाठ को चुनकर किन्हीं दो स्रोतों की पड़ताल कीजिए और इस बारे में चर्चा कीजिए कि उनसे विजेताओं और पराजितों के दृष्टिकोण के बारे में क्या पता चलता है?
उत्तर:
पाठ्य पुस्तक में अनेक चित्र और लिखित पाठ दिए गए हैं। इनके आधार पर विजेताओं और पराजितों के दृष्टिकोण के बार में बताया जा सकता है। यहाँ चित्रकार फेलिस बिएतो का एक चित्र लेते हैं। इसमें लखनऊ के नवाब वाजिद अली शाह द्वारा बनवाए गए रंग बाग (Pleasure Garden) के खण्डहरों में चार व्यक्ति दिखाये गए हैं। 1857 के विद्रोह में इसकी रक्षा के लिए 2000 से अधिक विद्रोही सिपाही तैनात थे।

उनको कैम्पबेल के नेतृत्व वाली सेना ने मार डाला। इसके अहाते में नरकंकाल पड़े हुए दिखाई देते हैं। विजेताओं का दृष्टिकोण का दृष्टिकोण ऐसे चित्रों को बनवा कर लोगों में आतंक पैदा करने का था। इस चित्र की भयावहता लोगों में दहशत उत्पन्न कर सकती है। पराजितों का दृष्टिकोण इससे अलग हो सकता है। उनकी दृष्टि से कैम्पबेल के प्रति क्रोधाग्नि धधक सकती है। वे कैम्पबेल को निर्दयी व्यक्ति कह सकते हैं। वे इस चित्रण को झूठा भी कह सकते हैं क्योंकि इतने विद्रोहियों की हत्या एक साथ संभव नहीं है। ”

मानचित्र कार्य

प्रश्न 10.
भारत के मानचित्र पर कलकत्ता (कोलकाता), बम्बई (मुम्बई), मद्रास (चेन्नई) को चिह्नित कीजिए जो 1857 में ब्रिटिश सत्ता के तीन मुख्य केंद्र थे। मानचित्र 1 और 2 को देखिए तथा उन इलाकों को चिह्नित कीजिए जहाँ विद्रोह सबसे व्यापक रहा। औपनिवेशिक शहरों से ये इलाके कितनी दूर या कितनी पास थे।
उत्तर:
Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान img 1

परियोजना कार्य (कोई एक)

प्रश्न 11.
1857 के विद्रोही नेताओं में से किसी एक की जीवनी पढ़ें। देखिए कि उसे लिखने के लिए जीवनीकार ने किन स्रोतों का उपयोग किया है। क्या उनमें सरकारी रिपोर्टों, अखबारी खबरों, क्षेत्रीय भाषाओं की कहानियों, चित्रों और किसी अन्य चीज का इस्तेमाल किया गया है? क्या सभी स्रोत एक ही बात करते हैं या उनके बीच फर्क दिखाई देते हैं? अपने निष्कर्षों पर एक रिपोर्ट तैयार कीजिए।
उत्तर:
छात्र स्वयं करें।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 12.
1857 पर बनी कोई फिल्म देखिए और लिखिए कि उसमें विद्रोह किस तरह दर्शाया गया है। उसमें अंग्रेजों, विद्रोहियों और अंग्रेजों के भारतीय वफादारों को किस तरह दिखाया गया है? फिल्म किसानों, नगरवासियों, आदिवासियों, जमींदारों ताल्लुकदारों आदि के बारे में क्या कहती है? फिल्म किस तरह की प्रतिक्रिया को जन्म देना चाहती है?
उत्तर:
छात्र स्वयं करें।

Bihar Board Class 12 History विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
1857 विद्रोह के दो सामान्य कारण बताइए।
उत्तर:

  1. अंग्रेजों ने अपने स्वार्थ के लिए भारत का खूब आर्थिक शोषण किया तथा विभिन्न तरीकों से भारत का धन इंग्लैण्ड पहुँचा दिया।
  2. ब्रिटिश सरकार के सभी प्रशासनिक क्षेत्रों में व्यापक भ्रष्टाचार था। जनता के कल्याण की दिशा में अंग्रेज सरकार सर्वथा मौन और निष्करूण थी।

प्रश्न 2.
1857 के विद्रोह की शुरूआत कब हुई? उसमें विद्रोहियों ने क्या किया?
उत्तर:

  1. विद्रोह का विस्फोट 10 मई 1857 को मेरठ छावनी में हुआ।
  2. मेरठ में सिपाहियों ने अंग्रेजों के विरुद्ध अपना विद्रोह घोषित कर दिया। उन्होंने हथियार और गोला-बारूद वाले शस्त्रागार पर कब्जा कर लिया और गोरों के बंगलों, कार्यालय, जेल, अदालत तथा सरकारी खजाने को तहस-नहस कर दिया।

प्रश्न 3.
1857 के विद्रोह की असफलता के कारण बताइये।
उत्तर:

  1. निश्चित तिथि से पहले यह विद्रोह फूट पड़ने के कारण सम्पूर्ण भारत और यहाँ के सभी लोग इसमें एक साथ भाग नहीं ले सके और अंग्रेज सतर्क हो गये।
  2. भारतीय सैनिकों के पास हथियार आदि साधनों का अभाव था। इसके विपरीत अंग्रेजों के पास अच्छे हथियार, वायरलेस तथा बड़ी सेना थी।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 4.
1857 का विद्रोह एक ‘जन विद्रोह’ जैसे था?
उत्तर:

  1. अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन, दुष्चरित्र तथा उनकी कूटनीतियों के कारण सभी भारतीय असन्तुष्ट थे।
  2. अंग्रेजों के आर्थिक शोषण से समूची भारतीय जनता तंग आ गयी थी। इन्होंने भारत के परम्परागत ढाँचे को नष्ट कर दिया था। किसान, दस्तकार, हस्तशिल्पी, जमींदार तथा देशी राजा सभी को निर्धनता की आग में झोंक दिया गया था।

प्रश्न 5.
1857 के विद्रोह में नाना साहब का क्या योगदान रहा है?
उत्तर:

  1. पेशवा बाजीराव के दत्तक पुत्र नाना साहब ने कानपुर में विद्रोह का नेतृत्व किया और सिपाहियों की सहायता से अंग्रेजों को कानपुर से भगा दिया।
  2. विद्रोह में बहादुरशाह द्वितीय को भारत का बादशाह घोषित करने के बाद इस विद्रोह को मान्यता दी गई। इससे हिन्दू-मुस्लिम एकता को बढ़ावा मिला। वे स्वयं भी दिल्ली शासक के सूबेदार बने।

प्रश्न 6.
झाँसी की रानी क्यों प्रसिद्ध है?
उत्तर:

  1. झाँसी की रानी अपने साहस और अन्याय के विरुद्ध आवाज उठाने के लिए प्रसिद्ध है। स्त्री होने के बावजूद उन्होंने अंग्रेजों के विरुद्ध अद्वितीय साहस का परिचय दिया। उन्होंने झाँसी में 1857 के विद्रोह का नेतृत्व किया।
  2. झाँसी को अंग्रेजी साम्राज्य में मिलाये जाने के पश्चात् झाँसी की रानी ने अंग्रेजों के विरुद्ध हथियार उठा लिया और अनेक स्थानों पर अंग्रेजों को पराजित किया। इसके लिए वे अंतिम क्षण तक लड़ती रही।

प्रश्न 7.
1857 ई. की क्रांति के दो महत्त्वपूर्ण परिणाम बताइए।
उत्तर:

  1. इस विद्रोह के फलस्वरूप हिन्दू-मुसलमानों में एकता आ गयी। इस विद्रोह में दोनों ने मिलकर भाग लिया था।
  2. इस विद्रोह के परिणामस्वरूप अंग्रेज भारतीयों से सशंकित हो गये। उन्होंने कालांतर में प्रशासन, सेना और नागरिक सेवा में भारी फेर-बदल किया।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 8.
1857 के विद्रोह के चार प्रमुख केंद्रों और उनके नेताओं के नाम बताइये।
उत्तर:

  1. दिल्ली: बहादुरशाह द्वितीय।
  2. झाँसी: रानी लक्ष्मीबाई।
  3. जगदीशपुर (बिहार): कुंअर सिंह।
  4. लखनऊ: बेगम हजरत महल।
  5. कानपुर: नाना साहब और तात्या टोपे।

प्रश्न 9.
1857 के विद्रोह में बहादुरशाह द्वितीय की क्या भूमिका रही?
उत्तर:

  1. बहादुरशाह द्वितीय ने 1857 के विद्रोह का परोक्ष रूप से नेतृत्व किया और यह विद्रोह हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक बन गया।
  2. उन्होंने अन्य राजाओं को पत्र लिखे कि वे अंग्रेजों से युद्ध करने और उन्हें भारत से बाहर भगाने के लिए भारतीय राज्यों का एक महासंघ बनाएँ और एकजुट होकर युद्ध करें।

प्रश्न 10.
1857 के विद्रोह में कुंअर सिंह की क्या भूमिका रही?
उत्तर:

  1. बिहार के आरा जिले के जगदीशपुर में जन्मे जमींदार कुंअर सिंह ने 1857 के विद्रोह का बिहार में नेतृत्व किया और बुढ़ापे में भी युद्ध कौशल दिखाकर युवकों को प्रेरित किया।
  2. उन्होंने बिहार में तो अंग्रेजों के छक्के छुड़ाये ही, नाना साहब के साथ अवध और मध्य भारत में भी अंग्रेजों से लोहा लिया।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 11.
ज्योतिष की भविष्यवाणी ने 1857 के विद्रोह को किस प्रकार प्रभावित किया?
उत्तर:

  1. किसी ज्योतिष ने भविष्यवाणी की कि भारत उनकी गुलामी (जून 1757) के 100 वर्षों के पश्चात् 23 जून 1857 को अंग्रेजों से आजाद हो जायेगा।
  2. इस भविष्यवाणी से विद्रोही उत्साहित हो गये और उन्होंने विद्रोह का कार्य तेज कर दिया।

प्रश्न 12.
शाहमल कौन थे?
उत्तर:

  1. शाहमल उत्तर प्रदेश के बड़ौत परगना के ग्रामीण थे। वह एक जाट कुटुम्ब से संबंधित थे जो 84 गाँवों में फैला हुआ था।
  2. शाहमल ने 84 गाँव के मुखियाओं और काश्तकारों को संगठित किया और उनको अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह करने के लिए तैयार किया। इसके लिए उन्होंने गुप्तचरों का भी हैरतअंगेज नेटवर्क स्थापित कर लिया था।

प्रश्न 13.
तात्या टोपे कौन थे?
उत्तर:
तात्या टोपे नाना साहब के निष्ठावान सेवक और पक्के देशभक्त थे। उन्होंने गोरिल्ला सेना के बल पर अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिये। कालपी में उन्होंने अंग्रेज जनरल बिड़हन को पराजित किया। कैम्पबेल के नेतृत्व में अंग्रेजों से हारने के बाद भी ग्वालियर में तात्या टोपे में अंग्रेजों के विरुद्ध रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया। रानी झाँसी की मृत्यु के पश्चात वे अंग्रेजों द्वारा पकड़ लिये गये और उन्हें फांसी दे दी गई।

प्रश्न 14.
फिरंगी शब्द का प्रयोग क्यों किया गया?
उत्तर:

  1. यह फारसी का शब्द है जो संभवतः फ्रैंक (जिससे फ्रांस का नाम पड़ा है) निकला है।
  2. इस अपशब्द को उर्दू और हिन्दी में पश्चिम के लोगों (अंग्रेजों) का मजाक उड़ और कभी-कभी अपमान करने की दृष्टि बोला जाता है।

प्रश्न 15.
मई-जून 1857 में ब्रिटिश शासन की क्या स्थिति थी?
उत्तर:

  1. मई-जून 1857 में ब्रिटिश शासन विद्रोहियों के आगे झुकने के लिए विवश था।
  2. अंग्रेज अपनी जिंदगी और घर-बार बचाने में लगे हुए थे। एक ब्रिटिश अधिकारी ने लिखा-‘ब्रिटिश शासन ताश के किले की तरह बिखर गया है।’

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 16.
1857 के विद्रोह में साहूकार तथा धनवान लोग विद्रोहियों के क्रोध का शिकार क्यों बने?
उत्तर:

  1. 1857 के विद्रोह में प्रायः साहूकार और धनवान लोग अंग्रेजों के पिठू बन गये थे।
  2. ये लोग निर्धनों गरीब और किसानों का शोषण करते थे।

प्रश्न 17.
1857 के विद्रोह का तात्कालिक कारण क्या था?
उत्तर:
1857 के विद्रोह का तात्कालिक कारण चर्बी वाले कारतूस थे। इन्हें प्रयोग करने से पहले चर्बी को दाँत से छीलना पड़ता था। कहा गया कि कारतूस में गाय और सूअर की चबीं का प्रयोग किया गया है। यह कार्य हिंदू और मुसलमान दोनों के लिए आपत्तिजनक था। सैनिकों ने इन कारतूसों का प्रयोग करने से इंकार कर दिया और विद्रोह पर उतारू हो गये।

प्रश्न 18.
विद्रोह से संबंधित चित्रों में मिस ह्वीलर को किस रूप में पेश किया गया है?
उत्तर:

  1. विद्रोह से संबंधित चित्रों में मिस ह्वीलर मध्य में दृढ़तापूर्वक खड़ी दिखायी गयी है। वह अकेले ही विद्रोहियों को मौत की नींद सुलाते हुए अपनी इज्जत की रक्षा करती दिखाई गई है।
  2. ऐसे चित्रों को प्रदर्शित कर अंग्रेजों की हौसला अफजाई की जाती थी।

प्रश्न 19.
सहायक संधि की दो शर्ते बताइये।
उत्तर:

  1. अंग्रेज अपने सहयोगी की बाहरी और आंतरिक चुनौतियों से रक्षा करेंगे।
  2. सहयोगी पक्ष के भूक्षेत्र में एक ब्रिटिश सैनिक दुकड़ी तैनात रहेगी। सहयोगी पक्ष (सहायक संधि मानने वाला राज्य) को इस टुकड़ी के रख-रखाव की व्यवस्था करनी होगी।

प्रश्न 20.
अवध के अधिग्रहण से ताल्लुकदारों पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:

  1. इसके कारण ताल्लुकदार तबाह हो गये। उनकी जागीरें और किले छीन लिये गये। कई पीढ़ियों से उनकी जमीन और सत्ता पर अपना कब्जा था।
  2. ताल्लुकदारों की सेना भी समाप्त कर दी गई। पहले इनके पास हथियारबंद सिपाही होते थे। उनके दुर्गों को ध्वस्त कर दिया गया।

प्रश्न 21.
“बंगाल आर्मी की पौधशाला” किसे कहा गया है और क्यों?
उत्तर:

  1. अवध को “बंगाल आर्मी की पौधशाला” कहा गया है।
  2. बंगाल आर्मी के अधिकांश सिपाही अवध और पूर्वी उत्तर प्रदेश के गाँवों से भर्ती होकर आए थे। उनमें अधिकांश ब्राह्मण या ‘ऊँची जाति’ के थे।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 22.
भारत में ब्रिटिश शासन का कारीगरों पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:

  1. इंग्लैण्ड निर्मित वस्तुओं के आयात से बुनकर, सूती वस्त्र निर्माता, बढ़ई, लोहार, मोची आदि बेरोजगार हो गये।
  2. इनकी स्थिति इतनी खराब हुई कि वे भिखारी की हालत में पहुँच गये।

प्रश्न 23.
1857 की क्रांति के दो सामाजिक कारण बताइए।
उत्तर:

  1. रूढ़िवादी भारतीयों को अंग्रेजों द्वारा सती प्रथा को समाप्त करने (1829) तथा विधवा विवाह को वैधता प्रदान करने की नीति पर आपत्ति थी।
  2. भारतीयों को लगता था कि अंग्रेज पश्चिमी विज्ञान तथा पश्चिमी (अंग्रेजी) शिक्षा के माध्यम से भारत का पश्चिमीकरण कर रहे हैं।

प्रश्न 24.
मौलवी अहमदुल्ला शाह क्यों प्रसिद्ध हैं?
उत्तर:

  1. इस्लाम के प्रचारक मौलवी अहमदुल्ला ने गाँव-गाँव अंग्रेजों के विरुद्ध जिहाद का प्रचार किया।
  2. चिनहट के प्रसिद्ध संघर्ष में उसने हेनरी लॉरेंस के नेतृत्व में लड़ने वाली सेना के दाँत खट्टे कर दिये । वह अपनी वीरता और सामाजिक सेवा के कारण लोकप्रिय रहे।

प्रश्न 25.
शाहमल का 1857 के विद्रोह में क्या योगदान था?
उत्तर:

  1. शाहमल ने उत्तर प्रदेश के एक गाँव चौरासीदस के काश्तकारों तथा मुखियाओं को संगठित किया।
  2. उसने एक अंग्रेज अधिकारी के बंगले पर अधिकार कर उसे न्याय भवन की संज्ञा दी तथा अंग्रेजों के विरुद्ध किसानों को जुलाई 1857 तक विप्लव करने की प्रेरणा दी तथा विद्रोह का नेतृत्व किया।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 26.
1857 के विद्रोह में अवध के ताल्लुकदार क्यों शामिल हुए?
उत्तर:

  1. लार्ड डलहौजी ने 1856 ई. में अवध राज्य का अधिग्रहण कर लिया था। इसे आजाद कराने के लिए ताल्लुकदारों ने विद्रोह में भाग लिया।
  2. ताल्लुकदार अंग्रेजों की कूटनीति से भयभीत थे। विद्रोह में भाग लेकर वे अपने भय को समाप्त करना चाहते थे।

प्रश्न 27.
हेनरी हार्डिंग का 1857 के गदर से क्या संबंध था?
उत्तर:

  1. हेनरी हार्डिंग ने सैनिक शस्त्रों के आधुनिकीकरण का प्रयास किया। उसने ही चर्बी वाले कारतूस जारी किये।
  2. उसने जिस रायल एनफील्ड राइफलों का इस्तेमाल शुरू किया, उनमें चर्बी कारतूसों का प्रयोग किया। इसके खिलाफ भारतीय सैनिकों ने विद्रोह किया।

प्रश्न 28.
मंगल पाण्डेय कौन था?
उत्तर:

  1. आधुनिक भारतीय इतिहास में मंगल पाण्डेय को 1857 के विद्रोह का प्रथम जनक, महान देशभक्त तथा क्रांतिकारी माना जाता है। वह बैरक पुर (बंगाल) की 34वीं बटालियन का एक सामान्य सिपाही था।
  2. उसने अपनी छावनी में चर्बी वाले कारतूस की बात पहुँचाई तथा अंग्रेज अधिकारियों के धर्म विरोधी आदेश की अवहेलना की।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
क्या 1857 का विद्रोह एक सैनिक विद्रोह था?
उत्तर:
अनेक अंग्रेज इतिहासकारों का विचार है कि 1857 ई. की यह क्रांति केवल सैनिक विद्रोह ही थी। इनके अनुसार यह नए कारतूसों के जारी करने से ही आरम्भ हुआ। कुछ अन्धविश्वासी ब्राह्मण तथा मुसलमान सैनिकों ने अपने साथियों में यह समाचार फैला दिया कि कारतूसों में गाय और सूअर की चर्बी है और इससे भड़कर सैनिकों ने विद्रोह कर दिया। सर जॉन लॉरेंस (Sir John Lawrence), सर जेम्स औटरम (Sir James Outram), प्रसिद्ध इतिहासकार पी. ई. राबर्ट्स (P.E. Roberts) आदि उपर्युक्त विचार से सहमत है। इन यूरोपीय लेखकों का मत है कि इस विद्रोह के पीछे प्रजा का कोई हाथ नहीं था और कुछ भारतीय शासक इस क्रांति में इसलिए मिल गए क्योंकि अपनी पेंशनें और गद्दियाँ छिन जाने के कारण वे अंग्रेजों से बदला लेना चाहते थे।

जन साधारण का सहयोग इन विद्रोही सैनिकों तथा शासकों को प्राप्त नहीं था। अपने मत के पक्ष में वे कई तर्क देते हैं –

  1. सर्वप्रथम उनका कहना है कि यह विद्रोह उत्तर के थोड़े से भाग में ही फैला और सारे देश की जनता ने इनमें भाग नहीं लिया। पंजाब और अनेक देशी रियासतें इससे बिल्कुल अलग रही और अंग्रेजों की वफादार बनी रहीं।
  2. दूसरे, बहादुरशाह, नाना साहब और झाँसी की रानी आदि शासकों के अतिरिक्त बाकी किसी भारतीय शासक ने इसमें भाग नहीं लिया।
  3. तीसरे, देश के किसान लोग तथा अन्य नागरिक बिल्कुल शांत रहे और उन्होंने अधिक संख्या में विद्रोहियों का साथ न दिया।
  4. चौथे, यह विद्रोह शहरों तक ही सीमित रहा। गाँवों को इससे कोई सरोकार नहीं था।
  5. पाँचवें, यह विद्रोह थोड़ी-सी. अंग्रेजी सेना ने ही दबा दिया था। इससे यह संकेत मिलता है कि सभी भारतीय इस विद्रोह के पीछे न थे और न ही कोई स्वतंत्रता तथा राष्ट्रीयता की भावनाओं से प्रेरित होकर ही यह विद्रोह उठ खड़ा हुआ था।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 2.
1857 का विद्रोह स्वतः था अथवा ध्यानपूर्वक बनाई गई योजना का परिणाम? अपने उत्तर के समर्थन में तर्क दें। अथवा, 1857 का विद्रोह ‘प्रथम स्वतंत्रता संग्राम’ के नाम से जाना जाता है। क्या यह एक योजनाबद्ध विद्रोह था?
उत्तर:
अधिकांश भारतीय इतिहासकार 1857 के विद्रोह को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के नाम से पुकारते हैं। इसके पीछे उनका तर्क यह है कि युद्ध अंग्रेजों की शोषण और आधिपत्य करने की नीतियों के विरुद्ध था। इस विचारधारा में वीर सावरकर और अशोक मेहता का नाम आता है। उनके अनुसार इस युद्ध में जितने लोगों ने भाग लिया वे सभी देशभक्त तथा राष्ट्रप्रेम से ओत-प्रात थे। अनेक स्थानों पर भारतीयों ने अंग्रेजों की सहायता की।

उनको गद्दार कह कर उनका बहिष्कार किया गया। इस विद्रोह में भाग लेने वालों में न कोई हिन्दू धर्म का था और न कोई मुस्लिम धर्म का। सब भारतीय थे और सभी ने समान रूप से अपने विदेशी शत्रु से लड़ाई लड़ी। मुगल सम्राट बहादुरशाह जफर ने राजपूतों को कहा कि अंग्रेजों को भगाकर कोई भी राजदूत राजा इस गद्दी का मालिक बन सकता है। छोटे-छोटे लोगों यथा-मल्लाहों ने भी नदी पार करने के लिए नाव न देकर अंग्रेजों का विरोध किया। सावरकर ने अपनी पुस्तक में यह सिद्ध करना चाहा है कि यह युद्ध स्वतत्रता संग्राम था। डॉ. ईश्वरी प्रसाद व जवाहर लाल नेहरू ने इस युद्ध को देशभक्तों का देशद्रोहियों (विदेशी शत्रु) के खिलाफ लड़ा जाने वाला युद्ध कहा है।

यह युद्ध कोई आकस्मिक नहीं था। इसमें समाज के साधारण लोगों से लेकर सेना के देशभक्त सैनिकों का पूरा सहयोग और योगदान था। इस युद्ध को असमय का युद्ध तो कह सकते हैं, परंतु यह देश की स्वतंत्रता का पहला संग्राम था। यह अवश्य कह सकते हैं कि इस संग्राम को शुरू करने वाले असंगठित थे। नेतृत्व अलग-अलग था। लड़ने के स्थान और समय को भी पूर्व निश्चित नहीं किया गया था। यदि ऐसा होता तो इस संग्राम का परिणाम कुछ और ही होता।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 3.
1857 ई. में भारतीय सिपाहियों के असंतोष के कारणों का वर्णन कीजिए। अथवा, 1857 ई. के महान विद्रोह के सैनिक कारण बताइए। अथवा, वे कौन से कारण थे जिनकी वजह से ब्रिटिश शासन के खिलाफ सैनिक विद्रोह भड़क उठा और वे उस विद्रोह के प्रमुख आधार बने।
उत्तर:
1857 ई. के महान विद्रोह के प्रमुख सैनिक कारण –

  • कंपनी के भारतीय सैनिकों को अंग्रेज सैनिक व अधिकारी हेय दृष्टि से देखते थे। उनके साथ समानता का व्यवहार नहीं किया जाता था। उनके लिए उन्नति के सभी मार्ग बंद थे।
  • कंपनी के सैनिकों को लड़ाई में जाने पर विदेशी भत्ते के रूप में अतिरिक्त भत्ता दिया जाता था। लड़ाई खत्म होने पर अनेक जीते हुए प्रदेशों को कंपनी के अधिकार क्षेत्र में मिला लिया जाता था और भारतीय सैनिकों को दिया जाने वाला अतिरिक्त भत्ता बंद कर दिया जाता था। इस प्रकार वेतन में अचानक कमी के कारण सैनिकों में असंतोष फैला।
  • लार्ड कैनिंग के काल में जो सर्वभारतीय नियम पास हुआ उससे भी सैनिकों के मन में रोष की भावना उत्पन्न हो गई क्योंकि बहुत से सैनिक समुद्र पार जाना अपने धर्म के विरुद्ध समझते थे।

प्रश्न 4.
1857 ई. के विद्रोह के सामान्य कारणों की विवेचना कीजिए।
उत्तर:
1857 ई. के विद्रोह के सामान्य कारण निम्नलिखित थे –

  • लार्ड डलहौजी की राज्य-अपहरण नीति के कारण अनेक भारतीय शासक अंग्रेजों के विरुद्ध हो गये।
  • अंग्रेजों ने भारत को इंग्लैण्ड के कारखानों के लिए कच्चा माल खरीदने और तैयार माल बेचने की मण्डी समझा था। उन्होंने भारतीय व्यापार तथा उद्योगों को नष्ट करने के पूरे प्रयत्न किए जिससे देश में गरीबी फैल गई। यही कारण था कि लोग ब्रिटिश शासक से घृणा करने लगे थे।
  • भारतीय सैनिकों में भी अंग्रेजों के प्रति असंतोष था। उन्हें अंग्रेज सैनिकों की अपेक्षा बहुत कम वेतन दिया जाता था। उनके साथ बुरा व्यवहार भी किया जाता था। वे इस अन्याय को अधिक देर तक सहन नहीं कर सकते थे।
  • 1856 ई. में सरकार ने सैनिकों से पुरानी बन्दूकें वापस लेकर उन्हें नई ‘एन्फील्ड राइफलें’ दी। इन राइफलों में गाय और सूअर की चर्बी वाले कारतूसों का प्रयोग होता था। भारतीय सैनिकों ने इनका प्रयोग करने से इंकार कर दिया। धीरे-धीरे यह घटना इतना गंभीर रूप धारण कर गई कि इसने 1857 ई. की क्रांति का रूप ले लिया।

प्रश्न 5.
19 वीं शताब्दी के पूर्वाध में भारत में अंग्रेजी राज के प्रति तत्कालीन सुशिक्षित भारतीयों का व्यवहार कैसा था? उनकी 1857 के विद्रोह के प्रति क्या धारणा बनी?
उत्तर:
उन्नीसवीं शताब्दी के पूर्वार्ध में अंग्रेजी राज के प्रति तत्कालीन सुशिक्षित भारतीयों का व्यवहार उदार, मित्रवत् तथा सहानुभूतिपूर्ण था। उन्हें ब्रिटिश सरकार की नैतिकता तथा सच्चाई में विश्वास था। वे मानते थे कि अंग्रेजों ने भारत में कानून का राज्य, कानून की समानता तथा राजनैतिक एकीकरण की स्थापना की है। अंग्रेजों ने भारतीयों का आधुनिक विचारों तथा शिक्षा पद्धति से परिचय कराया। वे भारत की प्रगति के लिए इसको अपने विशाल साम्राज्य का अंग बनाये रखना चाहते थे। 1857 के विद्रोह के प्रति तत्कालीन सुशिक्षित भारतीयों की अच्छी धारणा नहीं बनी। उन्होंने क्रांतिकारियों के साथ मिलना भी पसंद नहीं किया। उन्होंने विद्रोहियों को किसी तरह का सहयोग भी नहीं दिया। यही कारण था कि विद्रोह विफल रहा। उनकी ऐसी धारणा विद्रोह के बाद धीरे-धीरे बदलने लगी और वे ब्रिटिश शासन को भारतीयों के लिए असहनीय तथा अन्यायपूर्ण मानने लगे।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 6.
1857 के विद्रोह की घटना के लिए लार्ड डलहौजी कहाँ तक उत्तरदायी था?
उत्तर:
1857 के विद्रोह को भड़काने में डलहौजी की राज्य:
हड़पने की नीति विशेष उत्तरदायी रही। वह साम्राज्यवादी गवर्नर जनरल था। येन-केन-प्रकारेण ब्रिटिश साम्राज्य का विस्तार करना ही उसका मुख्य उद्देश्य था। साम्राज्य विस्तार के लिए उसने भारतीय रियासतों के नि:संतान नरेशों को दत्तक पुत्र होने के अधिकार से बंचित कर दिया और उनके राज्य को ब्रिटिश साम्राज्य में शामिल कर दिया। सतारा, नागपुर, झाँसी, जौनपुर, सम्भलपुर आदि राज्य समाप्त कर दिए गये। अनेक शासकों पर कुशासन और अयोग्यता का आरोप लगाकर उनके राज्य हड़प लिए गए।

डलहौजी की इस नीति के कारण भारतीय शासकों में विद्रोह की भावना फैल गई और वे अंग्रेजों से लोहा लेने के कटिबद्ध हो गए। पेशवा बाजीराव द्वितीय ने नाना साहब को दत्तक पुत्र के रूप में अपनाया था। पेशवा ने अपने जीवन का अंतिम भाग कानपुर ने निकट बिठूर में बिताया था। लार्ड डलहौजी ने राज्यापहरण नीति के अंतर्गत नाना साहब को पिता की उपाधि तथा वार्षिक पेंशन से वंचित कर दिया। इससे हिन्दुओं की भावनाओं को बहुत अधिक ठेस पहुंची।

इसी प्रकार अंग्रेजों ने झाँसी की रानी के साथ भी अनुचित व्यवहार किया। उनके पति द्वारा गोद लिये गए पुत्र को उत्तराधिकारी मानने से इंकार कर किया गया और झाँसी को ब्रिटिश साम्राज्य में शामिल कर लिया गया। इससे भारतीयों ने अंग्रेजों को देश से बाहर खदेड़ने का संकल्प ले लिया तथा इनकी परिणति 1857 के विद्रोह में देखी गई।

प्रश्न 7.
स्पष्ट कीजिए कि पाश्चात्य शिक्षा प्राप्त भारतीयों में किन कारणों से 1857 के विद्रोह के प्रति सहानुभूति नहीं थी? अथवा, पश्चिमी शिक्षा प्राप्त भारतीयों ने इस विद्रोह से अपने को अलग क्यों रखा? अपने विचार व्यक्त कीजिए।
उत्तर:
विद्रोह में शिक्षित भारतीयों की भूमिका:
आधुनिक शिक्षा प्राप्त भारतीयों ने विद्रोह का समर्थन नहीं किया। उनकी यह गलत धारणा बनी थी कि ब्रिटिश शासन उनके आधुनिकीकरण में सहायक बनेगा। वे सोचते थे कि, अंग्रेजों का विद्रोह करने वाले देश की प्रगति में बाधक बन रहे हैं। कालान्तर में इन्हीं शिक्षित भारतीयों ने अपने अनुभव से सीखा कि विदेशी शासन देश को आधुनिक बनाने में सक्षम नहीं है। वह उसे दरिद्र बनाएगा तथा पिछड़ा हुए बनाए रखेगा। 1858 ई. के विद्रोह के पश्चात की घटनाएँ संकेत देती हैं कि शिक्षित भारतीय अति अज्ञानी और स्वार्थी थे। उन्हें अंग्रेजी शासन की वास्तविकता का ज्ञान केवल उस समय हुआ जब उनकी गर्दन भी मरोड़ी जाने लगी। इस सत्य का परिचय मिलते ही उन्होंने कालान्तर (20वीं शताब्दी की शुरूआत) में ब्रिटिश शासन के विरुद्ध एक शक्तिशाली आधुनिक राष्ट्रीय आंदोलन का नेतृत्व किया।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 8.
1857 के विद्रोह में रानी लक्ष्मीबाई की क्या भूमिका रही?
उत्तर:
रानी लक्ष्मीबाई:
1857 ई. के विद्रोह में मध्य भारत की सेना का नेतृत्व झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई ने किया। उसने सेना का संगठन करके अंग्रेजों का डटकर मुकाबला किया। उसका दमन करने के लिए मार्च 1858 ई. में ह्यू रोज झाँसी की ओर चला। रानी के नेतृत्व में उसकी सेना ने अंग्रेजों के दाँत खट्टे कर दिए। रानी के निमंत्रण पर तांत्या टोपे अपनी सेना लेकर उसकी मदद के लिए चल पड़ा परंतु मार्ग में ही सन ह्यू रोज ने उसे हरा दिया। अंग्रेजों ने निरंतर हमले किए परंतु वे झाँसी पर अधिकार करने में असफल रहे। अंग्रेजों ने कूटनीतिक चाल चली तथा कुछ सैनिकों को अपनी ओर मिला लिया । इन सैनिकों ने दक्षिण का द्वार खोल दिया।

अंग्रेजी सेना उस द्वार से झाँसी में घुस गई। शीघ्र ही दूसरा द्वार भी टूट गया तथा वहाँ से भी अंग्रेजी सेना अंदर आ गई। रानी ने अपने बच्चे को कमर से बाँधा तथा वह अंग्रेजी सेना को चीरती हुई झाँसी से बाहर निकल गई तथा तात्या टोपे के पास कालपी पहुँची। जब कालपी को अंग्रेजी ने जीत लिया तो लक्ष्मीबाई ने ग्वालियर की ओर कूच किया। अंग्रेजों तथा उनके बीच भीषण युद्ध छिड़ गया। उसकी बहादुरी देखकर अंग्रेज सेनापति भी दंग रह गया। रणभूमि में वीरता के साथ लड़ते हुए उसने अपने प्राण त्याग दिए।

प्रश्न 9.
1857 ई. के विद्रोह की असफलता में निहित कारणों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
1. समय से पहले घटित होना:
विद्रोह की निर्धारित तिथि 31 मई 1857 थी लेकिन चर्बी वाले कारतूसों का प्रयोग करने से इंकार करने पर दंडित किए जाने से सैनिकों ने इस विद्रोह को समय-पूर्व अंजाम दे दिया था।

2. एक नेता का अभाव:
पूरे विद्रोह का संचालन करने वाला एक नेता न था। सभी अपने-अपने क्षेत्र में नेतृत्व कर रहे थे। ऐसी स्थिति में आपसी ताल-मेल न बन पाया।

3. असंतुष्ट राजाओं का नेतृत्व:
जमींदार और देशी राजा अंग्रेजों से प्रसन्न न थे अतः मौका मिलते ही वे विद्रोह में शामिल हो गए। जनसाधारण उनके साथ न था क्योंकि अंग्रेजों की तरह जनसाधारण शोषण के प्रतीक दिखाई पड़ता था।

4. युद्ध सामग्री और रसद का अभाव:
अंग्रेजी सेना के पास बंदूकें और तोपें थीं परंतु भारतीय लोग लाठी, भाले, फरसे, कुल्हाड़ी आदि से लड़े। उनके पास खाने-पीने का सामान और अन्य कोई ऐसे साधन भी नहीं थे जिनसे वे हथियारों और अन्न की आपूर्ति सुनिश्चित कर पाते।

प्रश्न 10.
1857 के जन विद्रोह का प्रमुख केन्द्र दिल्ली क्यों बना?
उत्तर:
दिल्ली मुगल साम्राज्य की राजधानी थी। यद्यपि मुगल साम्राज्य का पतन हो रहा था परंतु जनता के मन में विद्रोह के समय भी मुगल-साम्राज्य के प्रति सम्मान का भाव था। जब अंग्रेजों ने मुगल सम्राट का अपमान किया तो भारत की सम्पूर्ण जनता के कान खड़े हो गये। दिल्ली के इसी महत्त्व को ध्यान में रखकर विद्रोह की सारी योजना बहादुरशाह जफर (द्वितीय) के नेतृत्व में बनाई गई और यहीं से चपाती और कमल के फूल के माध्यम से विद्रोह का प्रचार समूचे देश में किया गया। विद्रोह का आरम्भ भी दिल्ली से 60 किमी. की दूरी पर मेरठ में हुआ।

दिल्ली में ही अधिकांश क्रांतिकारी एकत्र हुए थे और दिल्ली में ही अनेक अंग्रेज अधिकारियों को मार डाला गया। दिल्ली के महत्त्व को ध्यान में रखकर ही विद्रोहियों ने विजय के पश्चात् बूढ़े मुगल सम्राट बहादुरशाह जफर को दिल्ली का बादशाह घोषित कर दिया। भौगोलिक दृष्टि से भी दिल्ली भारत का केन्द्र थी।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 11.
सहायक संधि क्या थी?
उत्तर:
सहायक संधि:
सहायक संधि की प्रथा लॉर्ड वैलेजली ने चलाई थी। यह संधि कंपनी और देशी राज्यों के बीच होती थी। इस संधि को मानने वाले देशी राज्यों को कंपनी आन्तरिक तथा बाहरी संकट के समय सहायता का वचन देती थी। देशी राज्यों को इसके बदले में निम्नलिखित शर्तों का पालन करना पड़ता था –

  1. देशी राजा को अपने राज्य में स्थायी रूप से अंग्रेजी सेना रखनी पड़ती थी। उसका सारा खर्च उसे ही सहन करना पड़ता था।
  2. उसे अपने राज्य में एक अंग्रेज रेजीडैण्ट रखना पड़ता था।
  3. वह अपने राज्य में अंग्रेजों के सिवाय किसी भी यूरोपियन को नौकरी नहीं दे सकता था।
  4. वह कंपनी की आज्ञा के बिना किसी भी अन्य राज्य से युद्ध अथवा संधि नहीं कर सकता था।
  5. उसे आपसी झगड़ों को निपटाने के लिए अंग्रेजों को पंच मानना पड़ता था।

प्रश्न 12.
दक्षिण भारत में विद्रोह के कौन-कौन से प्रमुख नेता थे।
उत्तर:
दक्षिण भारत में विद्रोह के प्रमुख नेता –

  1. सतारा के रंगो बापूजी गुप्ते
  2. हैदराबाद के सोना जी पड़ित, रंगो पागे, मौलवी सैयद
  3. कर्नाटक के भीमराव मुण्डर्गी, छोटा सिंह
  4. कोल्हापुर के अण्णाजी फड़नवीस, तात्या मोहिते
  5. मद्रास के गुलाम गौस और सुल्तान बख्श, चिगलपेट के अन्तागिरी
  6. कोयम्बटूर के मुलबागल स्वामी
  7. केरल के विजय कुदारत कुंजी माया और मुल्लासली मोनजी सरकार

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 13.
अंग्रेजी नीति से अवध के ताल्लुकदार किस प्रकार प्रभावित हुए?
उत्तर:

  1. अंग्रेजों ने ताल्लुकदारों के ऊपर अनेक प्रतिबंध लगा दिये और उनकी स्वतंत्रता छीन ली गई।
  2. ताल्लुकदार की जमीन छीन ली गई जिससे उनकी शक्ति तथा सम्मान को भारी ठेस लगी।
  3. भूराजस्व की माँग लगभग दुगुनी कर दी गई जिससे ताल्लुकदारों में रोष फैल गया।
  4. 1856 की एकमुश्त बंदोबस्त के अधीन उन्हें उनकी जमीनों से बेदखल किया जाने लगा। कुछ ताल्लुकदारों के तो आधे से भी अधिक गाँव हाथ से जाते रहे।
  5. ताल्लुकदारों के दुर्ग ध्वस्त कर दिये गए और उनकी सेनाओं को भंग कर दिया गया।

प्रश्न 14.
सहायक संधि ने अंग्रेजी राज्य के प्रसार में किस प्रकार सहायता की?
उत्तर:
अंग्रेजी राज्य के प्रसार में सहायक संधि का योगदान –
1. सहायक संधि को सबसे पहले निजाम हैदराबाद ने स्वीकार किया क्योंकि वह मराठों से डरा हुआ था। निजाम ने बैलोरी तथा कड़ापाह के प्रदेश अंग्रेजों को दे दिए। उसने अंग्रेजी सेना के व्यय के लिए 24 लाख रुपये वार्षिक देना भी स्वीकार किया।

2. वैलेंजली ने सूरत तथा तंजोर के राजाओं को पेंशन देकर इन दोनों राज्यों को अंग्रेजी राज्य में मिला लिया।

3. 1891 ई. में कर्नाटक के नवाब की मृत्यु हो गई। अंग्रेजों ने उसके पुत्र अली हुसैन की पेंशन नियत कर दी और उसके राज्य को अपने राज्य में मिला लिया।

4. कुछ समय पश्चात् वैलेजली ने टीपू सुल्तान को परास्त करके मैसूर की राजगद्दी पर एक हिन्दू शासक को बिठा दिया। उसे भी अंग्रेजों की सहायक-संधि स्वीकार करनी पड़ी।

5. पेशवा बाजीराव द्वितीय ने भी मराठों के आपसी संघर्ष के कारण सहायक संधि स्वीकार कर ली। उसके ऐसा करते ही मराठा सरदारों तथा अंग्रेजों में युद्ध छिड़ गया। वैलेजली ने उन्हें पराजित कर दिया और उन पर सहायक-संधि लाद दी।

सच तो यह है कि वैलेजली की सहायक संधि से भारत में अंग्रेजी राज्य की सीमाएँ काफी विस्तृत हो गईं। इसके अतिरिक्त भारत में अंग्रेजों की स्थिति काफी दृढ़ हो गई। भारत में अंग्रेजी सत्ता की काया ही पलट गई। इस विषय में किसी ने ठीक ही कहा है वैलेजली के नेतृत्व के सात वर्षों में इतने क्रांतिकारी परिवर्तन हुए कि इस काल को ब्रिटिश सत्ता के विकास का एक युग स्वीकार किया गया।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
1857 ई. की महान क्रांति या भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम के मुख्य कारण क्या थे? अथवा, भारत में 1857 के विद्रोह के कारण लिखिए। अथवा, उन कारणों का उल्लेख कीजिए जिनके फलस्वरूप सिपाहियों ने अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह किया। देश के अनेक भागों में इस विद्रोह ने लोकप्रिय रूप क्यों लिया? अथवा, भारत में 1857 के विद्रोह के मूल कारणों की समीक्षा कीजिए।
उत्तर:
1. राजनीतिक कारण:

  • लार्ड वैलेजली और डलहौजी को विस्तारवादी नीतियों से भारतीय जनता का माथा ठनका कि अंग्रेज भारत को हड़पना चाहते हैं। झाँसी, कानपुर, जैतपुर, नागपुर तथा अवध जैसे राज्य अंग्रेजों की साम्राज्यवादी नीति के शिकार बने।
  • मुगल साम्राज्य को हड़पने और सम्राट को राजमहल से बाहर निकालने पर मुसलमान भड़क उठे।
  • झाँसी के प्रदेश को अपने साम्राज्य में मिलाने और हिन्दू नरेशों की पेंशन बंद करके उनकी उपाधियाँ छीनने से हिन्दू वर्ग अंग्रेजों से रुष्ट हो गया।
  • कई राज्यों का विलीनीकरण करके वहाँ की सेना भंग कर दी गई। केवल अवध में ही 1000 सैनिकों को पदमुक्त कर दिया गया। इस तरह बड़े पैमाने पर सैनिकों में रोष बढ़ गया। वे विद्रोह को भड़काने में सहायता देने लगे।

2. आर्थिक कारण:

  • एक ओर अंग्रेजों का व्यापार भारत में फैलता जा रहा था किन्तु दूसरी ओर भारतीय व्यापार और उद्योग धन्धे समाप्त होते जा रहे थे।
  • बंगाल और दक्षिण के जागीरदारों की जागीरें छीन ली गईं। इनामी भूमि पर भी कर लगा दिया गया।
  • शिक्षित भारतीयों को उच्च पद नहीं दिए जाते थे। इससे उनके आत्म सम्मान को भारी आघात लगता था।
  • भारत का धन और कच्चा माल इंग्लैण्ड के उद्योगों में खपता जा रहा था। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था टूटती जा रही थी। लोगों के उद्योग धन्धे समाप्त हो गए थे। उनकी कृषि पर निर्भरता बढ़ती जा रही थी।

3. सामाजिक और धार्मिक कारण:
(I) सामाजिक सुधार (Social Reforms):
बाल विवाह, सती प्रथा और पर्दा प्रथा पर रोक लगा दी गई। विधवाओं पर फिर से विवाह करवाने के लिए कानून बनाया गया। इससे कट्टर हिन्दुओं को लगा कि अंग्रेज भारतीय समाज की मूलभूत मान्यताओं को उखाड़ कर उनके धर्म पर आघात कर रहे हैं। वे अंग्रेजों के कट्टर शत्रु बन बैठे।

(II) पाश्चात्य शिक्षा का प्रसार (Spreading of Western Education):
पाश्चात्य शिक्षा के प्रसार के कारण मुल्ला-मौलवियों तथा पंडितों की पाठशालाओं और मदरसों को गहरा आघात लगा। वे भी अंग्रेजों के शत्रु बन बैठे।

(III) ईसाई धर्म का प्रचार (Preaching of Christianity):
निम्न वर्ग के लोगों को तरह-तरह के प्रलोभन देकर वे धर्म परिवर्तन के लिए तैयार किया जाने लगा। इन प्रलोभनों में धन, नौकरियाँ, सामाजिक स्तर पर समानता का व्यवहार करने की गारंटी दी जाती थी। बैंटिक ने कानून में इस आशय का संशोधन कर दिया कि यदि कोई धर्म परिवर्तन करता है, तो उसे अपनी पैतृक सम्पत्ति में अपने अन्य सहोदरों के बराबर हिस्सा मिलेगा। इससे हिंदू समाज में खलबली मच गई। हिंदुओं को प्रतीत होने लगा कि भारत में ईसाई धर्म के प्रचार के लिए अंग्रेजों ने पूरी तरह से कमर कस ली है। ऐसी स्थिति में उनका अंग्रेजों को अपना शत्रु समझना स्वाभाविक था। भारत में पहले ही जातिवाद और छुआछूत के कारण भीषण सामाजिक भिन्नता थी। उस पर ईसाई धर्म विष-बेल की तरह उन पर छाने लगा था।

4. सैनिक कारण:
(I) भारतीय सैनिक समझते थे कि कई युद्धों में अंग्रेजों की जीत का मुख्य कारण वही लोग थे। उन्होंने अपनी जान हथेली पर रखकर युद्ध लड़ें, परंतु बदले में उन्हें न पदोन्नति और न वेतन ही बढ़ाया गया। इसके विपरीत अंग्रेज सैनिकों के लिए दोनों ही द्वार खुले थे। इससे भारतीय सैनिक भड़क उठे।

(II) बंगाली सैनिकों में से अधिकांश ब्राह्मण और ठाकुर होने के कारण छुआछूत के प्रति संवेदनशील थे। अवध के ब्रिटिश साम्राज्य में विलीनीकरण के बाद अवध की सेना भंग कर दी गई। हजारों सैनिक बेकार हो गए। जनरल सर्विसेज इंग्लिशमेंट एक्ट (General Services Engishment Act) पास किया गया जिसके अनुसार भारतीय सैनिकों को विदेशों में भेजा जा सकता है। ब्राह्मण लोग समझते थे कि समुद्र पार करने का अर्थ धर्म गंवाना है। वे अंग्रेजों को हिन्दू धर्म का विरोधी समझने लगे।

(III) अफगान युद्ध और क्रीमिया युद्ध में अंग्रेजों की हार से भारतीयों के हौसले बुलंद हो गए थे। उन्हें समझ में आ गया कि अंग्रेजों को हराया जा सकता था।

5. तात्कालिक कारण:
सैनिकों को जो कारतूस दिए जाते थे उन्हें प्रयोग में लाने से पहले दाँतों से छीलता पड़ता था। उन कारतूसों पर एक प्रकार की चिकनाई लगी होती थी। सैनिकों को जब पता चला कि यह सुअर और गाय की चर्बी है तो हिन्दू और मुसलमान दोनों ही सम्प्रदायों के लोग भड़क उठे। उन्होंने इसको अंग्रजों की धर्मभ्रष्ट करने की एक गहरी चाल समझा। उसी कारण का उन्होंने इन कारतूसों का प्रयोग करने से इंकार कर दिया।

जिन सिपाहियों ने चिकनाई युक्त कारतूसों को प्रयोग करने से मना किया, उन्हें मृत्यु दंड की सजा दे दी गई। इससे सैनिकों ने विद्रोह करने की ठान ली। पहले उनके धर्म फिर सम्मान पर तथा अब उनकी जान पर आघात होने लगा था। मई, 1857 ई. में मेरठ और दिल्ली में विद्रोह को आग भड़क उठी। समय की आवाज को पहचान कर कई भारतीय राजा भी विद्रोह में शामिल हो गए। इनमें मुगल बादशाह बहादुरशाह द्वितीय, नाना साहब, लक्ष्मीबाई तथा अवध की बेगम जीनत महल आदि प्रमुख थे।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 2.
1857 के विद्रोह की प्रकृति का विश्लेषण कीजिए। अथवा, क्या 1857 का विद्रोह एक सैनिक विद्रोह था? अथवा, 1857 के विद्रोह को स्वतंत्रता संग्राम कहना कहाँ तक उचित है? अथवा, क्या 1857 के विद्रोह का स्वरूप लोकप्रिय था? अपने उत्तर की पुष्टि कारण बताते हुए कीजिए। अथवा, 1857 के विद्रोह में जन समभागिता की मात्रा निर्धारित कीजिए।
उत्तर:
1857 के विद्रोह का स्वरूप:
1857 के विद्रोह के स्वरूप के बारे में विद्वानों के विभिन्न मत पाये जाते हैं। कुछ विद्वानों की राय से यह एक सैनिक विद्रोह था। कुछ अन्य विद्वान इसको प्रथम स्वतंत्रता संग्राम मानते हैं। उनके अनुसार इसका उद्देश्य भारत में अंग्रेजी शासन को समाप्त करने का था। इनमें से दो मतों का विवेचन इस प्रकार है –

प्रथम मत-यह एक सैनिक विद्रोह था:
इस मत के समर्थक सर जॉन लारेन्स, सर जॉन सीले, जेम्स आउट्रम, थम्पसन पी. ई. राबर्टस् और गैरेट इत्यादि पाश्चात्य विद्वान हैं, वे इसको पूर्णतया एक सैनिक विद्रोह मानते हैं। सर जॉन लारेन्स के विचारानुसार, “यह सैनिक विद्रोह मात्र” था जिसका तात्कालीन कारण कुछ और न होकर केवल कारतूस वाली घटना थी। इसका संबंध किसी पिछली सुनियोजित योजना से नहीं था।” सर जोन लारेन्स के कथन पर सहमति प्रकट करते हुए पी. ई. राबर्टस लिखते हैं-“यह (1857 ई. का विद्रोह) एक विशुद्ध सैनिक विद्रोह था।” थम्पसन व गैरेट के शब्दों में, “विद्रोहियों के इस प्रयास को संगठित राष्ट्रीय आंदोलन बताना भारतीय साहस व योग्यता का उपहास करना है। उल्लेखनीय है कि इसे एक सैनिक टुकड़ी ने कुचल दिया था।” जो लोग उपर्युक्त मत से सहमत नहीं हैं, उनके अनुसार इसको सैनिक विद्रोह इसलिए नहीं कहा जा सकता कि –

1. इसमें सभी सैनिकों ने भाग नहीं लिया। उस समय की तीन प्रेसिडेन्सियों में से केवल एक प्रेसिडेन्सी के सिपाहियों ने अंग्रेजों का विरोध किया। 25 प्रतिशत से अधिक भारतीय सैनिकों ने किसी भी समय एक साथ भाग नहीं लिया।

2. इस विद्रोह में केवल सैनिकों ने नहीं, बल्कि देशी राजाओं, नवाबों व जमींदारों ने भी भाग लिया। इस विद्रोह में अनेक बेकार शिल्पकारों व अवध के सैनिकों ने भी भाग लिया।

3. जितने सैनिकों ने विद्रोह में भाग लिया उनका एक मात्र उद्देश्य अपने हितों अथवा स्वार्थों की रक्षा करना नहीं था। वे तो भारत को विदेशी सत्ता से छुटकारा दिलाना चाहते थे।

4. यदि यह केवल सैनिक विद्रोह था तो अंग्रेजी सरकार ने गैरसैनिक जनता पर क्यों जुल्म ढाये? अंग्रेजों ने न केवल विद्रोही सिपाहियों को कुचला बल्कि दिल्ली, अवध, मध्य भारत, उत्तर पश्चिमी प्रान्तों तथा आगरा के लोगों के विरुद्ध भी भीषण और बेरहम लड़ाई छेड़ी । उन्होंने अनेक गाँवों को जला दिया तथा ग्रामीण व शहरी जनता का कत्लेआम किया।

दूसरा मत-यह एक राष्ट्रीय विद्रोह था:
अनेक भारतीय इतिहासकारों व विद्वानों ने इस विद्रोह को भारतीय जनता का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम कहा है। इस मत के प्रवर्तक विनायक दामोदर वीर सावरकर हैं। उन्होंने सर्वप्रथम 1909 ई. में अपने ‘भारत की स्वतंत्रता का युद्ध’ नामक ग्रंथ में 1857 ई. के विद्रोह को भारत के लोगों का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम कहा। उनके विचारों का समर्थन के. एम. पाणिक्कर, अशोक मेहता, जे. सी. विद्यालंकार व जवाहरलाल नेहरू ने भी किया है तथा इसे राष्ट्रीय क्रांति अथवा प्रथम स्वतंत्रता संग्राम माना है। इन विद्वानों के अनुसार इस विद्रोह का उद्देश्य अंग्रेजों को भारत से बाहर खदेड़ कर एक राष्ट्रीय शासक को सत्ता सौंपने का था।

इसका क्षेत्र बहुत व्यापक था और यह विद्रोह चर्बी के कारतूस वाली घटना से शीघ्र फैल गया तथा इनमें सैनिकों, कई जमींदारों, कई राजाओं के साथ-साथ साधारण वर्ग के अनेक लोगों ने भी भाग लिया था। डा. पाणिक्कर के शब्दों में, “क्रांति का उद्देश्य अंग्रेजों को भारत से बाहर निकाल कर देश में एक राष्ट्रीय राज्य की स्थापना करने का था। इस दृष्टिकोण से यह गदर अथवा विप्लव न होकर एक राष्ट्रीय क्रांति थी”। कुछ इसी प्रकार के विचार पंडित नेहरू ने भी अपनी पुस्तक ‘Discovery of India’ में व्यक्त किए हैं। यह सैनिक क्रांति से कहीं अधिक था, यह जल्द ही फैल गया तथा इसने लोकप्रिय विद्रोह और भारतीय स्वाधीनता के संग्राम का रूप धारण कर लिया।

अशोक मेहता ने अपनी पुस्तक “1857 ई. की महान क्रांति” में लिखा है-“1857 ई. का विद्रोह केवल सैनिक विद्रोह न होकर एक सामाजिक ज्वालामुखी था। इसमें दबी हुई शक्तियों ने अभिव्यक्ति प्राप्त की।” किन्तु कुछ विद्वान 1857 ई. के विद्रोह को निम्नलिखित तथ्यों के आधार पर जन क्रांति या प्रथम स्वतंत्रता संग्राम नहीं मानते हैं –

  • यह विद्रोह कुछ ही प्रांतों एवं विशेषकर शहरों तक सीमित रहा।
  • इस विद्रोह में अवध को छोड़कर अन्य किसी भी प्रान्त की साधारण जनता ने भाग नहीं लिया था।
  • कुछ विद्वानों के अनुसार इस । विद्रोह से पहले आधुनिक राष्ट्रीयता की भावना का भारत में पूर्णतया अभाव था। इस भावना के अभाव में हुए किसी भी विद्रोह को राष्ट्रीय क्रांति या स्वतंत्रता संग्राम कहना गलत है। यदि यह भावना अंग्रेजों में होती तो अंग्रेज इस विद्रोह को कदापि नहीं कुचल सकते थे।

निष्कर्ष:
संक्षेप में 1857 ई. के संगठन व स्वरूप के विषय में हम कह सकते हैं कि –

  • यह विद्रोह सुनियोजित था परंतु इसकी शुरूआत अकस्मात हो गई।
  • यह विद्रोह केवल सैनिक विद्रोह नहीं था क्योंकि इसमें सेना के अतिरिक्त जमींदारों, जागीरदारों, देशी राजाओं व अन्य लोगों ने भी भाग लिया।
  • यह प्रथम स्वतंत्रता संग्राम था किन्तु इसके पीछे राष्ट्रीयता की भावना या शक्ति नहीं थी।
  • विद्रोह का क्षेत्र सम्पूर्ण भारत न होते हुए भी बहुत विस्तृत था।
  • यह राष्ट्रीय आंदोलन का पूर्वाभ्यास था।

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 3.
वे कौन से कारण थे जिनकी वजह से ब्रिटिश शासन के खिलाफ सिपाही विद्रोह भड़क उठा? वे इस विद्रोह के मुख्य आधार क्या थे? अथवा, उन कारणों का उल्लेख कीजिए जिनके फलस्वरूप सिपाहियों ने अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह किया।
उत्तर:
1. दुर्बल अंग्रेजी सेना व जीर्ण-शीर्ण हथियार:
ब्रिटिश सेना को प्रथम अफगान युद्ध (1838-42 ई.) पंजाब के दो युद्धों (1845 व 1849 ई.) एवं क्रीमिया के युद्ध (1854-56 ई.) में करारी हार झेलनी पड़ी। इसके अतिरिक्त अनेक योग्य सैनिक अधिकारियों को गैर सैनिक विभागों में नियुक्त कर देने के कारण अंग्रेज सेना की कमाण्ड बूढ़े व निकम्मे अधिकारियों के हाथ में रह गई। इससे भारतीय सैनिकों को विद्रोह करने के लिए प्रोत्साहन मिला।

2. संख्या में असमानता:
सेना में भारतीयों की संख्या अंग्रेजों से कहीं बढ़कर थी। डलहौजी जब भारत से गया तो सेना में 2,38,000 देशी व 45,322 अंग्रेज सैनिक थे। सेना का वितरण भी दोषपूर्ण था। दिल्ली व इलाहाबाद के सम्पूर्ण सैनिक देशी थे। यहाँ तक कि इन सेनाओं के अधिकारी भी देशी थे। सैनिक संख्या की असमानता ने देशी सैनिकों को निडर बना दिया।

3. भारतीय सैनिकों से भेदभाव व उनमें असंतोष:
अनेक कारणों से भारतीय सैनिक – अंग्रेज सरकार से रुष्ट थे। एक भारतीय सैनिक को केवल 9 रुपये प्रति माह मिलते थे, परंतु एक मामूली से अंग्रेज सैनिक को कई गुना वेतन (अर्थात् 60 या 70 रु० प्रति माह) मिलता था । इतना वेतन भारतीय सैन्य अधिकारी को भी नहीं मिलता था दूसरी बात यह थी कि उनके लिए उन्नति के सारे मार्ग बंद थे।

4. विदेशी भत्ते बंद करना:
ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कंपनी ने शुरू में उन सभी सैनिकों को विदेशी भत्ते के रूप में अतिरिक्त भत्ता दिया जो किसी भी भारतीय राज्य या क्षेत्र में लड़ने जाते थे। धीरे-धीरे कंपनी का साम्राज्य बढ़ता गया तथा एक आदेश द्वारा उन सभी क्षेत्रों में भारतीय को विदेशी भत्ता दिया जाना बंद कर दिया गया जिन क्षेत्रों को कंपनी साम्राज्य में मिला लिया जाता था। इस तरह कुल वेतन में आई कमी ने भारतीय सैनिकों में ब्रिटिश सेना के विरुद्ध अनुशासनहीनता व असंतोष को बढ़ावा दिया।

5. समुद्र पार करने का आदेश:
बहुत से भारतीय सैनिकों ने द्वितीय बर्मा युद्ध में लड़ने के लिए जाने से इसलिए इंकार कर दिया क्योंकि उन दिनों देश में समुद्र पार करना धर्म के विरुद्ध समझा जाता था। सरकार ने यह नियम बना दिया कि सरकार भारतीय सैनिकों को कभी भी देश के किसी भाग या समुद्र पार करने का आदेश दे सकती है। वे ऐसा करने से इंकार नहीं कर सकते थे। इससे भारतीय सैनिकों में बहुत असंतोष फैला।

6. चर्बी वाले कारतूस:
विद्रोह का तत्कालीन कारण चर्बी लगे कारतूस थे। इन कारतूसों को दांत से काटकर प्रयोग किया जाता था। यह अफवाह फैल गई कि इन कारतूसों में गाय व सूअर की चर्बी लगी है। इससे हिन्दू व मुसलमान सैनिक भड़क उठे। सैनिकों को यह विश्वास हो गया कि अंग्रेजों ने जान-बूझकर उनका धर्म भ्रष्ट करने के लिए ही कारतूसों में चबी का प्रयोग किया है।

7. अवध का विलीनीकरण:
अंग्रेजों की बंगाल में तैनात सेना में अवध और पश्चिमी प्रान्त के सैनिक थे। 1856 ई. में अवध के अंग्रेजी साम्राज्य में विलय से बंगाल में तैनात सेना कुद्ध हो गयी। इस विलीनीकरण से अवध के सैनिक बेकार हो गये और उनके रोष में और अधिक वृद्धि हुई।

8. सेना का वितरण:
सैनिक दृष्टि से सभी महत्त्वपूर्ण स्थान भारतीय सैनिकों के कब्जे में थे। इलाहाबाद, कानपुर और दिल्ली जैसे महत्त्वपूर्ण स्थान भारतीय सैनिकों के नियंत्रण में थे। इस भावना ने सैनिकों के मन में विद्रोह को जन्म दिया।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
सहरी क्या है?
(अ) रमजान के दिनों का भोजन
(ब) रोजे के दिनों में सूरज उगने से पहले का भोजन
(स) अपवित्र भोजन
(द) नगरीय भोजन
उत्तर:
(ब) रोजे के दिनों में सूरज उगने से पहले का भोजन

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 2.
1857 का विद्रोह किसके द्वारा शुरू हुआ?
(अ) सिपाहियों द्वारा
(ब) दस्तकारों द्वारा
(स) ताल्लुकदारों द्वारा
(द) देशी राजाओं द्वारा
उत्तर:
(अ) सिपाहियों द्वारा

प्रश्न 3.
दत्तकता के आधार पर किस रियासत का विलय नहीं किया गया?
(अ) अवध
(ब) झाँसी
(स) सतारा
(द) दिल्ली
उत्तर:
(द) दिल्ली

प्रश्न 4.
विद्रोही किससे नाराज नहीं थे?
(अ) देशभक्तों से.
(ब) उत्पीड़कों से
(स) सूदखोरों से
(द) अंग्रेजों से
उत्तर:
(अ) देशभक्तों से.

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 5.
विद्रोह के दिनों में क्या नहीं था?
(अ) बाजारों में सब्जियों का अभाव था
(ब) सब्जियों सड़ी मिलती थी
(स) लोगों की आमदनी बढ़ गई थी
(द) चारों ओर गंदगी दिखाई दे रही थी
उत्तर:
(स) लोगों की आमदनी बढ़ गई थी

प्रश्न 6.
फांस्बां सिक्टन कौन था?
(अ) एक अंग्रेज जमींदार
(ब) बिजनौर का ताल्लुकदार
(स) बिजनौर का तहसीलदार
(द) देशी ईसाई पुलिस इंस्पैक्टर
उत्तर:
(द) देशी ईसाई पुलिस इंस्पैक्टर

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 7.
एक फकीर विद्रोह का प्रचार कहाँ कर रहा था?
(अ) दिल्ली.
(ब) मेरठ
(स) कानपुर
(द) लखनऊ
उत्तर:
(ब) मेरठ

प्रश्न 8.
निम्नलिखित में से किससे विद्रोह प्रभावित नहीं हुआ?
(अ) अफवाह
(ब) गाय और सूअर की चर्बी वाली कारतूस
(स) ब्राह्मणों द्वारा पूजा
(द) भविष्यवाणी
उत्तर:
(स) ब्राह्मणों द्वारा पूजा

प्रश्न 9.
शिक्षा में सुधार किसके काल में शुरू हुआ?
(अ) लार्ड कार्नवालिस
(ब) लार्ड वैलेजली
(स) लार्ड विलियम बैंटिक
(द) लार्ड हार्डिंग
उत्तर:
(स) लार्ड विलियम बैंटिक

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 10.
निम्नलिखित में किस राज्य का अधिग्रहण नहीं किया गया?
(अ) काशी
(ब) अवध
(स) सतारा
(द) झाँसी
उत्तर:
(अ) काशी

प्रश्न 11.
“ये गिलास फल (Cherry) एक दिन हमारे ही मुँह में आकर गिरेगा।” किसने कहा था?
(अ) लार्ड कार्नवालिस
(ब) लार्ड वैलेजली
(स) लार्ड डलहौजी
(द) लाई बैंटिक
उत्तर:
(स) लार्ड डलहौजी

Bihar Board Class 12 History Solutions Chapter 11 विद्रोही और राज : 1857 का आंदोलन और उसके व्याख्यान

प्रश्न 12.
निम्नलिखित में किस स्थान पर विद्रोह नहीं हुआ था?
(अ) दिल्ली
(ब) लखनऊ
(स) झाँसी
(द) मद्रास (चेन्नई)
उत्तर:
(द) मद्रास (चेन्नई)

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया Textbook Questions and Answers, Additional Important Questions, Notes.

BSEB Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

Bihar Board Class 12 Political Science समकालीन दक्षिण एशिया Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
देशों की पहचान करें: –
(क) राजतंत्र, लोकतंत्र-समर्थक समूहों और आतकंवादियों के बीच संघर्ष के कारण राजनीतिक अस्थिरता का वातावरण बना।
(ख) चारों तरफ भूमि से घिरा देश।
(ग) दक्षिण एशिया का वह देश जिसने सबसे पहले अपनी अर्थव्यवस्था का उदारीकरण किया।
(घ) सेना और लोकतंत्र-समर्थक समूहों के बीच संघर्ष में सेना ने लोकतंत्र के ऊपर बाजी मारी।
(ङ) दक्षिण एशिया के केन्द्र में अवस्थित। इन देशों की सीमाएं दक्षिण एशिया के अधि कांश देशों से मिलती हैं।
(च) पहले इस द्वीप में शासन की बागडोर सुल्तान के हाथ में थी। अब यह गणतंत्र है।
(छ) ग्रामीण क्षेत्र में छोटी बचत और सहकारी ऋण को पवस्था के कारण इस देश को गरीबी कम करने में मदद मिली है।
(ज) एक हिमालयी देश जहां संवैधानिक राजतंत्र है। यह देश भी हर तरफ से भूमि से घिरा है।
उत्तर:
(क) नेपाल
(ख) बांग्लादेश
(ग) श्रीलंका
(घ) पाकिस्तान
(ङ) भारत
(च) मालदीव
(छ) चीन
(ज) भूटान

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 2.
दक्षिण एशिया के बारे में कौन-सा कथन गलत है?
(क) दक्षिण एशिया में सिर्फ एक तरह की राजनीतिक प्रणाली चलती है।
(ख) बांग्लादेश और भारत ने नदी-जल की हिस्सेदारी के बारे में एक समझौते पर हस्ताक्षर, किये हैं।
(ग) ‘साफ्ट’ पर हस्ताक्षर इस्लामाबाद के 12वें सार्क सम्मेलन में हुए।
(घ) दक्षिण एशिया की राजनीति में चीन और संयुक्त राज्य अमरीका महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
उत्तर:
(क) दक्षिण एशिया में सिर्फ एक तरह की राजनीतिक प्रणाली चलती है।

प्रश्न 3.
पाकिस्तान की लोकतंत्रीकरण में कौन-कौन सी कठिनाइयाँ हैं?
उत्तर:
पाकिस्तान की लोकतंत्रीकरण में कठिनाइयाँ –

  1. यहां सेना, धर्मगुरु और भूस्वामी वर्ग का सामाजिक दबदबा है। इसके कारण कई बार निर्वाचित सरकारों को गिराकर सैनिक शासन स्थापित हुआ।
  2. पाकिस्तान का भारत से तनाव होने के कारण, सेवा समर्थक समूह अधिक मजबूत हैं। वे तर्क देते हैं कि पाकिस्तान के राजनैतिक दलों और लोकतंत्र में खोट हैं इसलिए पाकिस्तान खतरे में पड़ सकता है।
  3. पाकिस्तान में लोकतांत्रिक शासन चलाने के लिए विशेष अंतर्राष्ट्रीय समर्थन नहीं मिलता। इसलिए सेना हावी होती है।
  4. संयुक्त राज्य अमेरीका तथा पश्चिमी देशों ने स्वार्थवश पाकिस्तान में सैनिक शासन को बढ़ावा दिया।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 4.
नेपाल के लोग अपने देश में लोकतंत्र को बहाल करने में कैसे सफल हए?
उत्तर:
नेपाल के लोगों द्वारा अपने देश में लोकतंत्र को बहाल करने के तरीके –

  1. प्रारंभ में नेपाल में संवैधानिक राजतंत्र था। इस दौर में भी राजनीतिक दल और आम जनता स्वतंत्र और उत्तरदायी शासन की आवाज उठाती रही।
  2. लोकतांत्रिक आंदोलनों के फलस्वरूप 1990 में नए लोकतांत्रिक संविधान की मांग को राजा को स्वीकार करना पड़ा परंतु यह केवल 2002 तक चला।
  3. अप्रैल 2006 में देशस्तर पर लोकतंत्र समर्थकों ने भीषण आंदोलन किया, फलस्वरूप राजा ज्ञानेन्द्र ने विवश होकर संसद को बहाल किया।
  4. नेपाल में लोकतंत्र अभी अपने पूर्ण स्वरूप में कार्य नहीं कर रहा है। वहा संविधान सभा के गठन की दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। यह संविधान सभा नेपाल का संविधान लिखेगी। कुछ लोगों का कहना है कि अंलकारिक अर्थों में राजा का पद कायम रखना जरूरी है।

प्रश्न 5.
श्रीलंका ने जातीय-संघर्ष में किसकी भूमिका प्रमुख है?
उत्तर:
श्रीलंका के जातीय-संघर्ष में भूमिका:

  1. श्रीलंका के जातीय संघर्ष में उन लोगों की महत्त्वपूर्ण भूमिका है जिसकी मांग है कि श्रीलंका के एक क्षेत्र को अलग राष्ट्र बनाया जाए।
  2. श्रीलंका की राजनीति पर बहुसंख्यक सिंहली समुदाय के हितों का नेतृत्व करने वालों का बोलबाला था। ये लोग भारत से आई तमिल आबादी के खिलाफ थे। वे तमिल लोगों की उपेक्षा करते हैं। फलस्वरूप तमिल राष्ट्रवाद की आवाज बुलंद हो गई।
  3. उग्र तमिल संगठन लिट्टे का निर्माण हुआ जो श्रीलंकाई सेना के साथ संघर्ष कर रही है।

प्रश्न 6.
भारत और पाकिस्तान के बीच हाल में क्या समझौते हुए?
उत्तर:
भारत और पाकिस्तान के बीच हाल के समझौते:

  1. भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 के युद्ध के पश्चात् दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने शिमला में एक समझौता किया जिसके अनुसार दोनों देशों की सेनाओं को युद्ध से पूर्व की सीमाओं पर वापस जाने की घोषणा की गई।
  2. इसमें यह भी शर्त रखी गई कि दोनों देशों के बीच डाक-तार सेवा व संचार व्यवस्था चलती रहेगी। आर्थिक और सामाजिक क्षेत्रों में दोनों देश एक-दूसरे की सहायता करेंगे।
  3. 1978 में भारत के विदेश मंत्री पाकिस्तान में वार्ता के लिए गये और बाद में सलाल बांध के संबंध में दोनों देशों में समझौता हुआ।
  4. दोनों देशों के बीच मौजूद बड़ी समस्याओं के समाधान के लिए सम्मेलनों में नेता बात करते हैं।
  5. पिछले 5 वर्षों के दौरान दोनों देशों के पंजाब वाले हिस्से के बीच कई बस मार्ग खुले हैं। अब वीजा आसानी से मिल जाता है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 7.
ऐसे दो मसलों के नाम बताएं जिन पर भारत-बांग्लादेश के बीच आपसी सहयोग है और इस तरह दो ऐसे मसलों के नाम बताएं जिन पर असहमति है।
उत्तर:
भारत-बांग्लादेश के बीच आपसी सहयोग के मसले:

  1. पिछले 10 वर्षों के दौरान दोनों के बीच आर्थिक संबंध अधिक बेहतर हुए है। बांग्लादेश भारत के ‘पूरब चलो’ की नीति का हिस्सा है। इस नीति के अंतर्गत म्यांमार के द्वारा दक्षिण पूर्व एशिया से संपर्क साधने की बात है।
  2. आपदा प्रबंधन और पर्यावरण के मसले पर भी दोनों देशों ने निरंतर सहयोग किया है। भारत-बांग्लादेश के बीच असहमति के मसले:

(क) गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी के जल में हिस्सेदारी पर मतभेद है।
(ख) भारत सेना को पूर्वोत्तर भारत में जाने के लिए अपने क्षेत्र से मार्ग देने में बांग्लादेश सहमत नहीं है।

प्रश्न 8.
दक्षिण एशिया में द्विपक्षीय संबंधों को बाहरी शक्तियों कैसे प्रभावित करती है?
उत्तर:
दक्षिण एशिया में द्विपक्षीय संबंधों पर बाहरी शक्तियों का प्रभाव –

  1. चीन और संयुक्त राज्य अमरीका दक्षिण एशिया की राजनीति में अहम भूमिका निभाते हैं और द्विपक्षीय संबंधों को प्रभावित करते हैं।
  2. पिछले 10 वर्षों में भारत और चीन के संबंध बेहतर हुए है, परंतु चीन की रणनीति साझेदारी पाकिस्तान के साथ है और यह भारत-चीन संबंधों में एक बड़ी कठिनाई है।
  3. शीतयुद्ध के बाद दक्षिण एशिया में अमरीकी प्रभाव तेजी से बढ़ा है। वह भारत पाक कि बीच लगातार मध्यस्थल की भूमिका निभा रही है।

प्रश्न 9.
दक्षिण एशिया के देशों के बीच आर्थिक सहयोग की राह तैयार करने में दक्षेस (सार्क) की भूमिका और सीमाओं का आलोचनात्मक मूल्यांकन करें। दक्षिण एशिया की बेहतरी में ‘दक्षेस’ (सार्क) ज्यादा बड़ी भूमिका निभा सके, इसके लिए आप क्या सूझाव देंगें?
उत्तर:
दक्षिण एशिया के देशों के बीच आर्थिक सहयोग की राह तैयार करने में दक्षेस (सार्क) की भूमिका –

  1. दक्षेस के सदस्य देशों ने 2002 में दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार-क्षेत्र समझौते (SAFTA) पर हस्ताक्षर किये हैं। इसमें पूरे दक्षिण एशिया के लिए मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाने का वायदा है।
  2. इस समझौते का यह भी लक्ष्य है कि इन देशों के बीच आपसी व्यापार में लगने वाले सीमा शुल्क को 2007 तक 20% कम कर दिया जाए।

दक्षेस की बड़ी भूमिका के लिए सुझाव –

  1. दक्षेस के देशों को आपसी आशंकायें समाप्त करनी चाहिए। ऐसा करने से इन देशों के संसाधनों का उचित विकास हो सकता है।
  2. साफ्ट से इस क्षेत्र के सभी देशों को तभी फायदा होगा जब सभी देश एक-दूसरे को सहयोग देंगे और अपने मतभेद दूर कर लेंगें।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 10.
दक्षिण एशिया के देश एक-दूसरे पर अविश्वास करते हैं। इससे अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर यह क्षेत्र एकजुट होकर अपना प्रभाव नहीं जमा पाता। इस कथन की पुष्टि में कोई भी दो उदाहरण दें और दक्षिण एशिया को मजबूत बनाने के लिए उपाये सुझाएँ।
उत्तर:
यह सही है कि दक्षिण एशिया के देश एक-दूसरे पर अविश्वास करते हैं। इसलिए अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर यह क्षेत्र एकजुट होकर अपना प्रभाव नहीं जमा पाता। इसके उदाहरण निम्नलिखित हैं –

  1. भारत और पाकिस्तान एक-दूसरे पर अविश्वास करते हैं। इसलिए दोनों के परमाणु शक्ति सम्पन्न होने पर भी अंतर्राष्ट्रीय मंच पर इसका कोई प्रभाव नहीं है और अमरीका आये दिन हस्तक्षेप करता है। यदि दोनों एक-दूसरे पर विश्वास करें तो यह हस्तक्षेप और आतंकवादी कार्यवाहिया बंद हो जायेंगी।
  2. दक्षिण एशिया के छोटे देश भारत पर शक करते है कि वह उनकी कमजोरी का लाभ उठा रहा है। भारत नहीं चाहता कि इन देशों में राजनीतिक अस्थिरता पैदा हो। उसे भय लगता है कि ऐसी स्थिति में बाहरी ताकतों को इस क्षेत्र में प्रभाव जमाने में मदद मिलेगी।

दक्षिण एशिया के देशों को मजबूत बनाने के लिए सभी देशों को एक-दूसरे देशों पर विश्वास बढ़ाना होगा और एक-दूसरे का सहयोग करना चाहिए। अपने मतभेदों को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर नहीं उछालना चाहिए। उन्हें आपस में एक-दूसरे का आर्थिक सहयोग करना चाहिए ताकि कमजोर देश अपनी आर्थिक कठिनाइयों से उबर सके।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 11.
दक्षिण एशिया के देश भारत को एक बहुबली समझते हैं जो इस क्षेत्र के छोटे देशों पर अपना दबदबा जमाना चाहता है और उनके अंदरूनी मामलों में दखल देता है। इन देशों की ऐसी सोच के लिए कौन-कौन सी बातें जिम्मेदार हैं?
उत्तर:
इन देशों की ऐसी सोच के लिए निम्नलिखित बातें जिम्मेदार हैं –

  1. भारत का आकार विशाल है और यह शक्तिशाली है। ऐसे में अपेक्षाकृत छोटे देशों का भारत के इरादों को लेकर शंकालु सोच बनाना उचित है।
  2. भारत सरकार प्रायः अनुभव करती है कि उसके पड़ोसी देश उसका गलत लाभ उठा रहे है। भारत नहीं चाहता है कि इन देशों में राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हो।
  3. भारत को इस बात का डर रहता है कि भारत के हस्तक्षेप करने से बाहरी शक्तियों को इस क्षेत्र में प्रभाव जमाने का अवसर मिल जायेगा।
  4. छोटे देशों को यह आभास रहता है कि भारत दक्षिण एशिया में अपना प्रभुत्व स्थापित करना चाहता है।

Bihar Board Class 12 Political Science समकालीन दक्षिण एशिया Additional Important Questions and Answers

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
दक्षिण एशिया क्या है?
उत्तर:

  1. यह एक विशिष्ट प्राकृतिक क्षेत्र है जो उत्तर में विशाल हिमालय पर्वत से लेकर दक्षिण में हिंद महासागर तक एवं पूर्व में बंगाल की खाड़ी से लेकर पश्चिम में अरब सागर तक फैला हुआ है।
  2. प्रायः इसमें सात देश-बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका शामिल हैं।

प्रश्न 2.
समकालीन दक्षिण एशिया विश्व की नजर में क्यों महत्त्वपूर्ण है?
उत्तर:

  1. भारत और पाकिस्तान दोनों ने स्वयं को परमाणु सम्पन्न राष्ट्रों की बिरादरी में स्थापित कर लिया हैं।
  2. इस क्षेत्र में कई विवाद और संघर्ष चल रहे हैं। कई देशों के बीच सीमा और नदी जल बंटवारे को लेकर विवाद कायम है। इसके अलावा विद्रोह, जातीय संघर्ष और संसाधनों के विभाजन को लेकर भी संघर्ष हैं। इन कारणों से यह इलाका बहुत अधिक संवेदनशील है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 3.
नेपाल में राजनीतिक प्रणाली में क्या परिवर्तन आया है?
उत्तर:

  1. नेपाल एक शुद्ध हिंदू देश है और यहां 2006 तक संवैधानिक राजतंत्र स्थापित था और इस बात का हमेशा खतरा था कि राजा कार्यपालिका की संपूर्ण शक्ति अपने हाथ में ले लेगा।
  2. 2006 में एक सफल विद्रोह के द्वारा लोकतंत्र की बहाली हुई और राजा के अधिकार अति सीमित रहा गये हैं।

प्रश्न 4.
पाकिस्तान के किन नेताओं के काल में पाकिस्तान में लोकतांत्रिक प्रणाली थी?
उत्तर:

  1. जुल्फिकार अली भुट्टो
  2. श्रीमति बेनजीर भुट्टो
  3. नवाज शरीफ

प्रश्न 5.
मालदीव की राजनीतिक प्रणाली का वर्णन कीजिए।
उत्तर:

  1. 1968 तक यहां सुल्तानों का शासन होता था परंतु 1968 में यहां गणतंत्र की स्थापना हुई और यहां शासन की अध्याक्षात्मक प्रणाली अपनायी गई।
  2. 2005 के जून में मालदीव की संसद ने बहुदलीय प्रणाली को अपनाने के पक्ष में एकमत से मतदान किया। 2005 के निर्वाचनों के पश्चात् यहां लोकतंत्र मजबूत हुआ है, क्योंकि इस चुनाव में विपक्षी दलों को कानूनी मान्यता प्रदान कर दी गयी है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 6.
बांग्लादेश की स्थापना कैसे हुई?
उत्तर:

  1. पाकिस्तान के जनरल याहिया खान के सैनिक शासन के दौरान 1971 ई० में भारत-पाकिस्तान का युद्ध हुआ। युद्ध में पाकिस्तान पराजित हुआ।
  2. युद्ध के परिणामस्वरूप पूर्वी पाकिस्तान टूटकर एक स्वतंत्र देश बना जो बांग्लादेश कहलाया।

प्रश्न 7.
शिमला समझौता कब और कैसे हुआ?
उत्तर:

  1. 1971 ई० में बांग्लादेश की मुक्ति को लेकर भारत और पाकिस्लन में युद्ध हुआ जिसमें पाकिस्तान बुरी तरह पराजित हुआ और अनेक पाकिस्तानी युनगंदी बोगये।
  2. आगे चलकर दोनों देशों के बीच राजनायिक संबंध सामान्य बनाने के लिए पाकिस्तान की पहल पर शिमला में दोनों प्रधानमंत्रियों में (इंदिरा गांधी और जुल्फिकार अली भुट्टो) 2 जुलाई, 1972 को समझौता हुआ। इसी राजनायिक समझौते को शिमला समझौता कहते हैं।

प्रश्न 8.
जनरल परवेज मुशर्रफ किस प्रकार पाकिस्तान के तानाशाह शासक बन गये?
उत्तर:

  1. बेनजीर भुट्टों और नवाज शरीफ की निर्वाचित सरकार 1999 तक कायम रही। 1999 मे पुनः सेना ने हस्तक्षेप किया और जनरल परवेज मुशर्रफ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को हटाकर स्वयं शासक बन बैठे।
  2. 2001 में परवेज मुशर्रफ ने अपना निर्वाचन राष्ट्रपति के रूप में कराया। पाकिस्तान में वर्तमान में नवाज शरीफ का शासन है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 9.
पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) के लोग पश्चिमी पाकिस्तान (पाकिस्तान) के क्यों खिलाफ थे?
उत्तर:

  1. पूर्वी पाकिस्तान के लोग पश्चिमी पाकिस्तान के दबदबे और अपने ऊपर उर्दू भाषा को लादने के खिलाफ थे।
  2. पाकिस्तान के निर्माण के तुरंत बाद ही यहां के लोगों ने बंगाली संस्कृति और भाषा के साथ किये जा रहे दुर्व्यवहार के खिलाफ विरोध जताना शुरू कर दिया।

प्रश्न 10.
बांग्लादेश के संविधान की क्या विशेषता थी?
उत्तर:

  1. बांग्लादेश ने अपने संविधान में स्वयं को धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक तथा समाजवादी देश घोषित किया।
  2. 1975 में शेख मुजीबुर्रहमान ने संविधान में संशोधन कराया और संसदीय प्रणाली की जगह अध्यक्षात्मक शासन प्रणाली को मान्यता मिली। उन्होंने अपनी पार्टी आवामी लीग को छोड़कर अन्य सभी पार्टियों को समाप्त कर दिया।

प्रश्न 11.
नेपाल में वर्तमान लोकतंत्र कब और कैसे स्थापित हुआ?
उत्तर:

  1. नेपाल में 2002 में राजा ने संसद को भंग कर लोकतंत्र समाप्त कर दिया था और सरकार को गिरा दिया था।
  2. अप्रैल 2006 में यहां देशव्यापी लोकतंत्र समर्थकों ने बड़े पैमाने पर आंदोलन किये। उनका आंदोलन सफल हुआ और राजा ज्ञानेन्द्र ने विवश होकर संसद को बहाल किया। वस्तुतः यह नेपाल के सात दलों के गठबंधन, माओवादी एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं का प्रयास था।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 12.
दुर्गा थापा क्यों प्रसिद्ध है?
उत्तर:

  1. नेपाल की यह महिला लोकतंत्र समर्थक है। उसने इसे स्थापित करने के लिए काठमांडू में 1990 में एक विशाल रैली निकाली। इसके बाद भी वे लोकतंत्र बहाली के कार्य में लगी रहीं।
  2. अंतत: 2006 में उन्हें सफलता मिली और नेपाल में लोकतांत्रिक शासन स्थापित हुआ। उन्होंने इसके लिए एक विशाल उत्सव का आयोजन किया।

प्रश्न 13.
शांति सेना क्या है। इसे श्रीलंका में सफलता क्यों नहीं मिली?
उत्तर:

  1. 1987 में भारतीय सरकार श्रीलंका के तमिल मसले में प्रत्यक्ष रूप से शामिल हुई। भारत की सरकार ने श्रीलंका से एक समझौता किया तथा श्रीलंका सरकार और तमिलों के बीच संबंध सामान्य करने के लिए एक भारतीय सेना भेजी जो ‘शांति सेना’ कहलायी।
  2. भारतीय सेना लिट्टे के साथ युद्ध में फंस गई। भारतीय सेना की उपस्थिति को श्रीलंका की जनता ने विशेष पसंद नहीं किया। फलस्वरूप :989 में भारत ने अपनी शांति सेना वापस बुला ली।

प्रश्न 14.
श्रीलंका की अर्थव्यवस्था की विशेषतायें बताइए।
उत्तर:

  1. जातीय संघर्ष के बावजूद उसका आर्थिक विकास उच्च स्तर का रहा। उसने विकासशील देशों में सर्वप्रथम जनसंख्या की वृद्धि दर पर नियंत्रण स्थापित किया।
  2. दक्षिण एशिया के देशों में श्रीलंका यह प्रथम देश है जिसने एशिया के देशों में सर्वप्रथम अपनी अर्थव्यवस्था का उदारीकरण किया। इस देश का प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद दक्षिण एशिया में सबसे ज्यादा है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 15.
भारत पाकिस्तान में संघर्ष का कारण क्या है?
उत्तर:

  1. दोनों देशों के संघर्ष का मुख्य कारण कश्मीर है। पाकिस्तान की सरकार का दावा था। कि कश्मीर पाकिस्तान का है। इसको लेकर दोनों देशों के बीच 1947-48 और 1965 में दो बार युद्ध हुए।
  2. 1948 के युद्ध के फलस्वरूप कश्मीर दो भागों में बंट गया। एक हिस्सा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर कहलाया जबकि दूसरा हिस्सा भारत का जम्मू कश्मीर प्रान्त बना। दोनों के बीच नियंत्रण रेखा है। 1971 में दोनों के बीच फिर युद्ध हुआ था।

प्रश्न 16.
आई एस आई (ISI) क्या है?
उत्तर:

  1. यह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी है जिसका पूरा नाम इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (Inter Services Intelligence) है।
  2. इस एजेंसी द्वारा पाकिस्तान भारत की गुप्त बातों की जानकारी प्राप्त करता है। इस पर बांग्लादेश और नेपाल के गुप्त ठिकानों से पूर्वोत्तर भारत में भारत विरोधी अभियानों में संलग्न होने का आरोप है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 17.
सिंघु जल संधि क्या है?
उत्तर:

  1. 1960 में विश्व बैंक की सहायता से भारत और पाकिस्तान ने ‘सिंधु जल संधि’ पर हस्ताक्षर किये और यह संधि भारत और पाकिस्तान के बीच कई सैनिक संघर्षों के बावजूद भी कायम है।
  2. संधि होने के बाद भी इसकी व्याख्या और नदी जल के इस्तेमाल को लेकर अभी भी कुछ छोटे विवाद है।

प्रश्न 18.
‘भारत और नेपाल के बीच मधुर संबंध है’ एक उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
भारत और नेपाल के बीच मधुर संबंध के विरले ही उदाहरण मिलते हैं। दोनों देशों के बीच एक विशेष संधि हुई। इस संधि के अंतर्गत दोनों देशों के नागरिक एक दूसरे के देश में बिना पासपोर्ट (पार-पत्र) और वीजा के आ जा सकते है और काम कर सकते हैं।

प्रश्न 19.
भारत और मालदीव के संबंधों का खुलासा कीजिए।
उत्तर:

  1. मालदीव के साथ भारत के संबंध सौहार्दपूर्ण तथा गर्मजोशी से भरे हैं। 1988 में श्रीलंका के भाड़े के तमिल सैनिकों ने जब मालदीव पर हमला किया तब मालदीव ने आक्रमण रोकने के लिए भारत से सहायता मांगी तो भारत के वायुसेना और नौसेना ने तुरंत कार्यवाही की।
  2. भारत ने मालदीव के आर्थिक विकास पर्यटन और मत्स्य उद्योग में भी सहायता की है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 20.
दक्षेस या सार्क (SAARC) क्या है?
उत्तर:

  1. दक्षेस (South Asian Association for Regional Cooperation) दक्षिण एशियाई देशों द्वारा बहुस्तरीय साधनों से आपस में सहयोग करने की दिशा में उठाया गया बड़ा कदम है।
  2. इसका आरंभ 1985 में हुआ। इसके देशों के बीच आपसी मतभेद है। इसलिए इसको अधिक सफलता नहीं मिली है।

प्रश्न 21.
साफ्टा (SAFTA) क्या है?
उत्तर:

  1. दक्षेस के सदस्य देशों ने 2002 में ‘दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार क्षेत्र समझौते’ (South Asian Free Trade Area Agreement) पर हस्ताक्षर किये।
  2. इसमें संपूर्ण दक्षिण एशिया के लिए मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाने का वायदा है। यदि दक्षिण एशिया के सभी देश इससे सहमत हो जायें तो शांति और सहयोग की एक नई धारा शुरू हो सकती है।

लघु उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
दक्षिण एशिया के विभिन्न देशों में एक सी राजनीतिक प्रणाली नहीं है? विवेचन कीजिए।
उत्तर:
दक्षिण एशिया के विभिन्न देशों में एक सी राजनीतिक प्रणाली नहीं है जो निम्नलिखित बातों से स्पष्ट है:

  1. अनेक समस्याओं और सीमाओं के बावजूद भारत और श्रीलंका में ब्रिटिश राज्य के पश्चात् लोकतंत्र कायम है।
  2. पाकिस्तान और बांग्लादेश में लोकतांत्रिक और सैनिक दोनों प्रकार के नेताओं का शासन रहा है। शीतयुद्ध के बाद के सालों में बांग्लादेश में लोकतंत्र कायम रहा है। पाकिस्तान में शीतयुद्ध के बाद के वर्षों में लगातार दो लोकतांत्रिक सरकारे बनी। 1999 में यहां सैनिक शासन स्थापित हुआ।
  3. 2006 तक नेपाल में संवैधानिक राजतंत्र था परंतु 2006 सफल जनविद्रोह के कारण लोकतंत्र की नींव पड़ी।
  4. भूटान में अब भी राजतंत्र है लेकिन यहा के राजा ने भूटान में बहुदलीय लोकतंत्र स्थापित करने की योजना की शुरूआत कर दी है।
  5. मालदीव 1968 तक सल्तनत राज्य था परंतु उसके बाद यह गणतंत्र हो गया और यहां शासन अध्यक्षात्मक प्रणाली अपनायी गयी।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 2.
दक्षिण एशिया में लोकतंत्र मजबूत है, समीक्षा कीजिए।
उत्तर:

  1. यद्यपि दक्षिण एशिया में लोकतंत्र का रिकॉर्ड मिला जुला रहा है, परंतु यहा की जनता की आकांक्षायें लोकतंत्र से जुड़ी हैं।
  2. इस क्षेत्र के पांच देशों के सर्वेक्षण से ज्ञात होता है कि यहां लोकतंत्र को व्यापक जन-समर्थन प्राप्त है।
  3. इन देशों के आम नागरिक-धनी-गरीब अथवा सभी धर्म के लोगों को लोकतंत्र अच्छा लगता है।
  4. यहां के नागरिकों के शासन की किसी और प्रणाली की अपेक्षा लोकतंत्र को वरीयता देते हैं और मानते हैं कि उनके देश के लिए लोकतंत्र ही ठीक है।

प्रश्न 3.
पाकिस्तान में सैनिक शासन का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
पाकिस्तान में सैनिक शासन –

  1. पाकिस्तान में संविधान निर्माण के बाद अयूब खान ने सत्ता अपने हाथ में ले ली और शीघ्र ही अपना निर्वाचन भी करा लिया परंतु शीघ्र ही उनके खिलाफ विद्रोह हो गया।
  2. अयूब खान के बाद जनरल याहिया खान ने शासन की बागडोर संभाली। उनके शासन काल में बांग्लादेश का संकट आया।
  3. इसके बाद जुल्फिकार अली भुट्टो की निर्वाचित सरकार ने 1971 से 1977 तक शासन किया। 1977 में जनरल जिया-उल-हक ने इस सरकार को गिरा दिया और उन्होंने 1982 तक शासन किया।
  4. 1982 के बाद लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के बाद बेनजीर भुट्टो और बाद में नवाज शरीफ की सरकार बनी जो 1999 तक कायम रही।
  5. 1999 में एक बार फिर सेना ने हस्तक्षेप किया और जनरल परवेज मुशर्रफ ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को हटा दिया। 2001 में परवेज मुशर्रफ ने अपना निर्वाचन राष्ट्रपति के रूप में कराया। अब भी पाकिस्तान में सैनिक शासन जारी है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 4.
पाकिस्तान में लोकतंत्र स्थायी न होने के क्या कारण हैं?
उत्तर:
पाकिस्तान में लोकतंत्र स्थायी न होने के कारण –

  1. पाकिस्तान में सेना, धर्मगुरु और भूस्वामी वर्ग का प्रभुत्व है और यह निर्वाचित सरकार को गिरा देता है।
  2. पाकिस्तान का भारत से तनाव के कारण सैनिक शासन को समर्थन मिला है। ऐसे लोगों का कहना है कि राजनैतिक दलों में यह साहस नहीं है कि वे पाकिस्तान की सुरक्षा कायम रख सकें।
  3. पाकिस्तान में लोकतंत्र के सफल न होने का कारण यह भी है कि लोकतंत्र को अंतर्राष्ट्रीय समर्थन का न होना है। इससे सैनिक शासन को बढ़ावा मिला है।
  4. अमरीका और पश्चिमी देशों ने अपने स्वार्थ के अनुसार सैनिक शासन का समर्थन किया है। वस्तुतः ये देश इस्लामी आतंकवाद से भयभीत हैं और उन्हें डर है कि पाकिस्तान के परमाणु हथियार कहीं आतंकवादियों के हाथ न लग जायें, इसलिए वे अपने रक्षक के रूप में पाकिस्तान का समर्थन करते हैं।

प्रश्न 5.
बांग्लादेश की स्थापना में शेख मुजीबुर्रहमान के कार्यों का मूल्यांकन कीजिए।
उत्तर:
बांग्लादेश की स्थापना में शेख मुजीबुर्रहमान के कार्यों का मूल्यांकन:

  • पूर्वी पाकिस्तान में भी पश्चिमी पाकिस्तान का दबदबा था। वहां के लोगों को बंगाली संस्कृति और भाषा को बचाना मुश्किल हो गया था। जनता ने प्रशासन में अपने समुचित प्रतिनिधित्व तथा राजनीतिक सत्ता में समुचित हिस्सेदारी की मांग की और जनसंघर्ष आरंभ कर दिया जिसका नेतृत्व मुजीबुर्रहमान ने किया।
  • उनकी पार्टी आवामी लीग को 1970 के चुनावों में पूर्वी पाकिस्तान की सभी सीटों पर विजय प्राप्त हुई और इस पार्टी को प्रस्तावित संविधान सभा में बहुमत मिल गया परंतु उन्हें सरकार बनाने के लिए नहीं बुलाया गया।
  • जनरल याहिया की सेना ने शेख मुजीब को गिरफ्तार कर लिया और जन आंदोलन को दबाने का प्रयास किया।
  • पूर्वी पाकिस्तान के हजारों लोगों की हत्या हुई और लोग अपना घर छोड़कर भारत में प्रवेश करने लगे। भारत में शरणार्थियों को संभालने की समस्या उत्पन्न हो गयी।
  • भारत ने पूर्वी पाकिस्तान को वित्तीय और सैनिक सहायता दी। 1971 में भारत-पाक युद्ध हुआ। जिसमें पाकिस्तान पराजित हुआ और बांग्लादेश नामक एक नया राष्ट्र बना।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 6.
बांग्लादेश में सैनिक शासन का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
बांग्लादेश में सैनिक शासन –

  1. 1975 में शेख मुजीब ने संविधान में संशोधन करके अध्यात्मक शासन प्रणाली लागू की। उन्होंने अपनी पार्टी आवामी लीग के अलावा अन्य सभी पार्टियों को समाप्त कर दिया।
  2. शेख मुजीब के इस कार्य से देश में तनाव और संघर्ष की स्थिति उत्पन्न हो गयी। सेना ने शेख मुजीबुर्रहमान की हत्या कर दी।
  3. सैनिक शासक जियाऊर्रहमान ने अपनी बांग्लादेश नेशनल पार्टी बनायी और 1979 के चुनाव में विजय रहे। बाद में उनकी हत्या कर दी गयी।
  4. बाद में ले० जनरल एच० इरशाद के नेतृत्व में बांग्लादेश में एक और सैनिक शासक ने बागडोर संभाली। उनके काल में जनविद्रोह जारी रहा। फलस्वरूप 1990 में उन्हें राष्ट्रपति का पद छोड़ना पड़ा। आगे चलकर लोकतंत्र बहाल हुआ।

प्रश्न 7.
नेपाल में राजतंत्र के स्थान पर लोकतंत्र किस प्रकार स्थापित हुआ।
उत्तर:
नेपाल में लोकतंत्र की स्थापना –

  1. नेपाल में प्रारंभ में वर्षों तक राजतंत्र का शासन चलता रहा। यह राजतंत्र संवैधानिक था। जनता उत्तरदायी शासन की मांग कर रही थी परंतु राजा सेना की सहायता से इन आंदोलनों को दबा देता था।
  2. शीघ्र ही लोकतंत्र समर्थक आंदोलन ने भयंकर रूप धारण कर लिया जिसके आगे राजा को 1990 में झुकना पड़ा और उसे संविधान निर्माण की मांग स्वीकार करनी पड़ी और नेपाल में संसदीय सरकार बनी।
  3. परंतु यह सरकार बहुत दिनों तक काम न कर सकी।
  4. माओवादी, राजा और संसद के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह की योजना बनाने लगे। इस प्रकार नेपाल में त्रिकोणीय संघर्ष शुरू हो गया।
  5. 2002 में राजा ने संसद को भंग कर दिया और सरकार को गिरा दिया और इसी के साथ लोकतंत्र का अंत हो गया।
  6. अप्रैल 2006 में यहां देशव्यापी लोकतंत्र के समर्थन में आंदोलन हुए। फलस्वरूप राजा ज्ञानेन्द्र ने विवश होकर संसद को बहाल किया। इस प्रकार स्थापित लोकतंत्र आज भी जारी है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 8.
श्रीलंका में जातीय संघर्ष के क्या कारण हैं?
उत्तर:
श्रीलंका में जातीय संघर्ष के कारण –

  1. श्रीलंका में जातीय संघर्ष श्रीलंका सरकार और लिट्टे के मध्य है। यह श्रीलंका के एक विशेष भाग को एक अलग राष्ट्र के रूप में मांग कर रहा है।
  2. 1948 (आजादी) के बाद श्रीलंका की राजनीति पर बहुसंख्यक सिंहली समुदाय के हितों का नेतृत्व करने वाला प्रभुत्व थाः वे भारत में आये तमिल आबादी के खिलाफ थे और उन्हें श्रीलंका का नागरिक नहीं मानते थे।
  3. फलस्वरूप तमिल राष्ट्रवाद की आवाज बुलंद हुई 1983 के बाद से उग्र तमिल संगठन (Leberation Tigers of Tamil Elum) जिन्हें लिट्टे भी कहा जाता था, सेना के साथ संघर्ष कर रहा है।
  4. सिट्टे का श्रीलंका के उत्तर पूर्वी भाग पर कब्जा है। वे भारत-सरकार का भी सहयोग चाहते हैं।

प्रश्न 9.
श्रीलंका के जातीय संघर्ष में भारत की भूमिका बताइए।
उत्तर:
श्रीलंका के जातीय संघर्ष में भारत की भूमिका –

  1. तमिल ईलम (श्रीलंका के तमिल) इस संघर्ष में भारत सरकार का सहयोग चाहते हैं। भारत सरकार ने भी समय-समय पर श्रीलंका सरकार से वार्ता की है।
  2. 1987 में भारत सरकार लिट्टे के मुद्दे पर प्रत्यक्ष रूप से सामने आ गई।
  3. भारत सरकार ने श्रीलंका से एक समझौता किया। लिट्टे और श्रीलंका के बीच सामान्य संबंध स्थापित करने के लिए भारतीय सेना भेजी गई, जिसे शांति सेना’ कहा गया।
  4. श्रीलंका की जनता ने इसे पसंद नहीं किया और भारतीय सेना लिट्टे से युद्ध में फंस गयी।
  5. इस प्रकार शांति सेना को सफलता नहीं मिली और वह 1989 में वापस आ गई।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 10.
भारत और पाकिस्तान के बीच किन-किन मुद्दों पर मतभेद है।
उत्तर:
भारत और पाकिस्तान के बीच मतभेद के मुद्दे –

  1. भारत और पाकिस्तान के मध्य मतभेद का प्रमुख कारण कश्मीर है। दो युद्धों और अनेक वार्ताओं के बाद भी यह मतभेद बना हुआ है और दोनों कश्मीर पर अपने दावे करते हैं।
  2. सियाचिन गलेशियर पर नियंत्रण और हथियारों की होड़ के कारण भी दोनों के मध्य तनाव है।
  3. दोनों ने 1998 में एक साथ एक परमाणु परीक्षण किये हैं। दोनों के बीच प्रत्यक्ष युद्ध की संभावना तो कम है परंतु दोनों की सरकारें एक-दूसरे के प्रति आशंकित हैं।
  4. भारत का आरोप है कि पाकिस्तानी सरकार आतंकवाद को बढ़ावा दे रही है और आतंकवादियों की धन हथियार और सुरक्षा से मदद कर रही है। उसने खालिस्तान समर्थकों की भी 10 वर्षों से मदद की हैं इसी प्रकार का आरोप पाकिस्तान की सरकार भी लगाती है।
  5. नदी जल बंटवारे को लेकर भी इन दोनों के बीच तनाव है। इसमें सबसे विवादग्रस्त सिंघु नदी के उपयोग का है।

प्रश्न 11.
भारत सरकार बांग्लादेश से क्यों नाखुश है?
उत्तर:
भारत सरकार के बांग्लादेश से नाराज होने के कारण –

  1. भारत में अवैध आप्रवास पर ढाका के खंडन।
  2. भारत-विरोधी इस्लामी कट्टरपंथी जमातों का समर्थन।
  3. भारतीय सेना को भारत में ले जाने के लिए अपने इलाके से रास्ते देने से बांग्लादेश का इंकार।
  4. ढाका के भारत को प्राकृतिक गैस निर्यात न करने के फैसले तथा म्यांमार को बांग्लादेशी इलाके से होकर भारत की प्राकृतिक गैस निर्यात न करने देना।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 12.
भारत-नेपाल के विभेद को इंगित कीजिए।
उत्तर:
भारत और नेपाल के विभेद-यद्यपि नेपाल भारत का अच्छा मित्र है परंतु उनमें आपस में कुछ विभेद भी हैं जो निम्नलिखित हैं –

  1. चीन और नेपाल में दोस्ती है। इसलिए भारत ने अप्रसन्नता जतायी है।
  2. नेपाल सरकार भारत विरोधी तत्त्वों के खिलाफ कोई सख्त कदम नही उठाती है।
  3. भारत की सुरक्षा एजेंसिया नेपाल में चल रहे नक्सल आंदोलन से चिंतित है, क्योंकि भारत में उत्तर में बिहार से लेकर दक्षिण में आंध्र प्रदेश तक विभिन्न प्रांतों में नक्सलवादी समूहों का उभार हुआ है।
  4. नेपाल के लोग सोचते हैं भारत सरकार नेपाल के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रही है और उसके नदी जल तथा पनबिजली पर बगुला दृष्टि लगाये हैं।
  5. नेपाल को यह भी लगता है कि भारत उसको अपने भूक्षेत्र से होकर समुद्र तक पहुंचने से रोकता है।

प्रश्न 13.
भारत के भूटान के साथ संबंधों का विवेचन कीजिए।
उत्तर:
भारत के भूटान के साथ संबंध-भूटान भारत के उत्तर में हिमालय की श्रृंखलाओं में स्थित एक छोटा-सा राज्य है जिसका क्षेत्रफल कुल 4.7 हजार वर्ग किलोमीटर है। 1865 ई० में अंग्रेजों ने इस पर अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया था। अंग्रेजी सहयोग से ही 1907 में उस समय के राज्यपाल उग्यान वागचुक ने अपना राजतंत्र स्थापित कर लिया जो वंशानुसार रूप से आज भी जारी हैं 1940 ई० में भारत और भूटान के बीच एक संधि हुई जिसके अनुसान भारत भूटान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेगा और भूटान अपने विदेशी मामलों में भारत की सलाह के अनुसार कार्य करेगा।

1958 ई० में भारत ने भूटान को संयुक्त राष्ट्र का सदस्य बनाए जाने की सिफारिश की जो उसे 1971 में प्राप्त हुई। आज भूटान सार्क (SAARC) का एक सदस्य है। भूटान ने कई देशों से अपने राजनीतिक तथा आर्थिक संबंध भी स्थापित कर लिए है। आज भूटान में राजा सरकार तथा राज्य दोनों का अध्यक्ष है और उसे सलाह देने के लिए राष्ट्रीय सभा तथा मंत्रिपरिषद् की व्यवस्था है। भूटान में बौद्ध तथा हिंदू दो बड़ी जातियां है।

भारत ने भूटान के आर्थिक विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है और इसकी सभी योजनाएं भारतीय सहायता से बनी है। बेशक 1971 के बाद भूटान ने दूसरे देशों से भी सहायता लेनी आरंभ कर दी थी। इसके बावजूद आज भी भारतीय सहायता वहां के विकास कार्यों में सबसे अधिक है। भारत से भेजे गए हजारों विशेषज्ञ अधिकारी तथा श्रमिक आज भी भूटान के विकास कार्यों में सहायता प्रदान कर रहे हैं। भारत और भूटान के प्रारंभ से ही बहुत अच्छे आपसी संबंध रहे हैं। आज भी हैं और आगे भी रहने की संभावना है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 14.
भारत और बांग्लादेश के संबंध का विवेचना कीजिए।
उत्तर:
भारत और बांग्लादेश के संबंध-एक सम्प्रभु राज्य के रूप में बंग्लादेश का उदय 1971 में हुआ। 1947 में पाकिस्तान का निर्माण हुआ तो पश्चिमी और पूर्वी पाकिस्तान एक-दूसरे से 1000 मील की दूरी पर थे। पूर्वी पाकिस्तान क्षेत्रफल में पश्चिमी पाकिस्तान से छोटा परंतु जनसंख्या की दृष्टि से बड़ा था। पूर्वी पाकिस्तान के जूट का निर्यात करने से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती थी किंतु इससे प्राप्त आय पूर्वी पाकिस्तान के आर्थिक विकास में व्यय नहीं की जाती थी।

बंगला भाषा और बंगला मुस्लिम संस्कृति को गौण बना दिया। पाकिस्तान के दोनों भागों में तनाव रहने लगा। 1970 में शेख मुजीबुर्रहमान ने पूर्वी पाकिस्तान के लिए आरक्षित 169 सीटों में से 168 सीटें जीत लीं। लेकिन जुल्फीकार अली भुट्टो तथा पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी जिसमें पार्टी ने पाकिस्तान में बहुमत हासिल किया था, ने शेख मुजीब की सरकार नहीं बनने दी। करोड़ों शरणार्थी पूर्वी पाकिस्तान से भारत आ गए। दिसम्बर 1971 में भारत को पूर्वी पाकिस्तान की जनता के मुक्ति संग्राम के समर्थन में हस्तक्षेप करना पड़ा। परिणामस्वरूप बंग्लादेश का जन्म हुआ। भारत बांग्लादेश संबंधों में गंगा जल बँटवारा, बंग्लादेश की बाढ़ समस्या, चकमा शरणार्थी, बंग्लादेशी घुसपैठिये आदि समस्याएं दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव पैदा करती रहती है।

प्रश्न 15.
शिमला समझौते (1971) में कौन-सी शर्त थीं?
उत्तर:
शिमला समझौते की शर्ते –
शिमला समझौता-1971 के भारत:
पाक युद्ध की समाप्ति के बाद दोनों देशों में 1972 में शिमला समझौता हुआ था। इस समझौते में निम्न तथ्यों पर जोर दिया गया था –

  1. दोनों देश अपने परस्पर विवादों को शांतिपूर्ण उपायों से हल करेंगे।
  2. दोनों देश मैत्रीपूर्ण संबंधों को बढ़ावा देंगें।
  3. दोनों देश अपने मतभेदों को द्विपक्षीय बातचीत द्वारा दूर करेंगे अथवा उन शांतिपूर्ण उपायों से करेंगे जो दोनों को स्वीकार होगें।
  4. दोनों देश किसी की ऐसी सहायता नहीं करेंगे जिससे दोनों के संबंधों में कटुता आए।
  5. पंचशील के सभी नियमों का दोनों देश सम्मान करेंगे।
  6. यातायात संचार, संस्कृति, विज्ञान आदि में दोनों देश एक-दूसरे की सहायता व आदान प्रदान करेंगे।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 16.
दक्षेस या सार्क के मुख्य उद्देश्य क्या हैं?
उत्तर:
दक्षेस या सार्क क मुख्य उद्देश्य दक्षेस या सार्क के चार्टर में उसके निम्नलिखित उद्देश्य बताए गए हैं –

  1. दक्षिणी एशिया के लोगों के कल्याण की कामना करना और उनकी आजीविका स्तर में सुधार लाना।
  2. इस क्षेत्र में अधिक विकास, सामाजिक प्रगति तथा सांस्कृतिक उन्नति को प्राप्त करना और इस क्षेत्र में सभी व्यक्तियों के लिए प्रतिष्ठा के अवसर देना ताकि लोग अपनी सभी क्षमताओं को प्राप्त कर सकें।
  3. दक्षिणी एशिया के देशों में सामूहिक आत्मविश्वास का समर्थन करना तथा उसे बढ़ावा देना।
  4. एक-दूसरे की समस्याओं को पारस्परिक विश्वास और सूझ-बूझ से हल करना।
  5. दक्षेस जैसे उद्देश्यों के हेतु बनी अन्य अन्तर्राष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय संस्थाओं के साथ सहयोग करना।
  6. अन्य विकासशील देशों के साथ सहयोग को बढ़ावा।

प्रश्न 17.
सार्क (SAARC) के कौन-कौन से कार्य हैं?
उत्तर:
सार्क (SAARC) के निम्न कार्य हैं –

  1. सदस्य देशों में जीवन स्तर को सुधार कर जनकल्याण के कार्यक्रम बनाना।
  2. दक्षिणी एशियाई प्रदेश में सामाजिक प्रगति एवं सांस्कृतिक उन्नति करना।
  3. सदस्य देशों में आत्मविश्वास को बढ़ावा देना।
  4. सभी विकासशील देशों के साथ सहयोग बढ़ाना।
  5. सदस्य देशों की समस्याओं को पारस्परिक एवं सूझबूझ के द्वारा सुलझाना।
  6. अन्य अंतर्राष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय संस्थाओं के साथ सहयोग करना।
  7. सदस्य देशों के बीच वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति का आदान प्रदान करना।
  8. आतंकवाद और नशीली वस्तुओं की तस्करी पर प्रतिबंध लगाना।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न एवं उनके उत्तर

प्रश्न 1.
पाकिस्तान के साथ भारत के संबंधों को किस प्रकार सुधारा जा सकता है?
उत्तर:
भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के कारण –
1. पाकिस्तान भारत के अभिन्न अंग के रूप में कश्मीर को नहीं स्वीकार करता है। वह कश्मीर के भारत में वैध विलय को नहीं मानता है।

2. सितंबर 1965 में जम्मू कश्मीर के छंब क्षेत्र पर पाकिस्तान ने हमला बोल दिया। ताशकंद समझौते के अनुसार दोनों देशों ने एक-दूसरे के क्षेत्र खाली कर दिए और यह घोषणा भी कि गई कि दोनों देश आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत बनाने की कोशिश करेंगे।

3. बांग्लादेश जो उस समय पाकिस्तान का एक अंग था, पाकिस्तान के फौजी डिक्टेटर याह्या खां के जुल्मों का शिकार बना हुआ था। बांग्लादेश के लोगों ने शेख मुजीबुर्रहमान के नेतृत्व में अपनी आजादी की घोषणा कर दी। पाकिस्तान ने मुक्त आंदोलन को बर्बरता से कुचलना चाहा। 1968-70 के दौरान करीब एक करोड़ शरणार्थी बांग्लादेश से भारत आए। 1971 में पाकिस्तान ने भारत के कई हवाई अड्डों पर धावा बोल दिया। भारत-पाक युद्ध सिर्फ दो सप्ताह चला पर वह निर्णायक सिद्ध हुआ। पूर्वी बंगाल स्वतंत्र बांग्लादेश के रूप में उदित हुआ।

शिमला समझौता:
1972 में भारत और पाकिस्तान के बीच शिमला समझौता (Shimla Agreement – 1972) हुआ। यह घोषणा की गई कि दोनों देशों की सेनाएं युद्ध से पहले की सीमाओं में लौट जाएंगी तथा दोनों देश आपसी विवादों के निपटारे के लिए शक्ति का इस्तेमाल नहीं करेंगें। शिमला समझौते की दो अन्य शर्ते ये थीं कि –

  1. दोनों देशों के बीच डाक-तार सेवा व संचार व्यवस्था फिर से बहाल की जाएगी, तथा
  2. आर्थिक व सांस्कृतिक क्षेत्रों में दोनों देश एक-दूसरे को मदद देंगें। 1975 में भारत और पाकिस्तान ने आपस में वस्तुओं का आयात-निर्यात शुरू कर दिया।

पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को आश्रय (Pakistan’s Support to Terrorism):
पाकिस्तान ने आतंकवादियों को न केवल आश्रय दिया बल्कि प्रशिक्षण भी दिया है। आतंकवादियों की मार्फत पाकिस्तान ने पंजाब और जम्मू कश्मीर में अशांति का दौर पैदा किया और आम लोगों के जान-माल को भारी क्षति पहुंचाई। कश्मीर घाटी में आतंक फैलाने की सारी योजनाएं पाक कब्जे वाले कश्मीर में बनती है और वह उन्हें सीमा के इस पार लागू करवाता रहता है। फरवरी 1999 में भारत के प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान का दौरा किया।

पिछले 10 वर्षों में भारत के किसी प्रधानमंत्री की यह पहली यात्रा थी। प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पाकिस्तान के साथ सहयोग का एक मजबूत ढांचा खड़ा करने की कोशिश की पर शीघ्र ही उनका यह प्रयास उस समय धूल में मिल गया जब मई 1999 में पाकिस्तान के सैनिकों द्वारा कारगिल क्षेत्र में भारी घुसपैठ की घटना घटी। भारत ने इसके खिलाफ आपरेशन विजय अभियान शुरू किया। युद्ध मोर्चे पर भारी पराजय और अंतर्राष्ट्रीय दबाव के कारण पाकिस्तान को नियंत्रण रेखा से पीछे हटना पड़ा।

दिसंबर 1999 में इंडियन एयरलाइंस के एक विमान का अपहरण किया गया। आतंकवादी इसे कंधार ले गए। भारत सरकार ने तीन आतंकवादियों को रिहा कर इस विमान के यात्रियों को बचाया। कारगिल की घुसपैठ हो या इंडियन एयरलाइंस के विमान का अपहरण ऐसी घटनाओं के लिए पाकिस्तान जिम्मेदार है।

आगरा शिखर वार्ता (AgraSummit):
12 अक्टूबर, 1999 से पाकिस्तान में एक सैनिक सरकार है। आतंकवादियों को लगातार मदद देते रहने के कारण भारत-पाकिस्तान के संबंध बहुत नाजुक स्थिति में पहुंच चुके है। जुलाई 2001 में प्रधानमंत्री वाजपेयी व पाकिस्तान के शासन परवेज मुशर्रफ के बीच आगरा में शिखर स्तर की वार्ता हुई। इस वार्ता का कोई सुखद परिणाम सामने नहीं आया। आतंकवादियों ने 11 अक्टूबर, 2001 को जम्मू कश्मीर विधानसभा भवन पर धावा बोल दिया, जिसमें 26 व्यक्ति मारे गए और 60 से ज्यादा लोग घायल हो गए। 13 दिसंबर, 2001 को आतंकवादियों ने संसद भवन को निशाना बनाया। भारत ने संसद भवन पर हमले के लिए पाकिस्तान को दोषी ठहराया है।

आपसी रिश्तों को बेहतर बनाने के उपाए:
भारत पाकिस्तान दोनों पड़ोसी देश है। पाक का जन्म 1947 में भारत से ही हुआ था किंतु प्रारंभ से ही इन दोनों के संबंध अच्छे नहीं रहे। कश्मीर को लेकर 1948 में दोनों देशों के बीच युद्ध हुआ। 1965 तथा 1971 में भी भारत तथा पाकिस्तान के बीच युद्ध हुए। इसके पश्चात् शिमला समझौता हुआ जिसमें दोनों देशों के संबंधों को सुधारने के लिए महत्त्वपूर्ण निर्णय लिये गये। किंतु पाकिस्तान भारत में आतंकवाद को निरन्तर सहायता प्रदान करता रहा।

1998 में भारत में परमाणु परीक्षण से पाकिस्तान अत्यंत भयभीत हो गया। भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इस परीक्षण का स्पष्टीकरण एवं उद्देश्य विश्व के सामने पहले ही कर दिया था। भारतीय जनता पार्टी की सरकार पाकिस्तान के साथ अपने संबंधों को सुधारने के लिए सदैव प्रयत्नशील रही है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री श्री नावज शरीफ ने भी भारत के साथ अपने संबंध सुधारने के लिए अपनी इच्छा प्रकट की थी। पारस्परिक संबंधों को सुधारने के लिए कई बार सचिव, विदेशमंत्री तथा प्रधानमंत्री स्तर पर खुलकर बातचीत हुई। दोनों देश के बीच व्यापार बढ़ाने का प्रयत्न किया गया।

इस संदर्भ में दोनों देशों के बीच बस यात्रा करने का प्रयत्न किया गया। 20 फरवरी, 1999 में श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पाकिस्तान की बस यात्रा की। बाघा चौकी को पार करने पर श्री वाजपेयी का भव्य स्वागत हुआ। यह यात्रा एक ऐतिहासिक अद्वितीय घटना सिद्ध हुई। 21 फरवरी, 1999 को भारत-पाक के बीच लाहौर समझौता हुआ।

इसके अंतर्गत कश्मीर समेत सभी समस्याओं को सुलझाने का प्रयत्न किया गया है। इस ऐतिहासिक कदम की अमरीका, ब्रिटेन, चीन, जापान सहित सारे विश्व ने भूरि-भूरि प्रशंसा की। इस घटना का दोनों देशों की जनता ने हार्दिक स्वागत किया। 16 मार्च, 1999 को दिल्ली तथा लाहौर के बीच नियमित बस सेवा आरंभ हो गई। इस बस सेवा से दोनों देश एक-दूसरे के अधिक निकट हो जायेंगें। अन्ततः हाल की घटनाएं भारत तथा पाक के संबंधों को सुधारने की ओर संकेत कर रही है।

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 2.
भारत-श्रीलंका समझौता (1987) का विवरण दीजिए।
उत्तर:
भारत श्रीलंका समझौता (1987)-जुलाई 1987 में वहां के तमिलों की समस्या को सुलझाने के लिए भारत-श्रीलंका का समझौता हुआ। इस समझौते के प्रमुख प्रावधान निम्नलिखित थे –

  1. उत्तरी व पूर्वी जिन दो प्रदेशों को, जहां तमिल बहुसंख्यक हैं एकीकृत क्षेत्र बनाया जाएगा।
  2. उपरोक्त क्षेत्र में विधान सभा की स्थापना की जाएगी तथा लोकप्रिय सरकार गठित की जाएगी।
  3. जनमत संग्रह के माध्यम से यह ज्ञात किया जाएगा कि ये दोनों प्रान्त विलय के पक्ष में हैं या नहीं। यदि ने प्रान्त इसके विरुद्ध निर्णय देते हैं तो इनकी अलग ही सरकारें रहेंगी। जनमत संग्रह 1988 तक करा लिया जाना तय हुआ।
  4. यदि तमिल उग्रवादी इस समझौते के विरुद्ध सशस्त्र संघर्ष बन्द नहीं करते तो श्रीलंका सरकार शांति स्थापना के लिए भारतीय सेना को आमन्त्रित कर सकती है।
  5. श्रीलंका की अखण्डता पर सहमति व्यक्त की गई।

उपरोक्त समझौते के बाद भारतीय सेना श्रीलंका के निमंत्रण पर वहां गई। सेना ने सराहनीय कार्य किया। श्रीलंका के उत्तरी व पूर्वी प्रान्तों में लोकप्रिय सरकारें बनी। तामिल उग्रवादी बाद में भी संघर्ष करते रहे। श्रीलंका की जनता के दबाव में आकर वहां की सरकार ने भारत से जुलाई 1989 तक सेना वापिस बुलाने का आग्रह किया। भारत सरकार का कहना था कि बिना शांति स्थापित किए सेना की वापसी उचित नहीं है किंतु अन्ततः मार्च 1990 तक भारतीय शांति सेना वापिस बुला ली गई। भारत की तमिलों के विरुद्ध सैनिक कार्यवाही से तमिल समाज में भारत सरकार के प्रति रोष उत्पन्न हो गया। भारत के प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की हत्या इसी पृष्ठभूमि में रचित षडयंत्र का परिणाम थी। आज कल भी दोनों के संबंध मधुर बने हुए हैं।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न एवं उनके उत्तर

I. निम्नलिखित विकल्पों में सही विकल्प का चुनाव कीजिए –

प्रश्न 1.
निम्नलिखित कौन-सा देश दक्षिण एशिया में नहीं है?
(अ) भारत
(ब) चीन
(स) भूटान
(द) श्रीलंका
उत्तर:
(ब) चीन

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 2.
निम्नलिखित में कौन-सा देश परमणु शक्ति सम्पन्न नहीं है।
(अ) भारत
(ब) पाकिस्तान
(स) चीन
(द) नेपाल
उत्तर:
(द) नेपाल

प्रश्न 3.
निम्नलिखित में किस देश में 2006 तक राजतंत्र था?
(अ) भारत
(ब) पाकिस्तान
(स) मालदीव
(द) नेपाल
उत्तर:
(द) नेपाल

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 4.
किस देश में अब भी राजतंत्र है?
(अ) भारत
(ब) पाकिस्तान
(स) भूटान
(द) नेपाल
उत्तर:
(स) भूटान

प्रश्न 5.
दक्षिण एशिया में किस राजनीतिक प्रणाली की प्रमुखता है?
(अ) लोकतंत्र
(ब) राजतंत्र
(स) तानाशाही
(द) अलग-अलग
उत्तर:
(अ) लोकतंत्र

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 6.
भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु नदी जल संधि कब हुई?
(अ) 1958
(ब) 1959
(स) 1960
(द) 1961
उत्तर:
(स) 1960

प्रश्न 7.
बांग्लादेश के नेताओं द्वारा आजादी की उद्घोषणा कब हुई।
(अ) मार्च 1970
(ब) मार्च 1971
(स) मार्च 1972
(द) मार्च 1973
उत्तर:
(ब) मार्च 1971

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 8.
पाकिस्तान के प्रथम सैनिक शासन का मुखिया कौन था?
(अ) जनरल अयूब खान
(ब) जनरल याहिया खान
(स) जनरल जिया-उल-हक
(द) परवेज मुशर्रफ
उत्तर:
(अ) जनरल अयूब खान

प्रश्न 9.
पूर्वी पाकिस्तान में कौन सी भाषा लोकप्रिय थी?
(अ) हिंदी
(ब) उर्दू
(स) बंगाली
(द) उड़िसा
उत्तर:
(स) बंगाली

Bihar Board Class 12 Political Science Solutions Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

प्रश्न 10.
निम्नलिखित में कौन-सा देश ‘सेवेन पार्टी अलाएंस’ में नहीं था?
(अ) भारत
(ब) चीन
(स) श्रीलंका
(द) भूटान
उत्तर:
(ब) चीन

प्रश्न 11.
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद किया अधिक है?
(अ) भारत
(ब) श्रीलंका
(स) नेपाल
(द) भूटान
उत्तर:
(ब) श्रीलंका

II. मिलान वाले प्रश्न एवं उनके उत्तर

निम्नलिखित स्तंभ (अ) का मिलान स्तंभ (ब) से कीजिए।
Bihar Board Class 12 Political Science Solutions chapter - 5 समकालीन दक्षिण एशिया Part - 1 img 1
उत्तर:
(1) – (viii)
(2) – (i)
(3) – (x)
(4) – (iv)
(5) – (ix)
(6) – (ii)
(7) – (vii)
(8) – (iii)
(9) – (v)
(10) – (vi)

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Bihar Board 12th English Objective Questions and Answers 

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 1.
‘David Copperfield’ has been written by
(A) Charles Dickens
(B) G.B. Shaw
(C) William Shakespeare
(D) None of these
Answer:
(A) Charles Dickens

Question 2.
Why does David go to Yarmouth ?
(A) To go to school
(B) To visit Peggotty’s family
(C) To visit his aunt
(D) To find a wife
Answer:
(B) To visit Peggotty’s family

Question 3.
What happens while David is in yarmouth with Peggotty ?
(A) His aunt dies
(B) His mother marries Mr. Murdstone
(C) His mother has a baby
(D) He gets sick
Answer:
(B) His mother marries Mr. Murdstone

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 4.
What kind of step father is Mr. Murdstone
(A) Kind
(B) Generous
(C) Strict
(D) Loving
Answer:
(C) Strict

Question 5.
David endured all sufferings at Salem house because of his friendship with two boys
(A) Jack and Jill
(B) Tommy and Ronny
(C) Tommy and Steerforth
(D) Johny and Sunny
Answer:
(C) Tommy and Steerforth

Question 6.
David’s school education ended with
(A) death of his mother
(B) death of his step-father
(C) death of his uncle
(D) death of his brother
Answer:
(A) death of his mother

Question 7.
David copperfield is the ………… novel by Charles Dickens
(A) sixth
(B) eight
(C) fourth
(D) none of these
Answer:
(B) eight

Question 8.
David Copperfield was published in
(A) 1902
(B) 1850
(C) 1912
(D) 1875
Answer:
(B) 1850

Question 9.
David Copperfield was bom in
(A) Blunderstone
(B) Derbyshire
(C) Glumorgan
(D) Warwickshire
Answer:
(A) Blunderstone

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 10.
His (David) mother marries to Edward Murdstone when he was
(A) Seven years old
(B) Ten years old
(C) Twelve Years old
(D) None of these
Answer:
(A) Seven years old

Question 11.
was Murdstone’s
(A) wife
(B) sister
(C) aunt
(D) None of these
Answer:
(B) sister

Question 12.
David was married to
(A) Dora Spenlow
(B) Besty Trotwood
(C) Jane
(D) None of these
Answer:
(A) Dora Spenlow

Question 13.
David lived a happy conjugal (married) life with
(A) Jane
(B) Agnes
(C) B. Trotwood
(D) None of these
Answer:
(B) Agnes

Question 14.
Clara Copperfield was David’s
(A) mother
(B) sister
(C) aunt
(D) none of these
Answer:
(A) mother

Question 15.
Who was the faithful servant of the copperfield family ?
(A) Clara Peggotty
(B) Murstone
(C) Uriah heep
(D) None of these
Answer:
(A) Clara Peggotty

Question 16.
Mr. Barkis was the husband of
(A) Peggotty
(B) Dora
(C) Agnes
(D) none of these
Answer:
(A) Peggotty

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 17.
Emily was a childhood friend of
(A) David
(B) Murdstone
(C) Daniel Peggotty
(D) None of these
Answer:
(A) David

Question 18.
John Dickens was the father of
(A) Chrales Dickens
(B) Murdstone
(C) David Copperfield
(D) None of these
Answer:
(A) Chrales Dickens

Question 19.
Wilkins Micawber was a friend of .
(A) David Copperfield
(B) Murdstone
(C) Uriah Heep
(D) None of these
Answer:
(A) David Copperfield

Question 20.
Emma Micawber was the wife of
(A) Wilkins Micawber
(B) David
(C) Uriah Heep
(D) None of these
Answer:
(A) Wilkins Micawber

Question 21.
Mr. Wickfield was the father of
(A) Agnes Wickfield
(B) Dora Spenlow
(C) C. Peggotty
(D) None of these
Answer:
(A) Agnes Wickfield

Question 22.
“Loving heart was better and stronger than wisdom” is a famous quote from chapter …….. of the David Copperfield.
(A) 9 th
(B) 12 th
(C) 13 th
(D) 18th
Answer:
(A) 9 th

Question 23.
Charles Dickens was born on
(A) Feb 7, 1812
(B) Feb 9, 1814
(C) Feb 7,1815
(D) Feb 7, 1912
Answer:
(A) Feb 7, 1812

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 24.
“A man must take the fat with the lean” is a famous quote from
(A) David Copperfield
(B) Hamlet
(C) Pride and Prejudes
(D) None of these
Answer:
(A) David Copperfield

Question 25.
“Trifles make the sum of life” is quoted in the
(A) Chapter 53
(B) Chapter 61
(C) Chapter 60
(D) None of these
Answer:
(A) Chapter 53

Question 26.
“The labour is so pleasant” said Agnes, “that it is scarcely grateful in me to call it by that name” is quoted in
(A) Chapter 60
(B) Chapter 51
(C) Chapter 06
(D) None of these
Answer:
(A) Chapter 60

Question 27.
Agnes is David’s wife.
(A) first
(B) second
(C) third
(D) fourth
Answer:
(B) second

Question 28.
How long after his father’s death is David born
(A) Four months
(B) One day
(C) Two weeks
(D) six months
Answer:
(D) six months

Question 29.
What about David’s birth offends his great aunt, Miss Betsy Trotwood
(A) David cries when Miss Besty holds him
(B) The fact that he is not a girl
(C) The fact that he is ugly
(D) His mother asks Miss Betsy to leave
Answer:
(B) The fact that he is not a girl

Question 30.
Who begins to court David’s mother ?
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Micawber
(C) Mr. Copperfield
(D) Mr. Murdstone
Answer:
(D) Mr. Murdstone

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 31.
What does Peggotty object to ?
(A) David going to school
(B) Mr. Murdstone courting David’s mother
(C) Working late
(D) Miss Betsy moving in
Answer:
(B) Mr. Murdstone courting David’s mother

Question 32.
David was sent to work for long hours in …….. of Murdstone and Grinby:
(A) Coffee house
(B) Ware house
(C) Tea-club
(D) Textile factory
Answer:
(B) Ware house

Question 33.
After leaving ware house job, David went to live with his great aunt betsy Trotwood’s who live in
(A) London
(B) Oxford
(C) Derbyshire
(D) Dover
Answer:
(D) Dover

Question 34.
David was very happy when Betsy Trotwood decided to send him to a good school in :
(A) Salisbury
(B) Canterbury
(C) Cambridge
(D) London
Answer:
(B) Canterbury

Question 35.
During his school days, David live with Betsy’s lawyer
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. Bluefield
(C) Mr. Jamesfield
(D) None of these
Answer:
(A) Mr. Wickfield

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 36.
At Mr. Wickfield’s house David met ………….. who was Mr. Wickfield’s clerk
(A) Mr. Peggotty
(B) Uriah Heep
(C) Mr. Creakle
(D) James Steerforth
Answer:
(B) Uriah Heep

Question 37.
Mr. Creakle was :
(A) a ruthless headmaster
(B) a painter
(C) an actor
(D) none of these
Answer:
(A) a ruthless headmaster

Question 38.
C. Peggotty was married to
(A) Mr. Barkis
(B) W. Micawber
(C) David
(D) None of these
Answer:
(A) Mr. Barkis

Question 39.
Betsey Trotwood was David’s
(A) aunt
(B) daughter
(C) servant
(D) None
Answer:
(A) aunt

Question 40.
Uriah Heep was sent to jail for attempting to defrand the
(A) Bank of England
(B) Bank of America
(C) Bank of Japan
(D) None of these
Answer:
(A) Bank of England

Question 41.
Doctor Strong was David’s
(A) teacher
(B) friend
(C) uncle
(D) none of these
Answer:
(A) teacher

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 42.
Mr. Barkis bequeaths to his wife an astronomical sum of
(A) £3000
(B) £ 2000
(C) £ 4000
(D) None of these
Answer:
(A) £3000

Question 43.
Who is the main antagonist of the first half of the novel ?
(A) Edward Murstone
(B) Micawber
(C) David
(D) None of these
Answer:
(A) Edward Murstone

Question 44.
Edward Murdstone was the step father of
(A) David
(B) Uriah Heep
(C) Dora
(D) None of these
Answer:
(A) David

Question 45.
Uriah Heep is the clerk of …………….
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. Micawber
(C) Besty Trotwood
(D) Clara Peggotty
Answer:
(A) Mr. Wickfield

Question 46.
Clara Peoggotty was a ……………. in the house of David Copperfieid.
(A) watchman
(B) servant
(C) aunt
(D) electrician
Answer:
(B) servant

Question 47.
How many novels Charles Dickens wrote
(A) 15
(B) 10
(C) 12
(D) None
Answer:
(A) 15

Question 48.
Which novel of Charles Dickens is based on his real life story
(A) David Copperfieid
(B) Pickwick Papers
(C) Oliver Twist
(D) Great Expectations
Answer:
(A) David Copperfieid

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 49.
Jane Murdstone was the confidential friend of
(A) Dora Spenlow
(B) Agnes
(C) Daniel Peggotty
(D) None of these
Answer:
(A) Dora Spenlow

Question 50.
Daniel Peggotty was a
(A) Painter
(B) Fisherman
(C) Actor
(D) None of these
Answer:
(B) Fisherman

Question 51.
Who is the main antagonist of the novel’s second half
(A) Uriah Heep
(B) Wilkins Micawber
(C) Mr. Wickfield
(D) None of these
Answer:
(A) Uriah Heep

Question 52.
Uriah Heep nurtures a deep hatred for
(A) David Copperfieid
(B) Murdstone
(C) Dr. Strong
(D) None of these
Answer:
(A) David Copperfieid

Question 53.
Francis spenlow was the father of
(A) Dora spenlow
(B) Agnes Wickfield
(C) Daniel Peggotty
(D) None of these
Answer:
(A) Dora spenlow

Question 54.
Who was a poor teacher at Salem House ?
(A) Mr. Mell
(B) Dr. Strong
(C) Murdstone
(D) None of these
Answer:
(A) Mr. Mell

Question 55.
Mr. Sharp was the chief teacher of
(A) Salem House
(B) Trotwood’s house
(C) Micawber’s House
(D) None of these
Answer:
(A) Salem House

Question 56.
Who said, “It is only my child-wife” ?
(A) David
(B) Uriah Heep
(C) Micawber
(D) None of these
Answer:
(A) David

Question 57.
Why does David go to yarmouth?
(A) to go to school
(B) to visit his aunt
(C) to mid a wife
(D) to visit peggotty’s family
Answer:
(D) to visit peggotty’s family

Question 58.
What kind of step-father is Mr. Vlurdstone?
(A) Kind
(B) strict
(C) generous
(D) loving

Question 59.
David Copperfield was born in –
(A) Derbyshire
(B) Glumorgan
(C) Blunderstone
(D) None of these
Answer:
(C) Blunderstone

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 60.
Jane was Murdstone’s –
(A) Wife
(B) Sister
(C) aunt
(D) None of these
Answer:
(B) Sister

Question 61.
Mr. Creakle was –
(A) a painter
(B) an actor
(C) a cruel headmaster
(D) None of these

Question 62.
Peggotty was married to —
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Barkis
(C) David
(D) None of these

Question 63.
David lived a happy conjugallife with—
(A) Jane
(B) B. Trotwood
(C) Agnes
(D) None of these

Question 64.
W ho was the faithful servant of the copperfield family?
(A) Murdstone
(B) Clara Peggotty
(C) Uriah Heep
(D) None of these
Answer:
(B) Clara Peggotty

Question 65.
Who is the main antagonist of the first half of the novel?
(A) David
(B) Micawber
(C) Edward Murdstone
(D) None of these
Answer:
(C) Edward Murdstone

Question 66.
Jane Murdstone was the confidential friend of—
(A) Dora spenlow
(B) Daniel Peggotty
(C) Agens
(D) None of these
Answer:
(A) Dora spenlow

Question 67.
Daniel Peggotty was a —
(A) painter
(B) fisherman
(C) actor
(D) None of these
Answer:
(B) fisherman

Question 68.
Emily was a childhood friend of—
(A) Murdstone
(B) Daniel Peggotty
(C) David
(D) None of these
Answer:
(C) David

Question 69.
Mr. Micawber was friend of—
(A) David-Copperfield
(B) Murdstone
(C) Uriah Heep
(D) None of these
Answer:
(A) David-Copperfield

Question 70.
Who is the main antagonist of the novel’s half?
(A) Mr. Wickfield
(B) Uriah Heep
(C) Mr. Micawber
(D) None of these
Answer:
(B) Uriah Heep

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 71.
Who was a poor teacher at Salem House?
(A) Mr. Melt
(B) Dr. Strong
(C) Murdstone
(D) None of these
Answer:
(A) Mr. Melt

Question 72.
“A man must take the fat with the lean” is a famous quote from—
(A) Hamlet
(B) David Copperfield
(C) Pride and Prejudes
(D) None of these
Answer:
(B) David Copperfield

Question 73.
‘David Copperfield’ is a novel about ……….. psychology.
(A) adult
(B) female
(C) child
(D) old
Answer:
(C) child

Question 74.
Which novel of Charles Dicknes is based on his real life story—
(A) Oliver Twist
(B) Pickwick Papers
(C) Great Expectations
(D) David Copperfield
Answer:
(D) David Copperfield

Question 75.
Agnes is David’s ………… wife.
(A) first
(B) second
(C) third
(D) fourth
Answer:
(B) second

Question 76.
How many novels Charles Dicknes wrote? –
(A) 10
(B) 12
(C) 15
(D) None of these
Answer:
(C) 15

Question 77.
David Copperfield was published in —
(A)1840
(B) 1845
(C) 1850
(D) 1855
Answer:
(C) 1850

Question 78.
David copperfield was published in –
(A) 1840
(B) 1845
(C) 1850
(D) 1855
Answer:
(C) 1850

Question 79.
The family doctor of Copperfield’s family—
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Mell
(C) Mr. Wickfield
(D) Mr. Chillip
Answer:
(D) Mr. Chillip

Question 80.
Who was David’s early nurse?
(A) Agnes Wickfield
(B) Uriah Heep
(C) Micawber
(D) Clara Peggotty
Answer:
(D) Clara Peggotty

Question 81.
David revolted against-
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Murdstone
(C) Mr. Mell
(D) Mr.Barkis

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 82.
Clara Peggottv’s nephew was —
(A) Tommy
(B) Creakle
(C) Ham
(D) None of these

Question 83.
Who was the emplovee of a wine-factory?
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Barkis
(C) Mr. Steerforth
(D) Mr. Micawber

Question 84.
Who begins to court David’s mother ?
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Creakle
(C) Mr. Murdstone
(D) None of these

Question 85.
Dr. Strong w as David’s
(A) teacher
(B) friend
(C) uncle
(D) None of these

Question 86.
John Dickens was the father of—
(A) Murdstone
(B) David Copperfield
(C) Charles Dicknes
(D) None of these
Answer:
(C) Charles Dicknes

Question 87.
Emma Micawber was the wife of— .
(A) Uriah Heep
(B) Wilkins Micawber
(C) David
(D) None of these
Answer:
(B) Wilkins Micawber

Question 88.
David Copperfield’s aunt is – [2018 A, I.A.]
(A) Betsey Trotwood
(B) Uriah Heep
(C) Clara Peggotty
(D) Agnes Wickfield
Answer:
(A) Betsey Trotwood

Question 89.
Mr. Wickfield suffers from — [2018 A, I.A.]
(A) Insomnia
(B) Cancer
(C) Chronic Willness
(D) Alcoholism
Answer:
(D) Alcoholism

Question 90.
What is the name of David’s house? 12018 A, LA. j
(A) Yarmouth
(B) Blundstone Roobery
(C) Salem House
(D) Limestone Aviary
Answer:
(B) Blundstone Roobery

Question 91.
David Copperfield is a novel written by-
(A) William Shakespeare
(B) Thomas Hardy
(C) Charles Dickens
(D) Henry james
Answer:
(C) Charles Dickens

Question 92.
Charles Dickens has written the noyel-
(A) David Copperfield
(B) Pamela
(C) The Old Man and The Sea
(D) The Portrait of a Lady
Answer:
(A) David Copperfield

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 93.
Who is the hero of the novel’David Copperfield’?
(A) Uriah Heep
(B) David Copperfield
(C) Mr. Micawber
(D) None of them
Answer:
(B) David Copperfield

Question 94.
Who is the villain of the novel’David Copperfield’?
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Murdstone
(C) David Copperfield
(D) Uriah Heep
Answer:
(D) Uriah Heep

Question 95.
Mr. Murdstone is the step-father of-
(A) Uriah Heep
(B) Mr. Micawber
(C) David Copperfield
(D) None of them Ans. (C)

Question 96.
Mr. Murdstone is the of David.
(A) watchman
(B) servant
(C) aunt
(D) step-father
Answer:
(D) step-father

Question 97.
Uriah Heep is the clerk of-
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. Micawber
(C) Betsy Trotwood
(D) Clara Peggotty
Answer:
(A) Mr. Wickfield

Question 98.
David endured all suffering at Salem House because of his friendship with two boys
(A) Jack and Jill
(B) Tommy and Ronny
(C) Tommy and Steerforth
(D) Johny and Sunny
Answer:
(C) Tommy and Steerforth

Question 99.
David’s school education ended with the—
(A) death of his mother
(B) death of his step-father
(C) death of his uncle
(D) death of his brother
Answer:
(A) death of his mother

Question 100.
Mr. Micawber is a
(A) farmer
(B) social worker
(C) businessman
(D) principal
Answer:
(C) businessman

Question 101.
Miss Clara Peggotty is the servant of—
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Wickfield
(C) Mr. Dick
(D) David
Answer:
(D) David

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 102.
Barkis is the husband of-
(A) Dora Spenlow
(B) Agnes
(C) Clara Peggotty
(D) None of them
Answer:
(C) Clara Peggotty

Question 103.
Agnes is the daughter of-
(A) Mr. Murdstone
(B) Mr. Wickfield
(C) Mr. Micawber
(D) Mr.dick

Question 104.
Agnes is the second wife of-
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Micawber
(C) David
(D) Barkis
Answer:
(C) David

Question 105.
Dora is the daughter of-
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. creakle
(C) Mr. Micawber
(D) Mr.spenlow
Answer:
(D) Mr.spenlow

Question 106.
Dora is the first wife of-
(A) Mr. Wickfield
(B) David
(C) Mr. Micawber
(D) None of them

Question 107.
Miss Lane Murdstone is the sister of-
(A) Mr. Murdstone
(B) Mr. Dick
(C) Mr. Micawber
(D) David

Question 108.
Mr. Dick is the secretary of-
(A) Mr. Creakle
(B) Uriah Heep
(C) Miss Trotwood
(D) Mrs. Copperfield
Answer:
(C) Miss Trotwood

Question 109.
Mrs Copperfield is the mother of-
(A) Mr. Barlas
(B) Mr. Creakle
(C) Mr. Dick
(D) David

Question 110.
Tommy is a sincere friend of-
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Spenlow
(C) David
(D) Uriah Heep

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 111.
David was sent to work for long hours …………….. of Murdstone and Grinby.
(A) coffee house
(B) ware house
(C) tea-club
(D) textile factory
Answer:
(B) ware house

Question 112.
After leaving warehouse-job, David went to live with his great aunt Betsy Trotwood who lived in—
(A) London
(B) Oxford
(C) Derbyshire
(D) Dover
Answer:
(D) Dover

Question 113.
David was very happy when Besty decided to send him to a good school in-
(A) Salisbury
(B) Canterbury
(C) Cambridge
(D) London

Question 114.
David was tortured by
(A) Mr. Murdstone
(B) Mr.Creakle
(C) Both of them
(D) None of them
Answer:
(C) Both of them

Question 115.
Besty Trotwood is the aunt of –
(A) Peggotty
(B) Agnes
(C) Mr. Dick
(D) Davild
Answer:
(D) Davild

Question 116.
During his school days, David liked with Besty’slawyer-
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. Jamesfield
(C) Mr. Bloomfield
(D) None of them
Answer:
(A) Mr. Wickfield

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 117.
At Mr. Wickfield’s house David met-who was Mr. Wickfield’s clerk.
(A) Mr. Peggoty
(B) Uriah Heep
(C) Mr. Creakle
(D) James Steerforth
Answer:
(B) Uriah Heep

Question 118.
David was born-after his father’s death.
(A) four months
(B) six months
(C) eight months
(D) ten months
Answer:
(B) six months

Question 119.
David was brought up by-
(A) Besty Trotwood
(B) Miss Lane Murdstone
(C) Miss Clara Paggotty
(D) None of them
Answer:
(C) Miss Clara Paggotty

Question 120.
David was born after the death of his-
(A) aunt
(B) father
(C) nurse
(D) None of them
Answer:
(B) father

Question 121.
David was the nephew of-
(A) Betsy Trotwood
(B) Paggotty
(C) Dora
(D) Agnes
Answer:
(A) Betsy Trotwood

Question 122.
David was the husband of-
(A) Dora
(B) Agnes
(C) Both of them
(D) None of them
Answer:
(C) Both of them

Question 123.
Mr. Murdstone was a very-
(A) kind man
(B) cruel man
(C) gentle man
(D) None of them
Answer:
(B) cruel man

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 124.
All Salem House David was tortured by-
(A) Mr. creakle
(B) Mr. Murdstone
(C) Mr. Dick
(D) Streeforth
Answer:
(A) Mr. creakle

Question 125.
Who was arrested and put into the prison?
(A) David
(B) Mr. Murdstone
(C) Mr. Dick
(D) Mr. Micawber
Answer:
(D) Mr. Micawber

Question 126.
Who was a black hearted man and he betraved everyone?
(A) David
(B) Micawber
(C) Uriah Heep
(D) Barkis
Answer:
(C) Uriah Heep

Question 127.
After the death of Dora David married with—
(A) Agnes
(B) Paggott
(C) Miss Lane Murdstone
(D) None of them
Answer:
(A) Agnes

Question 128.
Who is the main culprit of the novel ‘David Copperfield’?
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Creakle
(C) Uriah Heep
(D) Barkis
Answer:
(C) Uriah Heep

Question 129.
David’s sufferings started when his mother married-
(A) Mr. Creakle
(B) Mr. Murdstone
(C) Mr. Dick
(D) Mr. Micawber
Answer:
(B) Mr. Murdstone

Question 130.
Step father of David Copperfield ……………….
(A) Clara Peggoty
(B) Mr. Murdstone
(C) David Copperfield
(D) Dora Spenlow
Answer:
(B) Mr. Murdstone

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 131.
David Copperfield’s mother was ……………….
(A) Clara peggotty
(B) Betsey Trotwood
(C) Dora Spenlow
(D) Mrs. Clara Copperfield
Answer:
(D) Mrs. Clara Copperfield

Question 132.
Clara Peggotty was the ………………. Copperfield.
(A) friend
(B) hard working servant
(C) aunt
(D) sister
Answer:
(B) hard working servant

Question 133.
The family doctor of Copperfield’s family
(A) Mr. Mell
(B) Mr. Wickfield
(C) Mr. Chillip
(D) Mr. Creakle
Answer:
(C) Mr. Chillip

Question 134.
Who has written David Copperfield 1
(A) David Copperfield
(B) Charles Dickens
(C) Charles Charly
(D) Charles David
Answer:
(B) Charles Dickens

Question 135.
The owner of the school-Salem House
(A) Mr. Wickfield
(B) Mr. Quinion
(C) Mr. Mell
(D) Mr. Creakle
Answer:
(D) Mr. Creakle

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 136.
Dora Spenlow was the….
(A) beloved
(B) aunt
(C) friend
(D) sister
Answer:
(A) beloved

Question 137.
Uriah Heep is the black hearted, mischievous clerk of …………………
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Chillp
(C) Mr. Wickfield
(D) Mr. Spenlow
Answer:
(C) Mr. Wickfield

Question 138.
David’s second wife was ……………
(A) Clara
(B) Emily
(C) Miss Creakle
(D) Agnes
Answer:
(D) Agnes

Question 139.
Miss Betsey Trotwood was David’s ……………..
(A) father’s aunt
(B) father’s sister
(C) mother’s sister
(D) best friend
Answer:
(A) father’s aunt

Question 140.
………….. is the most comic figure in the novel.
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Wickfield
(C) Mr. Spenlow
(D) Mr. Creakle
Answer:
(A) Mr. Micawber

Question 141.
…………….. is the manager of the firm of Murdstone and Grinby.
(A) Mr. Dick
(B) Mr. Quinion
(C) Uriah Heep
(D) J Steerforth
Answer:
(B) Mr. Quinion

Question 142.
David revolted against ……………..
(A) Mr. Meil
(B) Mr. Barkis
(C) Mr. Creakle
(D) Mr. Murdstone
Answer:
(D) Mr. Murdstone

Question 143.
…………. drives a cart.
(A) Yawler
(B) Mr. Barkis
(C) Ham
(D) Tommy Tradles
Answer:
(B) Mr. Barkis

Question 144.
…………… was the employee of a wine-factory.
(A) Mr. Micawber
(B) Mr. Creakle
(C) Mr. Barkis
(D) J. Steerforth
Answer:
(A) Mr. Micawber

Question 145.
Charming lady, the daughter of Mr. Spenlow …………….
(A) Clara
(B) Dora
(C) Emily
(D) Peggotty
Answer:
(B) Dora

Bihar Board 12th English 50 Marks Objective Answers David Copperfield

Question 146.
Clara Peggoty’s nephew was ……………
(A) Tommy
(B) Ham
(C) Creakle
(D) Mell
Answer:
(B) Ham

Question 147.
David’s old classmate, whose father was a lawyer.
(A) Steerforth
(B) Tradles
(C) Yawler
(D) Ham
Answer:
(C) Yawler

Question 148.
Solely responsible in the turning fortunes in David’s life …………..
(A) Dora Spenlow
(B) Miss Betsey Trotwood
(C) Agnes
(D) Mrs. Murdstone
Answer:
(B) Miss Betsey Trotwood

error: Content is protected !!